inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- जाने क्या है गोवर्धन पूजा का पूरा विधि विधान, पूजन की...

देहरादून- जाने क्या है गोवर्धन पूजा का पूरा विधि विधान, पूजन की ये है विशेष मान्यता

रुद्रपुर: जसपुर कोतवाल एनबी भट्ट तरह हुए रुखसत

रुद्रपुर। जसपुर के कोतवाल नंदा बल्लभ भट्ट ने स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति ले ली है। उनकी सेवानिवृत्ति के लिए अभी दो साल बाकी थे। उनकी...

देहरादून- सीएम त्रिवेन्द्र ने भाजपा कार्यकर्ताओं को सौंपे दायित्व, जाने किसको मिली कौनसी नई जिम्मेदारी

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा विभिन्न महानुभावों को दायित्व सौपें गये हैं। यह जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री के मीडिया कोर्डिनेटर दर्शन रावत ने बताया...

नैनीताल- इस दिन प्रदेश के सभी सीएमओ होंगे कोर्ट में पेश, पढ़े क्यों हाईकोर्ट ने सुनाया ये आदेश

राज्य के अस्पतालों में डेंगू के इलाज के पर्याप्त इंतेजाम न होने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने सख्त रुख...

चोरगलिया- नंदौर में ताबातोड़ फायरिंग से दहले ग्रामीण, सीसीटीवी में हुआ ये खुलासा

नैनीताल जिले के नंदौर खनन एमबीआर गेट पर गोलियां चलने से अफरा-तफरा मच गई। पूरी घटना में एक वाहन स्वामी भी घायल हो गया।...

देहरादून- उत्तराखंड में आज इस जिले में मिले सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव केस, 7 लोगों ने गवाईं जान

उत्तराखंड में आज 473 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 75268 हो गया है। जबकि 07...

गोवर्धन पूजा यानी अन्नकूट का त्योहार आज मनाया जा रहा है। ये पर्व दीपावली के ठीक एक दिन बाद मनाया जाता है। इस दिन गौ पूजा का खास महत्व माना जाता है। माना जाता है कि गोवर्धन पूजा के दिन गौ पूजा करने और गाय को अन्न, वस्त्र उपहार स्वरूप देने से घर में सुख-समृद्धि आती है। साथ ही भगवान श्रीकृष्ण को छप्पन भोग भी लगाया जाता है।

मान्यता है कि आज ही के दिन भगवान कृष्‍ण ने ब्रजवासियों की रक्षा के लिए अपनी दिव्य शक्ति से विशाल गोवर्धन पर्वत को छोटी उंगली में उठाकर हजारों जीव-जतुंओं और ब्रजवासियों को भगवान इंद्र के कोप से बचाया था। इसके बाद इंद्र देव का घमंड चूर-चूर हुआ था और उन्होंने गोवर्द्धन पर्वत की पूजा भी की थी। तब से ही इस पर्व को गोवर्धन पूजा के रूप में मनाया जाता है।

गोवर्धन पूजा विधि

गोवर्धन पूजा के दिन सुबह शरीर पर तेल लगाकर स्नान करना चाहिए। घर के मुख्य द्वार पर गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत की आकृति बनाएं। पास में ग्वाल बाल, पेड़-पौधों की भी चित्र बनाएं। उसके बीच में भगवान कृष्ण की मूर्ति रख दें। इसके बाद भगवान कृष्ण, ग्वाल-बाल और गोवर्धन पर्वत का पूजन करें। पकवान और पंचामृत का भोग लगाएं और गोवर्धन पूजा की कथा सुनें। कथा सुनने के बाद लोगों में प्रसाद बांटने चाहिए।

Related News

रुद्रपुर: जसपुर कोतवाल एनबी भट्ट तरह हुए रुखसत

रुद्रपुर। जसपुर के कोतवाल नंदा बल्लभ भट्ट ने स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति ले ली है। उनकी सेवानिवृत्ति के लिए अभी दो साल बाकी थे। उनकी...

देहरादून- सीएम त्रिवेन्द्र ने भाजपा कार्यकर्ताओं को सौंपे दायित्व, जाने किसको मिली कौनसी नई जिम्मेदारी

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा विभिन्न महानुभावों को दायित्व सौपें गये हैं। यह जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री के मीडिया कोर्डिनेटर दर्शन रावत ने बताया...

नैनीताल- इस दिन प्रदेश के सभी सीएमओ होंगे कोर्ट में पेश, पढ़े क्यों हाईकोर्ट ने सुनाया ये आदेश

राज्य के अस्पतालों में डेंगू के इलाज के पर्याप्त इंतेजाम न होने को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने सख्त रुख...

चोरगलिया- नंदौर में ताबातोड़ फायरिंग से दहले ग्रामीण, सीसीटीवी में हुआ ये खुलासा

नैनीताल जिले के नंदौर खनन एमबीआर गेट पर गोलियां चलने से अफरा-तफरा मच गई। पूरी घटना में एक वाहन स्वामी भी घायल हो गया।...

देहरादून- उत्तराखंड में आज इस जिले में मिले सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव केस, 7 लोगों ने गवाईं जान

उत्तराखंड में आज 473 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 75268 हो गया है। जबकि 07...

रुद्रपुर: भाजपा इस तरह ऊंचाई पर पहुंचाती है अपने कार्यकर्ता को- सुरेश भट्ट

रूद्रपुर। भाजपा के नवनियुत्तफ प्रदेश महामंत्री सुरेश भट्ट का जिला मुख्यालय पहुंचने पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। आर्क होटल के...