inspace haldwani
Home सक्सेस स्टोरी देहरादून- उत्तराखंड के हर्ष देव औली को अंग्रेजों ने इसलिए दिया था...

देहरादून- उत्तराखंड के हर्ष देव औली को अंग्रेजों ने इसलिए दिया था ये नाम, नैनीताल में ली अंतिम सांस

हर्ष देव औली एक राजनेता, पत्रकार और स्वतंत्रता संग्राम सैनानी थे। उन्हें काली कुमाऊं के शेर के नाम से भी जाना जाता था। हर्ष देव का जन्म उत्तराखंड के चंपावत जिले में 4 मार्च 1890 को हुआ। 1919 में उन्हें पंडित मोती लाल नेहरू के इंडिपेंडेंट अखबार का उपसंपादक नियुक्त किया गया। जिसके एक साल बाद ही ये संपादक बने। हर्ष देव औली ने लीडर, हिंदुस्तान टाइम्स जैसे समाचार पत्रों में भी कार्य किया।

आजादी के लिए अंग्रेजों से जमकर लिया लोहा

आजादी के प्रति उनके जूनून और विचारों को देखते हुए 1923 में नाभा एस्टेट के राजा रिपुदमन सिंह ने उन्हें अपना सलाहकार नियुक्त किया। 1924 में ये फारेस्ट ग्रीवेंस कमेटी के उपाध्यक्ष भी बने। सन् 1930 में औली ने जंगलात कानून के विरोध में सविनय अवज्ञा आंदोलन चलाया। उन्होंने 1929 में लाहौर में कांग्रेस के वार्षिक अधिवेशन में

कुमाऊं क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया और आजादी की लड़ाई में अंग्रेजों से जमकर लोहा लिया। उनके कारनामों के कारण गोरे शासक उन्हें मुसोलिनी कहते थे। मुसोलिनी उन दिनों इटली का एक राजनेता था, जिसे फासीवाद का जनक माना जाता है। उसके विचार और हर्ष देव के विचार में तालमेल होने के कारण उन्हें ये नाम दिया गया। 5 जून 1940 को नैनीताल में हर्ष देव औली की मृत्यु हो गई।

Related News

देहरादून- देवभूमी के इस लाल को वीरता के लिए मिले कई सम्मान, देश की रक्षा को त्यागे प्राण

मोहन चंद शर्मा दिल्ली पुलिस के एक विशेष कक्ष निरीक्षक थे, जो 2008 में नई दिल्ली में हुए बटला हाउस मुठभेड़ के दौरान शहीद...

देहरादून- बॉलीवुड के इस प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक का है देवभूमि से गहरा नाता, दें चुके कई बड़ी फिल्में

अली अब्बास जफर एक भारतीय फिल्म अभिनेता, निर्देशक और पटकथा लेखक हैं। उन्होंने 2011 में "मेरे ब्रदर की दुल्हन फिल्म डायरेक्ट कर बॉलीवुड में...

देहरादून- उत्तराखंड के इस सख्श को इसलिए कहा जाता है गढ़वाली लोक संगीत का जनक, पढ़े कैसे हासिल किया मुकाम

जीत सिंह नेगी उत्तराखंड के एक गायक, लेखक और निर्देशक थे। उन्हें आधुनिक गढ़वाली लोक संगीत का जनक माना जाता है। उनका जन्म 2...

देहरादून- उत्तराखंड के इस कलाकार ने गढ़वाली गीतों को दिलाया अलग मुकाम, बॉलीवुड सिंगर भी हुए कायल

उत्तराखंड के नौजवानों ने हर स्तर पर अपने हुनर की छाप छोड़ी है। फिर चाहे बात छोटे पर्दे की हो या बड़े पर्दे की...

देहरादून- उत्तराखंड के इस लाल ने शुरू किया था डोला-पालकी आंदोलन, ऐसे पौड़ी में अंग्रेज गवर्नर का किया था विरोध

जयानन्द भारती भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं सामाजिक कार्यकर्ता थे। जिन्होंने डोला-पालकी आन्दोलन चलाया। यह वह आन्दोलन था जिसमें शिल्पकारों के दूल्हे-दुल्हनों को...

देहरादून- पढ़े कैसी थी उत्तराखंड के पहले कवि की कहानी, 12 सल तक रखा ब्रह्मचर्य व्रत

गुमानी पन्त कुमाऊँनी तथा नेपाली के प्रथम कवि थे। कुछ लोग उन्हें खड़ी बोली का प्रथम कवि भी मानते हैं। उनका जन्म उत्तराखंड के...