देहरादून- प्रदेश में शिक्षकों के 12 हजार पदों को भरने के लिए सरकार कर रही ये काम, आप भी उठायें फायदा

Slider

प्रदेश में खाली पड़े 12 हजार शिक्षक पदों को भरने के लिए सरकार 40 हजार प्रशिक्षित बेरोजगारों की पुनह टीईटी की परीक्षा कराने जा रही है। शिक्षक बनने की ताक लगायें बैठे हजारों बीएड प्रशिक्षित को एक बार फिर ये परीक्षा उत्तरीर्ण करनी होगी, जिसके बाद उनके शिक्षक बनने की राह आसान हो जाएगी। पहले परीक्षा दें चुके बीएड प्रशिक्षितों के मुताबिक अधिकतर प्रशिक्षितों की टीईटी की वैधता अवधि समाप्त हो चुकी है या फिर समाप्त होने की कगार पर है।

12 हजार पद है खाली

वही उत्तराखंड बीएड प्रशिक्षित बेरोजगार संगठन के प्रदेश महासचिव बलवीर बिष्ट के मुताबिक प्रदेश में 40 हजार बीएड प्रशिक्षित हैं। जिसमें कुछ ने 2011 और 2013 में अध्यापक पात्रता परीक्षा प्रथम और द्वितीय श्रेणी में पास की थी। एनसीईआरटी की ओर से इसके प्रमाण पत्र की वैधता सात वर्ष रखी गई थी। ऐसे में वर्ष 2011 में टीईटी पास करने वालों के प्रमाण पत्र की वैधता अवधि पूरी हो चुकी है।

Slider

uttarakhand education news

जबकि 2013 में टीईटी पास करने वाले बेरोजगार की वैधता अवधि भी खत्म होने की कगार पर है। उन्होंने कहा कि जिन बेरोजगारों की शिक्षक बनने की आयु सीमा अभी है। उन्हें फिर से टीईटी करना होगा। प्रदेश उपाध्यक्ष नरेंद्र तोमर के मुताबिक प्रदेश में शिक्षकों के करीब 12 हजार खाली पदों पर समय से भर्ती न होने से यह स्थिति बनी है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें