देहरादून-शासन ने प्रदेश के 52 चिकित्सकों की सेवा की समाप्त, जानिये क्या है पूरा मामला

190

देहरादून-लंबे समय से प्रदेश भर की अस्पतालों से गायब चल रहे चिकित्सकों की सेवा ने समाप्त कर दी है। प्रदेश में करीब 52 चिकित्सकों के त्यागपत्र मंजूर करते हुए उनकी सेवाएं समाप्त कर दी है। इनके स्थान पर अब नए चिकित्सकों की भर्ती की जाएगी। शासन ने चिकित्सकों के त्यागपत्र स्वीकार करते हुए इस संबंध में आदेश जारी किए हैं। सचिव स्वास्थ्य नितेश कुमार झा की ओर से जारी आदेश के अनुसार 11 जिलों में गैरहाजिर 52 डॉक्टरों की सेवाएं समाप्त की गईं हैं। बता दें कि वर्ष 2003, 2004, 2012 और 2016 में इन डॉक्टरों को नियुक्ति दी गई थी।

Uttarakhand Docoter Govt.

लंबे समय से चल रहे थे गैरहाजिर

नियुक्ति के बाद से ये सभी डाक्टर गैरहाजिर चल रहे हैं। इसमें कुछ डॉक्टर अपना क्लीनिक चला रहे हैं। वहीं, कुछ निजी अस्पतालों में सेवाएं दे रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग की ओर से नोटिस देने के बाद चिकित्सक वापस नहीं लौटे। हाल ही में शासन ने स्वास्थ्य महानिदेशक से गैरहाजिर डॉक्टरों की रिपोर्ट मांगी थी। जिस पर कार्रवाई करते हुए शासन ने 52 डॉक्टरों की सेवाएं समाप्त कर दी हैं। इससे पहले भी 35 डॉक्टरों की सेवाएं समाप्त की गई थीं। सचिव स्वास्थ्य नितेश कुमार झा ने कहा कि 52 चिकित्सक सेवाएं देने के लिए नहीं थे।

नैनीताल में सात चिकित्सक थे गैरहाजिर

आज ऊधमसिंह नगर जिले से तीन, अल्मोड़ा से पांच, उत्तरकाशी से तीन, पिथौरागढ़ से छह, रुद्रप्रयाग से छह, देहरादून से पांच, चंपावत से पांच, हरिद्वार से पांच, नैनीताल से सात, पौड़ी से पांच और बागेश्वर से दो डॉक्टरों की सेवाओं को समाप्त किया गया। सरकार के प्रयासों के बाद भी चिकित्सक अपने नियुक्ति स्थान से ड्यूटी से गायब हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here