inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- बंद हुई उत्तराखण्ड में चीनी कंपनियों की एंट्री, त्रिवेन्द्र सरकार ने...

देहरादून- बंद हुई उत्तराखण्ड में चीनी कंपनियों की एंट्री, त्रिवेन्द्र सरकार ने इसलिए उठाया ये बड़ा कदम

भारत चीन सीमा पर लंबे समय के चल रहे विवाद के बीच उत्तराखंड की त्रिवेन्द्र सरकार ने चीन को झटका देने का फैसला किया है। उत्तराखण्ड सरकार ने अपनी खरीद नियमावली को दरिकनार कर केन्द्र के उस सामान्य वित्तीय नियम-2017 को अंगीकृत कर लिया है जिसमें चीन को सबक सिखाने के लिए हाल ही में संशोधन किया गया था। अब चीन समेत अन्य पड़ोसी देशों की कोई भी कम्पनी या फर्म उत्तराखण्ड में खरीद के लिए निकाले गए किसी भी प्रकार के ग्लोबल टेंडर में सीधे प्रतिभाग करने की हकदार नहीं होंगी। इसके लिए उन्हें विशेष अनुमति की आवश्यकता होगी।

केन्द्र की रोक के बावजूद टेंडर प्रक्रिया में शामिल चीन

बता दें कि इस सम्बंध में लाए गए प्रस्ताव को राज्य मंत्रिमण्डल ने आज मंजूरी दे दी है। कुछ समय पहले भारत सरकार ने सामान्य वित्तीय नियम, 2017 को संशोधित किया ताकि उन देशों के बोलीदाताओं पर नियंत्रण लगाया जा सके जिनकी सीमा भारत से लगती हैं। देश की रक्षा और सुरक्षा से जुड़े मामलों को ध्यान में रखते हुए यह कदम उठाया गया है। लेकिन राज्यों की केन्द्र से अलग अपनी खरीद नियमावली होती है। हो यह रहा था कि कुछ राज्यों की

नियमावली में ऐसा कोई प्राविधान नहीं है कि जिनके आधार पर देश की सुरक्षा के लिए खतरा बने पड़ोसी देशों की कम्पनियों व फर्म को ग्लोबल टेंडर में शामिल होने से रोका जा सके। यही वजह रही कि केन्द्र की रोक के बावजूद चीन की कुछ कम्पनियों ने भारत के राज्यों में टेण्डर प्रक्रिया में प्रतिभाग कर लिया। ऐसे में जरूरत महसूस हुई कि सीमावर्ती राज्य भी भारत सरकार के सामान्य वित्तीय नियम, 2017 कों अंगीकृत करें। चूंकि चीन की सीमा उत्तराखण्ड से लगती है इसलिए त्रिवेन्द्र सरकार ने इस ओर कदम उठाया है।

सामान्य वित्तीय नियम-2017 से होगा ये बदलाव

उत्तराखण्ड में केन्द्र सरकार का सामान्य वित्तीय नियम-2017 लागू होने से पड़ोसी देशों की कोई फर्म सुरक्षा मंजूरी और एक विशेष समिति के पास पंजीकरण के बाद ही ग्लोबल टेंडर में प्रतिभाग कर सकेंगी। केन्द्र सरकार के नियम में है कि ‘भारत की सीमा से लगे देशों का कोई भी आपूर्तिकर्ता भारत में सार्वजनिक परियोजनाओं के लिए वस्तुओं,

सेवाओं (परामर्श और गैर-परामर्श समेत) की आपूर्ति के अनुबंध या परियोजना कार्यों के लिये तभी बोली लगा सकेगा जब वह उचित प्राधिकरण के पास पंजीकृत होगा। इसमें कहा गया है कि पंजीकरण के लिये उचित प्राधिकरण उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग (डीपीआईआईटी) द्वारा गठित पंजीकरण समिति होगी। इसके लिये विदेश और गृह मंत्रालय से राजनीतिक और सुरक्षा संबंधी मंजूरी अनिवार्य होगी।

Related News

देहरादून- ऊर्जा निगम के इन पदों पर जल्द होगी भर्ती, इस विश्वविद्यालय को सौंपी जिम्मेदारी

ऊर्जा निगम में अवर अभियंता, सहायक अभियंता के सीधी भर्ती के रिक्त 105 पदों को शीघ्र भरा जाएगा। इन पदों पर भर्ती परीक्षा जीबी...

देहरादून- उत्तराखंड की बेटी इस फिल्म में नज़र आएगी बॉलीवुड स्टार रणबीर कपूर के साथ, इस अभिनेत्री को किया रिप्लेस

उत्तराखंड की तृप्ति डिमरी जल्द अभिनेता रणबीर कपूर के साथ बॉलीवुड फिल्म एनीमल में नजर आएंगी। वर्ष 2017 में निर्देशक श्रेयस तलपड़े की फिल्म...

हल्द्वानी- यहां जीजा के नाम पर युवक की जेब ऐसे हुई साफ, पढ़े क्या है पूरा मामला

नगर में साइबर ठगी का एक और मामला प्रकाश में आया है। यहां एक व्यक्ति ने खुद को फोन पर रिश्ते में जीजा बताकर...

त्रिवेंद्र सरकार का भूतपूर्व सैनिको को बड़ा तोहफा ,अब उच्च पदों में आवेदन को मिली आयु सीमा में छूट,देखें आदेश

देहरादून. त्रिवेंद्र सरकार ने अब एक्स सर्विसमैन जो पहले से ही राज्य सरकार के सी और डी श्रेणी के पदों में कार्यरत है उनको...

देहरादून- उत्तराखंड में आज सामने आये कोरोना के इतने नये मामले, इन जिलों में नहीं एक भी केस

प्रदेश में आज कोरोना के 120 नए मामले सामने आए है। इसी के साथ राज्य में कोरोना का आंकड़ा 94923 पहुंच गया है। इधर...

हल्द्वानी- महिला डॉन! का अजब कारनामा, इतनी सी बात और यहां के युवक को बनाया बंधक

डुप्लेक्स खरीदने के नाम पर एक व्यक्ति ने महिला व उसके पुत्र पर लाखों रुपये की धोखाधड़ी किये जाने का आरोप लगाया है। पुलिस...