inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून-सडक़ किनारे चाय बेचकर परिवार पाल रहा पिता, अब बेटा बनेगा कैमिकल...

देहरादून-सडक़ किनारे चाय बेचकर परिवार पाल रहा पिता, अब बेटा बनेगा कैमिकल इंजीनियरिंग

देहरादून- सरकार के इस फैसले से उत्तराखंड पुलिस के खिल जाएंगे चेहरे, होगा ये फायदा

शासन ने उत्तराखंड पुलिस के कर्मचारियों को छठे वेतनमान की सिफारिशों के तहत उच्चीकृत वेतन ग्रेड पर एरियर की सौगात दे दी है। हाईकोर्ट...

पिथौरागढ़- भारत से पेंशन लेकर लौट रहे 5 नेपाली पेंशनरों को मिली दर्दनाक मौत, ऐसे हुआ पूरा हादसा

भारत से पेंशन लेकर जा रहे नेपाली पेंशनरों की एक जीप नेपाल में झूलाघाट से करीब सात किमी दूर सड़क से पलटकर डेढ़ सौ...

उत्तराखंड- सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने षडयंत्रकारियों को ऐसे किया चारों खाने चित, पैने चार साल की रही बेमिसाल परफार्मेंस

बीते तकरीबन पौने चार साल की परफार्मेंस से उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी कार्यशैली से सरकार और संगठन के अलावा केंद्र...

देहरादून- उत्तराखंड में कोरोना का आकड़ा बढ़कर पहुंचा इतना , आज 11 लोगों ने गवाईं जान

उत्तराखंड में आज 528 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में आंकड़ा बढ़कर 72160 हो गया है। जबकि 11 लोगों की...

लालकुआं- डीएम सविन बंसल ने इस अधिकारी को किया निलंबित, जाने क्या रही इस एक्शन की बड़ी वजह

कानूनगो रजिस्ट्रार के पद पर पदोन्नति के बाद की गई तैनाती स्थल पर योगदान ना करने उच्च अधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने तथा...

देहरादून-कहते है पूत के पांव पालने में ही दिख जाते है। ऐसा ही हुआ ऋषिकेश के रहने वाले व्योम गुप्ता के साथ। गरीब परिवार के व्योम ने कड़ी मेहनत से आसमान छूं लिया। व्योम गुप्ता ने जेईई परीक्षा पास कर देश के प्रतिष्ठित संस्थान आइआइटी दिल्ली में कैमिकल इंजीनियरिंग में दाखिला पाया है।

गरीबी से व्यक्ति को आगे बढऩे में जोश भरती है ये गरीबों की ये पंक्तियां सच साबित हुई। व्योम ने इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया है। वो पिता जो सडक़ किनारे चाय बेचकर परिवार को पाल रहा है वही व्योम के सबसे बड़े देवता है।

Vyom Gupra Dehradun

चाय का ठेला लगाते है व्योम के पिता

ऋषिकेश के संजय गुप्ता सडक़ किनारे चाय का ठेला लगतार अपने परिवार का भरण-पोषण कर रहे है। उनके बेटे व्योम ने देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थान आइआइटी में अपनी कठिन लगन और परिश्रम के बूते प्रवेश जो पाया है। इसकी चर्चाएं पूरे क्षेत्र में है। व्योम बचपन से ही पढ़ाई में काफी होशियार है। दो भाइयों में सबसे बड़ा व्योम है। इससे पहले 10वीं में व्योम ने 94 प्रतिशत अंक हासिल किये उसके बार 12वीं में 97.4 प्रतिशत अंक हासिल का अपने माता-पिता का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया।

दिल्ली को हुआ रवाना

इसके बाद वह प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी में जुट गया। गत वर्ष ही इंजीनियरिंग के लिए एनआइटी जयपुर में उसका चयन हो गया था। उसने इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में प्रवेश भी ले लिया था। लेकिन उसे कुछ बड़ा करना था। जिसके बाद उसने आइआइटी के लिए तैयारी की और मिल गई सफलता। इस साल व्योम ने जेईई एडवांस में 2045 रैंक व मेंस में 4642 रैंक हासिल कर आखिर आइआइटी में प्रवेश पा ही लिया। व्योम ने आइआइटी दिल्ली में कैमिकल इंजीनियरिंग में प्रवेश लिया है। तीन जुलाई को व्योम दिल्ली के लिए रवाना हो गया।

Related News

देहरादून- सरकार के इस फैसले से उत्तराखंड पुलिस के खिल जाएंगे चेहरे, होगा ये फायदा

शासन ने उत्तराखंड पुलिस के कर्मचारियों को छठे वेतनमान की सिफारिशों के तहत उच्चीकृत वेतन ग्रेड पर एरियर की सौगात दे दी है। हाईकोर्ट...

पिथौरागढ़- भारत से पेंशन लेकर लौट रहे 5 नेपाली पेंशनरों को मिली दर्दनाक मौत, ऐसे हुआ पूरा हादसा

भारत से पेंशन लेकर जा रहे नेपाली पेंशनरों की एक जीप नेपाल में झूलाघाट से करीब सात किमी दूर सड़क से पलटकर डेढ़ सौ...

उत्तराखंड- सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने षडयंत्रकारियों को ऐसे किया चारों खाने चित, पैने चार साल की रही बेमिसाल परफार्मेंस

बीते तकरीबन पौने चार साल की परफार्मेंस से उत्तराखंड में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी कार्यशैली से सरकार और संगठन के अलावा केंद्र...

देहरादून- उत्तराखंड में कोरोना का आकड़ा बढ़कर पहुंचा इतना , आज 11 लोगों ने गवाईं जान

उत्तराखंड में आज 528 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में आंकड़ा बढ़कर 72160 हो गया है। जबकि 11 लोगों की...

लालकुआं- डीएम सविन बंसल ने इस अधिकारी को किया निलंबित, जाने क्या रही इस एक्शन की बड़ी वजह

कानूनगो रजिस्ट्रार के पद पर पदोन्नति के बाद की गई तैनाती स्थल पर योगदान ना करने उच्च अधिकारियों के आदेशों की अवहेलना करने तथा...

उत्तराखंड- जाने कैसी है पद्मश्री डॉ. अनिल प्रकाश जोशी के संघर्ष की कहानी, रह चुके है ‘मैन ऑफ द ईयर’

अनिल प्रकाश जोशी एक भारतीय हरित कार्यकर्ता, सामाजिक कार्यकर्ता, वनस्पति विज्ञानी और हिमालयी पर्यावरण अध्ययन और संरक्षण संगठन HESCO के संस्थापक हैं। 6 अप्रैल...