inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून - जोशीले त्रिवेंद्र : खाली हाथों को रोजगार दे रही...

देहरादून – जोशीले त्रिवेंद्र : खाली हाथों को रोजगार दे रही मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना

देहरादून – कोरोना काल में उत्तराखंड सरकार द्वारा प्रारंभ की गई मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना हजारों बेरोजगार हाथों को सम्मानजनक तरीके से आजीविका प्रदान करने का बड़ा माध्यम बन रही हैै। योजना के तहत अब तक हजारों लोग सरकार की मदद से अपना स्वरोजगार प्रारंभ कर चुके हैं।
कोविड-19 ने इस साल देश-दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं पर ब्रेक लगा दिया था। ऐसे में लाखों लोग बेरोजगार हो गए। उत्तराखंड के लोग भी इस संकट से अछूते नहीं रहे। महानगरों में रहकर अपना जीवन-यापन कर रहे लोगों के जब रोजगार छिने तो वे वापस अपनी मातृभूमि की ओर लौटे। ऐसे में अपनी आवाम के प्रति चिंतित त्रिवेंद्र सरकार एक मसीहा की तरह आगे आई। उत्तराखंड में ही रहकर लोगों को रोजगार मिल सके इस दिशा में राज्य सरकार की ओर से मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना प्रारंभ की गई। इसमें विभिन्न विभागों की स्वरोजगार योजनाओं को एक प्लेटफार्म पर लाकर युवाओं को अपनी पसंद, दक्षता और उपयोगिता के अनुसार स्वरोजगार प्रारंभ करने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत 55 से अधिक कार्य क्षेत्रों में सरकार की वित्तीय मदद से लोग अपना स्वरोजगार प्रारंभ कर सकते हैं।
मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत सामान्य श्रेणी के लाभार्थियों द्वारा परियोजना लागत का दस प्रतिशत खुद के अंशदान के रूप में बैंक में जमा करना होता है जबकि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक भूतपूर्व सैनिक, महिला और दिव्यांगजन श्रेणी के लाभार्थियों को कुल परियोजना लागत का पांच प्रतिषत अंशदान बैंक में जमा करना होगा।
अब तक इस योजना के तहत 7029 लोगों के लोन प्रस्ताव को कमेटी द्वारा अनुमोदित किया जा चुका है। अल्मोड़ा से 474, बागेश्वर से 369, चंपावत से 424, चमोली से 395, देहरादून से 482, हरिद्वार से 466, नैनीताल से 570, पौड़ी से 665, पिथौरागढ़ से 501, रूद्रप्रयाग से 330, टिहरी से 610, उधमसिंहनगर से 525 तो उत्तरकाशी से 1218 लोगों के प्रस्तावों को कमेटी अनुमोदित कर चुकी है। कुल 1134 लोगों को अब तक इस योजना में ऋण वितरित किया जा चुका है।

योजना में लोन एवं अनुदान का प्रावधान

योजना के तहत नेशनलाइज्ड बैंक चयनित लोगों को मैन्युफेक्चरिंग, सर्विस सेक्टर के साथ ही दूसरी व्यावसायिक गतिविधियां प्रारंभ करने के लिए वित्तीय सहायता दे रहे हैं। इसके लिए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम विभाग द्वारा मार्जिन मनी की धनराषि अनुदान के रूप में उपलब्ध कराई जाएगी। विनिर्माण क्षेत्र के लिए अधिकतम परियोजना की अधिकतम लागत 25 लाख रूपए तय है तो सेवा और व्यवसाय क्षेत्र के लिए अधिकतम दस लाख तक की गई है।

Related News

हल्द्वानी : यहां गुलदार के शव मिलने से वन विभाग में सनसनी , देखे पूरी खबर

हल्द्वानी - तराई पूर्वी वन प्रभाग के गौला रेंज अंतर्गत चोडाघाट क्षेत्र में करीब पांच वर्षीय एक गुलदार का शव मिलने से वन विभाग...

कलयुगी बेटा अपनी ही माँ को ऐसे सुलाया मौत की नींद

देहरादून के डालनवाला में एक बुजुर्ग महिला की गला दबाकर हत्या कर दी गई। हत्या का खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ।पुलिस ने शुरुआती जांच...

किसान ट्रैक्टर रैली में उत्तराखंड के युवक की मौत का सच, देखिये पुलिस ने क्या कहा?

दिल्ली किसान परेड में उत्तराखंड के युवक की मौत की खबर सोशल मीडिया में वायरल हो रही है जिस पर पुलिस ने सख्त रुख...

बीजेपी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रेखा वर्मा का कुमाऊं दौरा , 65 सीटे जीतने का किया दावा

बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और उत्तराखंड की सह प्रभारी रेखा वर्मा में आज हल्द्वानी में कार्यकर्ताओं के साथ संवाद किया, इस मौके पर उन्होंने...

किच्छा: बेहड़ ने किसान ट्रैक्टर रैली को दिखाई हरी झंडी, कही ये बात

किच्छा। पूर्व मंत्री व वरिष्ठ कांग्रेसी नेता तिलकराज बेहड़ ने आज किच्छा टोल प्लाजा से लालपुर के किसानों की ट्रेक्टर रैली को हरी झंडी...

रुद्रपुर: सांसद रेखा वर्मा ने किया जिला पंचायत में ध्वजारोहण, दिया यह संदेश

रुद्रपुर। भाजपा की उत्तराखंड सह प्रभारी एवं सांसद रेखा वर्मा ने जिला पंचायत अध्यक्ष रेनू गंगवार के साथ जिला पंचायत में ध्वजारोहण किया। सांसद वर्मा...