drishti haldwani

देहरादून-सीएम त्रिवेन्द्र ने मनाया जन्मदिन, जानियें क्या है विकास के क्षेत्र में उनकी उपलब्धियां

108

देहरादून-न्यूज टुडे नेटवर्क- प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत आज अपना जन्मदिन मना रहे है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के जन्मदिवस के अवसर पर गुरूवार को मुख्यमंत्री आवास में विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, मेयर देहरादून सुनील उनियाल गामा, प्रशासनिक अधिकारियों व अन्य गणमान्य लोगों ने बधाई व शुभकामनाएं दी। बता दें कि सीएम त्रिवेंद सिंह रावत का जन्म 20 दिसम्बर 1960 को पौड़ी गढ़वाल में हुआ। उनका विवाह सुनीता रावत से हुआ। सीएम त्रिवेंद ने सामाजिक एवं राजनीति कार्यो में अच्छा ध्यान दिया। इससे पहले सीएम त्रिवेंद सिंह रावत बीजेपी एवं राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के प्रचारक रहे है। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की हार हुई व बीजेपी सत्ता में आयी। विधानसभा के बहुमत दल के नेता त्रिवेंद रावत को उत्तराखंड का मुख्यमंत्री बनाया गया और 17 मार्च 2017 को चीफ मिनिस्टर के रूप में इन्हें शपथ ग्रहण की। इसके बाद उन्होंने प्रदेश में कई विकास कार्यों का अंजाम दिया है।

iimt haldwani

एक नजर सीएम त्रिवेन्द्र के राजनीति जीवन पर-

उन्होंने श्रीनगर गढ़वाल विश्वविद्यालय 1983 से परास्तानक की उपाधि प्राप्त की और 1984 पत्रकारिता के क्षेत्र में डिप्लोमा हासिल किया। सीएम त्रिवेंद सिंह रावत का राजनीति का सफर 1979 में शुरू हुआ जब वे राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ से जुड़े। इसके बाद वर्ष 1981 तक उन्होंने संघ का प्रचार किया और इसमें लगन व मेहनत दिखाई। वही वर्ष 1985 में त्रिवेंद रावत देहरादून नगर के प्रचारक बने। सन1993 में सामाजिक एवं संघटन मंत्री बने। इसके बाद वर्ष1997 में उत्तराखंड प्रदेश के संघटन महामंत्री बनाये गये। 2002 में रावत डोईवाला वाला विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ें और जीत मिली। वही वर्ष 2007 में फिर डोईवाला विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीते और बीजेपी के मंत्रीमंडल में कैबिनेट मंत्री के तौर पर कैबिनेट मंत्री बने। वर्ष 2017 में डोईवाला क्षेत्र से चुनाव लड़े और विजयी हुए और विधायक दल के नेता के रूप चुन लिये गये। उसके बाद 17 मार्च को उत्तराखंड के नव निर्वाचित मुख्यमंत्री बनाये गये।

विकास के उठाये कई ठोस कदम

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कई सरकरी योजनाओं से प्रदेश का विकास किया। इस दौरान आम जनता, गरीब, पिछड़े और दलित समाज के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार ने कई ठोस कदम उठाये। उन्होंने समाज के निचले पायदान पर खड़े व्यक्ति तक विकास योजनाएं पहुंचाने की मंशा जताई। विकास योजनाओं का वास्तविक लाभ पात्र व्यक्ति को मिले, इसके लिए उन्होंने कार्यभार ग्रहण करने के दिन से ही पहल शुरू कर दी थी। मुख्यमंत्री ने आधुनिक तकनीक का उपयोग करते हुए भ्रष्टाचार पर प्रभावी अंकुश लगाया। ऐसी व्यवस्था की गई है कि फेसबुक, ट्विटर जैसे सोशल मीडिया माध्यमों के जरिए कोई भी व्यक्तिअपनी समस्या सीधे मुख्यमंत्री तक पहुंचा सकता है।

folder (1)

समाधान पोर्टल पर किये कई समस्याओं के समाधान

वही समाधान पोर्टल पर शिकायत दर्ज कराने के लिए टोल फ्री नम्बर 1905 की व्यवस्था की गई है तथा आईवीआरएस के माध्यम से स्थानीय बोलियों में भी शिकायतें दर्ज करने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। जिनमें 2019 तक हर घर को बिजली एवं शत-प्रतिशत साक्षरता, 2022 तक सबको घर, किसानों की आय दोगुनी करने तथा पांच लाख बेरोजगार युवाओं के लिए कौशल विकास का लक्ष्य रखा गया है। पंडित दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अन्तर्गत शेष 63 ग्रामों का विद्युतीकरण दिसम्बर 2017 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। समस्त परिवारों को 2019 तक विद्युत कनेक्शन देने का लक्ष्य है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के जन्मदिन के अवसर पर भाजपा हल्द्वानी नगर द्वारा बेस हॉस्पिटल में मरीजों को फल व स्नेक्स वितरण का कार्यक्रम किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष प्रदीप बिष्ट मंडल अध्यक्ष विजय मनराल, प्रकाश रावत जी, रेनू अधिकारी, प्रदीप जनोटी, जितेन्द्र मेहता, विनित अग्रवाल,तनमय रावत,हितेश पांडेय, प्रतिभा जोशी, सूरज गोदियाल, महबूब अली, प्रताप रेकवाल,संदीप भोज, कनिष्क ढींगरा समेत दर्जनों कार्यकर्ता उपस्थित थे।