देहरादून- कोविड-19 से मरने वालों के लिए सीएम ने की ये घोषणा, सभी जिलों को दिये ये सख्त निर्देश

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण बेकाबू आग की तरह फैलता जा रहा है। प्रदेश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आकड़ा हर दिन बढ़ रहा है, गुरुवार को जारी बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 1145 पहुंच गई है, जबकि 10 लोग इस महामारी की चपेट में आकर जान गवा चुके है। कोविड-19 के बिगढ़ते हालतों को देखते हुए प्रदेशवासी कोरोना भय में जीने को मज़बूर है। स्वास्थ्य विभाग भी इस महामारी से निपटने के लिए हर दिन सुविधायें बेहतर कर रहा है।

CM trivendra singh rawat news

Slider

मृतक के आश्रित को मिलेगा 1 लाख

बुधवार दो बजे जारी बुलेटिन में कोरोना से 8 मौते सामने आई थी, जबकि गुरुवार को ये संख्या 10 हो गई है। यानि 24 घंटे में कोविड-19 से प्रदेश दो मौते हुई है। कोरोना से हो रही मौते पर प्रदेश सरकार भी गंभीर नज़र आ रही है। सूबे के मुखिया त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने ऐसे हालातों में मृतक के आश्रित को एक लाख की सहायता राशी दिये जाने का ऐलान किया है। इसके साथ ही प्रदेश की सुरक्षा मद्देनज़र मुख्यमंत्री ने कन्टेनमेंट जोन में गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करवाये जाने के निर्देश प्रशासन को दिए है।

होम क्वारेंटाईन का आकस्मिक निरीक्षण

वीडियो कांफ्रेंसिग द्वारा प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने सभी जिलों के क्वारेंटाईन सेंटरो में आवश्यक सुविधाओ की उपलब्धता सुनिश्चित कराने की बात कही है। होम क्वारेंटाईन का मानकों के अनुरूप पालन हो रहा है या नहीं, इसके लिए आकस्मिक निरीक्षण के निर्देश जारी किये है। गांवों में क्वारेंटाईन फेसिलिटी पर विशेष ध्यान देने के सभी जिलो को निर्देश दिये है। इसके लिए ग्राम प्रधानों को निर्देशानुसार धनराशि दी जाने साथ ही कोविड केयर सेंटर में प्रशिक्षित स्टाफ व अन्य आवश्यक उपकरणों की व्यवस्था करने की बात उन्होंने की है।

CM trivendra singh rawat news

बजट की कमी नहीं- सचिव

इस दौरान सचिव अमित नेगी ने कहा कि कोविड-19 के लिए कुल 686 करोड़ रूपए का बजट उपलब्ध कराया जा चुका है। इसमें एनएचएम को 160 करोङ रूपए, चिकित्सा शिक्षा को 150 करोड़, एसडीआरएफ से स्वास्थ्य को 16 करोड़ रूपए, जिला प्लान में 150 करोड़ रूपए, डीएम फंड में 70 करोड़ रूपए, सीएम राहत कोष से 50 करोड़ रूपए और एसडीआरएफ से जिलाधिकारियों को 90 करोङ रूपए उपलब्ध कराए गए हैं। सचिव की माने तो बजट की कोई कमी नहीं है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें