देहरादून- टिड्डी दल के खतरे से उत्तराखंड में जारी अलर्ट, गन्ना विभाग ने किसानों को दिए ये निर्देश

Slider

टिड्डी दल के खतरे को देखते हुए गन्ना विभाग ने अलर्ट जारी कर दिया है। देश के कई राज्यों में टिड्डी दल की दस्तक के बाद अब उत्तराखंड में भी इसके आने की आशंका है। जिसको देखते हुए प्रदेश के गन्ना किसानों के लिए गन्ना विभाग ने अलर्ट जारी किया है। गन्ना आयुक्त ललित मोहन रयाल के मुताबिक इस समय गन्ने की फसल उगी हुई है। किसान रात-दिन गन्ने की फसल को तैयार करने में जुटे है।

Locust Attack uttarakhand farmer alert

Slider

वहीं टिड्डी दल लाखों की संख्या में झुंड बनाकर एक जगह से दूसरी जगह जाता है। इससे खतरा बड़ा है। ऐसे में सभी गन्ना पर्यवेक्षकों को निर्देश दिए गए हैं कि वह गांवों में जाकर किसानों को जागरूक करें और टिड्डी दल से निजात पाने के उपायों के बारे में जानकारी दें। कृषि विशेषज्ञों ने भी किसानों से टिड्डी दल से सतर्क और जागरूक रहने की अपील की है। कहा कि टिड्डियों से तेज आवाज और दवाओं के स्प्रे से फसलों का बचाव करें।

रोकथाम के उपाय

-टिड्डी दल के हमले से बचने को किसान एक साथ टीन के डिब्बे बजाएं, शोर मचाएं।
-खेतों में धुंआ करने के साथ ही पानी भर दें ताकि वह खेत में ना बैठ पाएं।
-किसान लगातार खेत और पेड़ों की निगरानी रखें।
-फेनुवल डस्ट, मैलाथियान 10 किग्रा प्रति एकड़ के साथ छिड़काव करें। सुबह के समय ही छिड़काव किया जाए।
-क्लोरोपॉयरीफांस 50 फीसद ईसी के साथ 200 लीटर का घोल बनाकर एक एकड़ में छिड़काव करें, छिड़काव का समय रात्रि 11 बजे से लेकर सुबह आठ बजे तक उपयुक्त है।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें