inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- होम आईसोलेशन के लिए संक्रमित मरीज इस एप में भरे जानकारी,...

देहरादून- होम आईसोलेशन के लिए संक्रमित मरीज इस एप में भरे जानकारी, होगी ये प्रक्रिया

देश के अन्य राज्यों की तरह उत्तराखंड में भी कोरोना संक्रमितों को होम आइसोलेशन में रखने की व्यवस्था की गई है। इसके लिए गाइडलाइन जारी कर दी गई है। होम आइसोलेशन में बिना लक्षण वाले कोरोना संक्रमितों को ही रखा जाएगा। होम आइसोलेशन की अवधि 17 दिन की होगी। इसके लिए प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग द्वारा गाईड लाईन जारी कर दी गई है। स्वास्थ्य सचिव अमित नेगी के मुताबिक कोरोना संक्रमित उन मरीजों को होम आइसोलेशन की सुविधा दी जाएगी, जिनमें कोरोना के लक्षण नजर नहीं आएंगे। अंतिम दस दिनों में बुखार या अन्य कोई लक्षण न आने पर होम आइसोलेशन समाप्त किया जाएगा। इसके बाद मरीज को टेस्ट कराने की आवश्यकता नहीं होगी।

corona sample

मरीज कैसे होंगे होम आइसोलेट

इसके लिए संक्रमित मरीज को सबसे पहले अपने स्मार्ट फोन में स्वास्थ्य विभाग के आइसोलेशन एप dgmhuk-covid19.in/covid19.apk को डाउनलोड करना होगा और नियमित रूप से उसमें पूछी गई सभी जानकारियां भरनी होगी। एक बार आप इसमें अपनी सारी जानकारी भरदेंगे उसके बाद जिले के मुख्य चिकित्साधिकारी के जरिए गठित टीम होम क्वारंटाइन की सुविधाओं का निरीक्षण करने के बाद ही मरीज को होम आइसोलेशन में भेजा जाएगा।

पढ़े अन्य नियम

-उन मरीजों को होम आइसोलेशन की सुविधा दी जाएगी, जिन्हें डॉक्टर ने इलाज के दौरान लक्षणरहित मरीज के रूप में चिन्हित किया हो।
24 घंटे मरीज की देखभाल के लिए एक व्यक्ति उपलब्ध हो।
-आइसोलेशन की अवधि के दौरान मरीज की देखभाल करने वाला व्यक्ति संबंधित चिकित्सालय के साथ संपर्क बनाकर रखेगा।
-ऐसे मरीजों के घर पर खुद को आइसोलेट करने और परिजनों को क्वारंटाइन करने की सुविधा उपलब्ध हो। घर में मरीज के लिए शौचालययुक्त कमरा और देखभाल करने वाले के लिए अलग शौचालय की अनिवार्य रूप से हो।
-जिन मरीजों की आयु 60 वर्ष से अधिक है या अन्य बीमारी से ग्रसित हैं, गर्भवती महिलाएं, दस साल से कम आयु के बच्चे और ऐसे रोगी जिनकी प्रतिरोधक क्षमता किसी कारण से कमजोर है उन्हें होम आइसोलेशन की सुविधा नहीं दी जाएगी।
-देखभाल करने वाले और मरीज के नजदीकी संपर्कों को प्रोटोकॉल और उपचार करने वाले चिकित्सक के परामर्श के अनुसार हाइड्रॉक्सीक्लोरोकीन प्रोफालेक्सिस लेनी होगी।
-फोन में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करना जरूरी होगा। इस एप को ब्लूटूथ और वाई-फाई को हमेशा ऑन रखना होगा। इसके साथ ही दिन में दो बार इस ऐप में सूचना अपडेट करनी होगी। स्मार्टफोन न होने की स्थिति में नियंत्रण कक्ष के दूरभाष पर अपने स्वास्थ्य की जानकारी देनी होगी।

Related News

देहरादून- पेयजल टेरिफ पुनरीक्षण के लिए सीएम त्रिवेन्द्र ने किया समिति का गठित, जलापूर्ति के लिए बनाई ये योजना

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश में पेयजल टेरिफ पुनरीक्षण के लिये नगर विकास मंत्री मदन कौशिक एंव उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डा. धन...

रुद्रपुर: मंत्री अरविंद पांडेय कोर्ट में हुए पेश, जानिए किस मामले में जारी था वारंट

रुद्रपुर। प्रदेश के पंचायतीराज एवं शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय शनिवार को कोर्ट में उपस्थित हुए। कोर्ट ने उनके खिलाफ वारंट जारी कर रखा था। शनिवार...

हल्द्वानी- नैनीताल डिस्टिक कोऑपरेटिव बैंक ने इन पदों पर निकाली भर्ती, ऐसे करें आवेदन

नैनीताल डिस्टिक कोऑपरेटिव बैंक ने सहयोगी गार्ड की भर्ती निकाली है। बैंक द्वारा 21 पदों पर निकाली गई भर्ती के लिए इच्छुक अभ्यर्थी 16...

त्रिवेंद्र सरकार का बेरोजगारो के हित में फैसला,नर्सिंग भर्ती में अनुभव की शर्तो के बदले नियम।

उत्तराखंड में बेरोजगार युवाओ के हित में फैसला लेते हुए सरकार ने नर्सिंग भर्ती में एक साल के अनुभव की शर्त को हटा दिया...

रुद्रपुर: एक झूठ पर सस्पेंड हो गए दारोगा जी, जानिए क्या है पूरा मामला

रुद्रपुर । बाजपुर दोराहा चौकी इंचार्ज को अपनी लोकेशन गलत बताना भारी पड़ गया। एसऍएसपी दिलीप सिंह कुंवर ने झूठ बोलने पर चौकी इंचार्ज...

रुद्रपुर: किसान आंदोलन की अनदेखी का खामियाजा भुगतेगी बीजेपी: नागेश

रुद्रपुर। कांग्रेस के प्रदेश सचिव नागेश त्रिपाठी ने कहा कि केंद्र सरकार को दो माह से सड़क पर बैठे हजारों किसानों की चिंता नहीं...