inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- उत्तराखंड में सूर्यधार जैसी बनेंगी 8 झीलें, जाने क्या है सीएम...

देहरादून- उत्तराखंड में सूर्यधार जैसी बनेंगी 8 झीलें, जाने क्या है सीएम त्रिवेन्द्र का नया प्लान

सूर्यधार झील! यानि बरसाती नदी को बहुपयोगी और सदा नीरा बनाने की एक सफल कोशिश। इस झील के बन जाने से न सिर्फ पेयजल और सिंचाई के पानी की समस्या दूर होगी बल्कि पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। यदि झील से बिजली उत्पादन में सफलता मिली तो वो किसी बोनस से कम नहीं होगा। इन सबसे हटकर एक और बात सामने आई है कि सूर्यधार जैसे झीलों के निर्माण से सम्बंधित घाटी के इकोसिस्टम में भी बदलाव लाया जा सकता है। इन सब फायदों को देखते हुए त्रिवेन्द्र सरकार ने अब राज्य के 8 और स्थानों पर नई झील बनाने का निर्णय लिया है।

विशेषज्ञों से चर्चा कर तैयार की योजना

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत अपने पैतृक गांव खैरासैंण जो कि पौड़ी जिले की पूर्वी नयार घाटी में स्थित है, में अपना बचपन बिता चुके हैं। कहीं न कहीं उन्हें इस बात का भान रहा कि नदियों का पानी दिन-ब-दिन कम क्यों होता जा रहा है। मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद उन्होंने इस सम्बंध में विशेषज्ञों से चर्चा की। चर्चा-वार्ता से निष्कर्ष निकला कि क्यों न सभी वर्षा जल जनित नदियों का एक सर्वेक्षण कर कुछ ऐसे स्थान चयनित किये जाएं, जहां छोटी-छोटी झीलें बना कर उनका बहुपयोग (पर्यटन, मछली पालन, बिजली उत्पादन आदि) किया जाए। निर्धारित मात्रा में जल छोड़कर इन नदियों को निचली घाटी में सदा नीरा बनाया जा सकता है।

पेयजल किल्लत होगी दूर

ये बहुउद्देशीय झील पेयजल किल्लत दूर करने से लेकर जलक्रीडा को बढ़ावा तो देंगी ही साथ ही साथ सूखे पड़ चुके खेतों में सिंचाई में मददगार होंगी। इस प्रकार ये घाटियां फिर से आवाद हो जाएंगीं। घाटी के ईकोसिस्टम में भी बदलाव नजर आएगा। मुख्यमंत्री ने चयनित बरसाती नदियों का सर्वेक्षण कर उनमें झील (जलाशय) के लिए स्थान चयन का काम यूसैक के निदेशक महेन्द्र प्रताप सिंह बिष्ट और उनकी टीम को सौंपा। बीते 29 नवम्बर 2020 लोकार्पित सूर्यधार

परियोजना इस दिशा में मुख्यमंत्री की सकारात्मक सोच की परिणति है। इसी तर्ज पर ल्वाली, पैठाणी, पपडतोली, गैंरसैण, कोशी, स्यूंसी, खैरासैंण व सतपुली ऐसे कई स्थानों का स्थलीय परीक्षण कर वहां झील बनाने का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। इनमें से ल्वाली व चम्पावत जैसे जगहों पर निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है । बहुत संभव है कि ये दोनो झीलें वर्ष 2020 की समाप्ति से पहले अपना आकार ले लें।

Related News

उत्तराखंड- जिला योजना की शेष राशी हुई जारी, देखें किस जिले को मिले कितने रुपए

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने वित्तीय वर्ष 20-21 में प्राविधानित जिला योजना के तहत अवशेष राशि 65.50 करोड़ जारी करने पर सहमति दी है।...

देहरादून- राहत भरा रहा आज का कोरोना बुलेटिन, सामने आये केवल इतने पॉजिटिव केस

उत्तराखंड में आज 54 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 95640 हो गया है। 2 लोगो...

रामनगर- घरेलू लड़ाई के चलते महिला ने उठाया ये खौफनाक कदम, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलेंगे राज

एक महिला ने पति से हुए विवाद के बाद जहरीले पदार्थ का सेवन कर आत्महत्या कर ली। कोतवाल अबुल कलाम ने बताया कि रविवार...

देहरादून- सीएम त्रिवेन्द्र ने आशा कार्यकत्रियों को दी ये सौगात, चंपावत में टी टूरिज्म के लिए तैयार किया ये प्लान

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश में कार्यरत 565 नई आशा कार्यकत्रियों को वर्ष 19-20 और 20-21 की प्रोत्साहन राशि 2.71 करोड़ जारी करने...

रुद्रपुर: हादसे के बाद बगैर चालक हाइवे पर दौड़ा ट्रक, जानिए कैसे हुआ हैरान करने वाला हादसा

रुद्रपुर। काशीपुर रोड पर रविवार की दोपहर एक ट्रक ने बाइक को टक्कर मार दी, जिससे बाइक सवार महिला की कुचल कर मौत हो...

देहरादून- उत्तराखंड में आज कोरोना से नहीं हुई एक भी मौत, मिले इतने संक्रमित मरीज़

उत्तराखंड में आज 122 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिलने के साथ ही राज्य में कोरोना का आंकड़ा बढ़कर 95586 हो गया है। वही आज...