Covid-19 research: इन जानवरों में पाया जाने वाला एंटीबॉडी कोरोना के इलाज में हो सकता है कारगर

वैज्ञानिकों का मानना है कि लामा और ऊंटनी में मिलने वाला एंटीबॉडी (Antibodies) कोरोना वायरस के इलाज में कारगर साबित हो सकता है। लामा और ऊंटनी में ऐसे दो सूक्ष्म एंटीबॉडी की पहचान हुई है, जो वायरस को खत्म कर सकते हैं। रोसैलिंड फ्रैंकलिन इंस्टीट्यूट, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने मिलकर यह शोध किया है। 

शोधकर्ताओं (Researchers) ने पाया कि लामा की रक्त कोशिकाओं से निकाले गए इन नैनो एंटीबॉडी ने वायरस को फैलने के लिए जिम्मेदार प्रोटीन को मनुष्य की कोशिकाओं (Human cells) में प्रवेश करने से रोका। इससे संक्रमण आगे नहीं बढ़ पाया। उन्‍होंने दावा किया है कि फिलहाल कोविड-19 (COVID-19) का कोई इलाज नहीं है, ऐसे में एंटीबॉडी ही संक्रमण को फैलने से रोकने में कारगर रहे हैं।

 जानवरों की रक्त कोशिकाओं से एंटीबॉडी निकालकर इलाज (treatment) यह तरीका सौ साल से भी ज्यादा समय से इस्तेमाल हो रहा है। ऑक्सफोर्ड की बॉयोलॉजी प्रोफेसर जेम्स नैस्मिथ ने कहा कि ये एंटीबॉडी कोरोना के मरीज में संक्रमण (Infection) को बढ़ने से रोकती हैं। अन्य एंटीबॉडी के साथ इन्हें और सफल बनाया जा सकता है।
                    http://www.narayan98.co.in/
Narayan College                    https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

उत्तराखंड की बड़ी खबरें