COVID-19: ट्रेन संचालन ठप होने से लाखों यात्री विभिन्‍न शहरों में फंसे

लखनऊ। कोरोना  (Corona) के फैलाव को रोकने के लिए प्रदेश के 16 शहरों में लॉकडाउन (Lockdown) किया गया है। इसके साथ ही ट्रेनों और बसों का संचालन भी रोक दिया गया है। ऐसे में मुंबई, दिल्‍ली, पटना, कोलकाता की ओर जाने वाले लाखों लोग लखनऊ, प्रयागराज, बरेली समेत कई शहरों में फंस गए हैं।
बता दें कि 31 मार्च की रात 12 बजके तक ट्रेनों (Trains) का संचालन रद कर दिया गया है। बसें भी नहीं चल रही हैं। लॉकडाउन के कारण निजी वाहनों का संचालन भी नहीं हो पा रहा है। ऐसे में जो लोग (people) विभिन्‍न कार्यों से घर से बाहर गए थे या जिन्‍हें दूसरे शहरों में जाना था अब वे जहां के तहां फंसे हुए हैं।
लखनऊ से दिल्ली के लिए शताब्दी, तेजस, लखनऊ मेल, एसी एक्सप्रेस, काशी विश्वनाथ और मुम्बई जाने के लिए पुष्पक, एलटीटी, कुशीनगर, बांद्रा आदि ट्रेनें हैं। इनसे रोजाना हज़ारों की संख्या में यात्री (Passengers) सफर करते हैं। चारबाग स्टेशन से ही करीब 300 ट्रेनों से रोज़ाना डेढ़ लाख और लखनऊ जंक्शन (Lucknow Junction) से गुजरने वाली 88 ट्रेनों से करीब 50 हज़ार यात्रियों का आवागमन होता है।

ट्रेन यात्री सबसे ज्‍यादा परेशान
जनता कर्फ्यू के दिन ट्रेनों का संचालन रोका गया था। लेकिन उससे पहले लंबी दूरी की ट्रेनें अपने शुरुआत के स्‍टेशन (Station) से चल चुकी थीं। ऐेसे में इन ट्रेनों से आने वाले यात्री सबसे अधिक परेशान हुए। उनका कहना था कि स्‍टेशन तक तो आ गए लेकिन अब अपने गंतव्‍य तक जाने के लिए उन्‍हें साधन नहीं मिल रहा। रेलवे (Railways) को पहले ही इसे ध्‍यान में रखते हुए ट्रेन संचालन रोक देना चाहिए था।

कोरोना पीड़ित संदिग्ध बोला डॉक्टर साहब मेरी जान बचा लो। देखिये अस्पताल में अंदर फिर क्या हुआ। मॉक ड्रिल अस्पताल की।