Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश COVID-19: कोविड-19 के इलाज में आने वाली दवा फेबिफ्लू हुई सस्‍ती, अब...

COVID-19: कोविड-19 के इलाज में आने वाली दवा फेबिफ्लू हुई सस्‍ती, अब इतने रुपये में मिलेंगी एक गोली

बरेली की राजनीति के पुरोधा राजेश अग्रवाल को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी के संगठन में मिली अहम् जिम्मेदारी

बात अगर बरेली की राजनीती की हो और राजेश अग्रवाल का नाम न आये ऐसा तो हो ही नहीं सकता , रुहेलखंड में भाजपा...

Mathura: श्रीराम जन्म भूमि के बाद श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला पहुंचा कोर्ट

अयोध्या में श्रीराम लला के मंदिर (Ram Mandir) का निर्माण शुरू हुई हो पाया था कि अब मथुरा में श्री कृष्ण जन्म भूमि (Shri...

Bareilly: कोरोना के रोकथाम के लिए नवनीत सहगल बनाएंगे रणनीति, लिए जाएंगे यह कदम

बरेली में कोरोना वायरस (Corona virus) धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है। अब इसकी रोकथाम के लिए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम और ग्रामोद्योग...

SSR Case: सुशांत के वकील ने किया ये बड़ा दावा, फिर रिया चक्रवर्ती के वकील ने दी यह प्रतिक्रिया

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) में एक नया मोड़ आ गया है। सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह (Vikas Singh)...

देहरादून- भाजपा ने अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषित, सांसद बलूनी को मिला ये दायित्व

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी घोषित कर दी है। जिसमें 12 राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, 8 राष्ट्रीय महामंत्री...

कोविड-19 के इलाज में काम आने वाली एंटीवायरल दवा फेविपिराविर (Antiviral drug favipiravir) की कीमत में 27 प्रतिशत की कमी की गई है। यह दवा कंपनी ने फेबिफ्लू ब्रांड नाम से बाजार में उतारी है।  ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) ने सोमवार को एक बयान में कहा कि उसने अपनी दवा ‘फेबिफ्लू का दाम 27 प्रतिशत घटा दिया है। अब दवा का अधिकतम एमआरपी 75 रुपये प्रति टैबलेट होगा। फेबिफ्लू (Febiflu) को पिछले महीने 103 रुपये की कीमत के साथ बाजार में उतारा गया था।

Favipiravirकंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और प्रमुख आलोक मालिक ने कहा कि हमारा आंतरिक विश्लेषण (Internal analysis) बताता है कि हमारी इस दवा को जहां-जहां अनुमति मिली है उन देशों के मुकाबले हमने भारत में इसकी कम कीमत रखी है। इसकी एक बड़ी वजह दवा बनाने में इस्तेमाल होने एपीआई और यौगिक (API and Compound) दोनों का विनिर्माण कंपनी के भारतीय संयंत्र (Indian plant) में होना है। उन्‍होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि इसके दाम में और कमी किये जाने से देश में बीमारों तक इसकी पहुंच और बेहतर होगी।

http://www.narayan98.co.in/

Uttarakhand Government

Narayan College

https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

Related News

बरेली की राजनीति के पुरोधा राजेश अग्रवाल को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी के संगठन में मिली अहम् जिम्मेदारी

बात अगर बरेली की राजनीती की हो और राजेश अग्रवाल का नाम न आये ऐसा तो हो ही नहीं सकता , रुहेलखंड में भाजपा...

Mathura: श्रीराम जन्म भूमि के बाद श्रीकृष्ण जन्मभूमि का मामला पहुंचा कोर्ट

अयोध्या में श्रीराम लला के मंदिर (Ram Mandir) का निर्माण शुरू हुई हो पाया था कि अब मथुरा में श्री कृष्ण जन्म भूमि (Shri...

Bareilly: कोरोना के रोकथाम के लिए नवनीत सहगल बनाएंगे रणनीति, लिए जाएंगे यह कदम

बरेली में कोरोना वायरस (Corona virus) धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है। अब इसकी रोकथाम के लिए सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम और ग्रामोद्योग...

SSR Case: सुशांत के वकील ने किया ये बड़ा दावा, फिर रिया चक्रवर्ती के वकील ने दी यह प्रतिक्रिया

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) में एक नया मोड़ आ गया है। सुशांत के परिवार के वकील विकास सिंह (Vikas Singh)...

देहरादून- भाजपा ने अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की घोषित, सांसद बलूनी को मिला ये दायित्व

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने अपनी राष्ट्रीय कार्यकारिणी घोषित कर दी है। जिसमें 12 राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, 8 राष्ट्रीय महामंत्री...

Panchayat Election 2020: प्रदेश में तेज कोई पंचायत चुनाव की तैयारियां, इस तारीख को जारी होगी मतदाता सूची

प्रदेश में पंचायत चुनाव की तैयारियां तेजी से चल रहे हैं। जिला निर्वाचन अधिकारियों (District Election Officers) ने बीएलओ की जिम्मेदारी तय कर ली...