Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश Covid-19: कोरोना पर चौंकाने वाला अध्ययन, 6 फीट की दूरी नहीं बल्कि...

Covid-19: कोरोना पर चौंकाने वाला अध्ययन, 6 फीट की दूरी नहीं बल्कि ऐसे बच सकते हैं संक्रमण से

Bareilly: स्मार्ट सिटी पहल के साथ घर भी होंगे स्मार्ट, कंपनी का काम शुरू

बरेली शहर को स्मार्ट सिटी (Smart City) बनाने के साथ-साथ घरों में स्मार्ट मीटर (smart meter) लगाने का काम फिर से शुरू होगा। लोगों...

Bareilly: नगर निगम की खुली आंखें, यह एजेंसी अब करेगी शहर की सफाई

स्वच्छता सर्वेक्षण (Swachhata Sarvekshan) के बाद नगर निगम की आंखें खुल गई हैं। स्वच्छता सर्वेक्षण में खराब प्रदर्शन के बाद शहर को स्वच्छ बनाने...

COVID-19: सारे रिकॉर्ड तोड़ रिकवरी रेट में टॉप पर पहुंचा भारत

देश में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। लेकिन इस संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों के मामलों ने...

रवि किशन के ड्रग्स के स्टेटमेंट को लेकर अनुराग कश्यप ने किया बड़ा खुलासा, रवि किशन को लेकर कही ये बात

संसद के मानसून सत्र (Monsoon Session) में बॉलीवुड में ड्रग्स का मुद्दा उठाया गया था। इस पर रवि किशन (Ravi Kishan) ने कहा था...

एलएसी की स्थिति और तैयारियों की ‘चाइना स्टडी ग्रुप’ ने की समीक्षा, जानिए बैठक में कौन-कौन रहा मौजूद

चीन और भारत (China and India) के लगातार बने तनाव के माहौल के बीच बीच सरकार ने लद्दाख में अभियान का तैयारियों सहित क्षेत्र...

दुनिया भर में लोग कोरोना वायरस (Corona virus) से बुरी तरह प्रभावित हैं। लोगों को इस बारिश से बचने के लिए 6 फुट की दूरी बनाने की सलाह दी जा रही है। लेकिन एक नए अध्ययन में चौंकाने वाले नतीजे सामने आए हैं। शोधकर्ताओं ने पाया कि वायरस खांसने, छींकने या गाने पर मुंह या नाक से निकलने वाली बूंदें कुछ ही सेकंड में 26 फीट तक जा सकती हैं।
corona test in bareilly
शोध (research) में प्रकाशित अध्ययनों के मूल्यांकन में पाया गया कि कोरोना वायरस की बूंदें अलग-अलग परिस्थितियों में फैल सकती हैं। निष्कर्षों के आधार पर शोधकर्ताओं का सुझाव है कि सोशल डिस्टेंसिंग (social distancing) के लिए बेहतर मॉडल की आवश्यकता है।

वर्तमान के दिशा-निर्देशों (guidelines) पर विचार करना चाहिए। यह देखा जाना चाहिए कि कितनी भीड़ है, कोई व्यक्ति कितने समय से है और क्या लोग चेहरे को ढक रहे हैं। एक खराब हवादार, भीड़ भरा वातावरण (environment) जहां लोग चिल्ला रहे हैं और गा रहे हैं वहां चेहरे को ढकना बहुत जरूरी है। शोधकर्ताओं (researchers) का कहना है कि इसके मुकाबले अच्छी हवादार, कम भीड़-भाड़ वाला वातावरण, जहां लोग शांत रहते हैं और चेहरे को ढंकते हैं, वहां कम जोखिम होता है।
                    http://www.narayan98.co.in/
Narayan College                    https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

Related News

Bareilly: स्मार्ट सिटी पहल के साथ घर भी होंगे स्मार्ट, कंपनी का काम शुरू

बरेली शहर को स्मार्ट सिटी (Smart City) बनाने के साथ-साथ घरों में स्मार्ट मीटर (smart meter) लगाने का काम फिर से शुरू होगा। लोगों...

Bareilly: नगर निगम की खुली आंखें, यह एजेंसी अब करेगी शहर की सफाई

स्वच्छता सर्वेक्षण (Swachhata Sarvekshan) के बाद नगर निगम की आंखें खुल गई हैं। स्वच्छता सर्वेक्षण में खराब प्रदर्शन के बाद शहर को स्वच्छ बनाने...

COVID-19: सारे रिकॉर्ड तोड़ रिकवरी रेट में टॉप पर पहुंचा भारत

देश में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। लेकिन इस संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों के मामलों ने...

रवि किशन के ड्रग्स के स्टेटमेंट को लेकर अनुराग कश्यप ने किया बड़ा खुलासा, रवि किशन को लेकर कही ये बात

संसद के मानसून सत्र (Monsoon Session) में बॉलीवुड में ड्रग्स का मुद्दा उठाया गया था। इस पर रवि किशन (Ravi Kishan) ने कहा था...

एलएसी की स्थिति और तैयारियों की ‘चाइना स्टडी ग्रुप’ ने की समीक्षा, जानिए बैठक में कौन-कौन रहा मौजूद

चीन और भारत (China and India) के लगातार बने तनाव के माहौल के बीच बीच सरकार ने लद्दाख में अभियान का तैयारियों सहित क्षेत्र...

School Reopen: जानिए किन राज्यों में 21 सितंबर से खुलने जा रहे हैं स्कूल

देश के कई राज्यों में 21 सितंबर से स्कूल खुलने जा रहे हैं। केंद्र सरकार (Central Government) की गाइडलाइंस के मुताबिक 21 सितंबर से...