Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश COVID-19: ऐसे लोगों को अब 28 दिन तक निगरानी में रखा जाएगा

COVID-19: ऐसे लोगों को अब 28 दिन तक निगरानी में रखा जाएगा

Bareilly: जमीनी विवाद में पहले हुई मारपीट फिर चलीं गोलियां, अब वीडियो हो गया वायरल

बरेली में मारपीट की घटना आम होती जा रही हैं। लेकिन कभी-कभी यह घटनाएं भयानक रूप भी ले लेती हैं। एक ऐसी घटना आज...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक कार्यक्रम के दौरान चीन को लेकर कही ये बात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने बांगरमऊ की एक राइस मिल में सोमवार आयोजित कार्यक्रम में कहा चीन के विषय में बात की...

कंगना रनौत के ऑफिस में तोड़फोड़ को लेकर हाईकोर्ट ने बीएमसी की लगाई फटकार और कही ये बात

अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की ऑफिस में तोड़फोड़ के लेकर सोमवार को बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) ने बीएमसी की फटकार लगाई...

Bhagat Singh jayanti: शहीद-ए-आजम की जयंती पर अमित शाह ने किया यह ट्वीट

शहीद-ए-आजम भगत सिंह (Shahid Bhagat Singh) भारत वासियों के दिल में बसते हैं। देश की आजादी के लिए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा...

Unlock-5: आज जारी हो सकती हैं अनलॉक-5 की गाइडलाइंस, मिल सकती हैं ये छूट

कोरोना वायरस महामारी (coronavirus pandemic) को कई महीने बीत चुके हैं। लेकिन अभी तक इस वायरस की वैक्सीन नहीं बन पाई है। ऐसे में...

बरेली: देश भर में लॉकडाउन (Lockdown) के बाद भी कोरोना संक्रमित लोगो की संख्‍या में इजाफा हुआ है। इसका मुख्‍य कारण विदेशों से लौटकर आने वाले तथा दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात के दौरान इकठ्ठे हुए लोग हैं। जिसकी वजह से तबलीगी जमात में शामिल लोग या विदेश से आने वाले यात्री सभी को 14 दिन के बजाय 28 दिन तक निगरानी रखी जाएगी। सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य ने सभी डीएम और सीएमओ को नए प्रोटोकॉल (New protocol) के तहत निर्देश जारी किए हैं।
तब्लीगी जमात
कोरोना संक्रमण (Corona infection) में बढ़ती संख्‍या को देखते हुए सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य (Secretary Medical Health) ने बताया कि विदेश यात्रा से लौटने के बाद 28 दिन तक कोविड-19 के लक्षणों वाले व्यक्ति, जिनमें कोरोना के लक्षण हों, संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वाले लोग भी, या संक्रमित व्यक्ति के साथ घर में रहने वाले लोगों को हाईरिस्क ग्रुप में रखा जाएगा। 

साथ ही सांस की तकलीफ वाले सरकारी व निजी अस्पताल में भर्ती रोगियों, सीवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी इंफेक्शन (Severe acute respiratory infection) जैसे बुखार, खांसी, कोरोना मरीजों की देखभाल में लगे स्वास्थ्य कर्मी, जिनमें कोरोना के लक्षण उत्पन्न हो गए हों इसक अलावा ऐसे स्वास्थ्य कर्मी जिन्होंने पर्याप्त सुरक्षा के बिना कोविड-19 मरीज की जांच की हो, या गंभीर लक्षणों वाले अंतर्राज्यीज यात्रियों को भी हाईरिस्क ग्रुप (High risk group) में रखा जाएगा। 

Related News

Bareilly: जमीनी विवाद में पहले हुई मारपीट फिर चलीं गोलियां, अब वीडियो हो गया वायरल

बरेली में मारपीट की घटना आम होती जा रही हैं। लेकिन कभी-कभी यह घटनाएं भयानक रूप भी ले लेती हैं। एक ऐसी घटना आज...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक कार्यक्रम के दौरान चीन को लेकर कही ये बात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने बांगरमऊ की एक राइस मिल में सोमवार आयोजित कार्यक्रम में कहा चीन के विषय में बात की...

कंगना रनौत के ऑफिस में तोड़फोड़ को लेकर हाईकोर्ट ने बीएमसी की लगाई फटकार और कही ये बात

अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) की ऑफिस में तोड़फोड़ के लेकर सोमवार को बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) ने बीएमसी की फटकार लगाई...

Bhagat Singh jayanti: शहीद-ए-आजम की जयंती पर अमित शाह ने किया यह ट्वीट

शहीद-ए-आजम भगत सिंह (Shahid Bhagat Singh) भारत वासियों के दिल में बसते हैं। देश की आजादी के लिए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा...

Unlock-5: आज जारी हो सकती हैं अनलॉक-5 की गाइडलाइंस, मिल सकती हैं ये छूट

कोरोना वायरस महामारी (coronavirus pandemic) को कई महीने बीत चुके हैं। लेकिन अभी तक इस वायरस की वैक्सीन नहीं बन पाई है। ऐसे में...

हल्द्वानी-भाजपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बने राजेश अग्रवाल का हल्द्वानी से है ये खास रिश्ता, पढिय़े इस खास रिश्ते की पूरी कहानी

हल्द्वानी-उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में वित्त मंत्री रहे राजेश अग्रवाल को भाजपा का राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाया गया है। राजेश अग्रवाल का अचानक...