PMS Group Venture haldwani

Corona Virus: कोरोना का खौफ के चलते, कैदियों को किया जाएगा रिहा

बरेली: कोरोना वायरस (Corona Virus) ने लोगों को अपने घरों में कैद होने पर मजबूर कर दिया है। एक ओर जहां कोरोना से आम जनजीवन प्रभावित हुआ है तो वहीं कोरोना की वजह से कैदियों को राहत मिल सकती है। कोरना संक्रमण (Corona Infection) की वजह से सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) के आदेश पर सरकार कुछ कैदियों को रिहा करने की तैयारी में है। जिन कैदियों को 7 साल या उससे कम अवधि की सजा हुई है वे इसके पात्र हो सकते हैं, जिनकी उम्र 60 वर्ष या उससे अधिक है और वह कैदी जिन्होंने 14 साल की सजा काट ली है। साथ ही उन कैदियों को भी रिहाई मिल सकती है जो 7 साल या उससे कम सजा वाली धाराओं के मुकदमे में कैद हैं।
jailसुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से प्रदेश सरकार (State Government) की ओर से सभी जिला जेलों से ऐसे कैदियों की लिस्ट मांगी गई है। रामपुर जिला जेल अधीक्षक पीडी सलोनिया ने जानकारी दी है कि जेल में बंद कैदियों की सूची तैयार हो चुकी है। इस सूची में करीब 140 आते कैदी आते हैं जिन्हें रेहाई मिल सकती है।  इनमें ज्यादातर कैदी ऐसे हैं जिन्हें 7 साल या उससे कम सजा हुई है और कुछ ऐसे हैं जो अपनी अधिकतम सजा काट चुके हैं। जबकि इनमें 60 वर्ष या उससे अधिक आयु का कोई कैदी नहीं है।

जेल में क्षमता से दोगुने कैदी
जेल अधीक्षक पीडी सलोनिया ने बताया कि रामपुर जिला जेल में क्षमता से दोगुना कैदी हैं। इस जेल को अंग्रेजी शासनकाल में बनाया गया था जिसकी क्षमता 450 कैदियों की है जबकि वर्तमान समय में यहां 943 कैदियों को रखा गया है।

कोरोना पीड़ित संदिग्ध बोला डॉक्टर साहब मेरी जान बचा लो। देखिये अस्पताल में अंदर फिर क्या हुआ। मॉक ड्रिल अस्पताल की।