inspace haldwani
Home उत्तराखंड देहरादून- प्रेमनगर में मिनी स्टेडियम बनाने की सीएम त्रिवेन्द्र ने की घोषणा,...

देहरादून- प्रेमनगर में मिनी स्टेडियम बनाने की सीएम त्रिवेन्द्र ने की घोषणा, क्रीडा भवन का किया लोकार्पण

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को प्रेमनगर, देहरादून में 63.39 लाख की लागत से निर्मित बहुद्देशीय क्रीडा भवन का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रेमनगर में मिनी स्टेडियम बनाये जाने की भी घोषणा की। सीएम त्रिवेन्द्र ने कहा कि पिछले पौने चार साल में हर क्षेत्र में राज्य के विकास पर ध्यान दिया गया है। अटल आयुष्मान योजना में राज्य के सभी परिवारों को 5 लाख रूपए तक निशुल्क चिकित्सा सुविधा देने वाला उत्तराखण्ड, देश का पहला राज्य है। अटल आयुष्मान योजना में नेशनल पोर्टेबिलिटी की सुविधा देते हुए देशभर के 22 हजार से अधिक अस्पताल इसमें सूचीबद्ध हैं।

uttarakhand cm news

राज्य में हेल्थ सिस्टम किया मजबूत

सीएम त्रिवेन्द्र ने कहा कि वर्ष 2017 में जहां प्रदेश में केवल 02 जनपदों में आईसीयू वार्ड की व्यवस्था थी अब 27 आईसीयू वार्ड हैं। अस्पतालों में ऑक्सीजन पाइप की पर्याप्त व्यवस्था है। 2017 में राज्य में 1024 डॉक्टर थे, वर्तमान में 2400 डॉक्टर हैं जबकि 720 डॉक्टरों की भर्ती प्रक्रिया गतिमान है। आज सभी जिला अस्पतालों में आईसीयू की सुविधा उपलब्ध है। जल्द ही लगभग 2500 नर्सों की भर्ती की जायेगी। पानी के लिए दीर्घकालिक योजनाएं बनाई गई।

सूर्याधार झील बनकर तैयार

सीएम ने कहा कि सूर्याधार झील बनकर तैयार है, दीर्घकाल तक यह पेयजल एवं सींचाई के लिए आपूर्ति करेगा और करोड़ों रूपये की बिजली की बचत होगी। सौंग बांध का शिलान्यास जल्द किया जायेगा। इसके बनने से देहरादून को दीर्घ अवधि तक ग्रेविटी वाटर उपलब्ध होगा। इससे 100 करोड़ से अधिक वार्षिक बिजली का खर्चा बचेगा। मलढूंग बांध से सहसपुर एवं उसके आस-पास के क्षेत्रों में जलापूर्ति बढ़ेगी। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में मात्र एक रूपये में पानी का कनेक्शन दिया जा रहा है। 2022 तक सभी 14 लाख परिवारों को इस योजना से आच्छादित करने का लक्ष्य रखा गया है। शहरी गरीबों को भी मात्र 100 रूपये में पानी का कनेक्शन दिया जायेगा।

5 लाख किसानों को 3 लाख का ब्याज मुक्त ऋण

स्वयं सहायता समूहों को 05 लाख तक एवं किसानों को 03 लाख रूपये तक ब्याज मुक्त ऋण दिया जा रहा है। राज्य में कुपोषित बच्चों को गोद लेने की प्रथा शुरू की गई। इसके काफी अच्छे परिणाम रहे, अनेक बच्चे कुपोषण से मुक्त हुए। स्वास्थ्य, शिक्षा पेयजल एवं यातायात की दिशा में अनेक प्रयास किये गये। राज्य में महिलाओं के सिर से घास की गठरी का बोझ हटे, इसके समाधान के लिए प्रयास किये जा रहे हैं। इसके लिए अधिकारियों को ठोस नीति बनाने के निर्देश दिये गये हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों की आर्थिकी में सुधार के लिए अनेक प्रयास किये जा रहे हैं। सभी 670 न्याय पंचायतों पर रूरल ग्रोथ सेंटर बनाए जा रहे हैं। अभी तक 107 रूरल ग्रोथ सेंटर बनाये जा चुके हैं।

Related News

कोटद्वार- सांसद बलूनी की मेहनत लाई रंग, रेलवे ने सिद्धबली जनशताब्दी एक्सप्रेस का किया उद्घाटन

कोटद्वार-दिल्ली रूट पर आज से सिद्धबली जनशताब्दी एक्सप्रेस का संचालन शुरू हो गया है। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश...

हल्द्वानी- उत्तराखंड बॉक्सिंग एसोसिएशन के 8 रेफरी और जजो को मिला सम्मान, ये रहे कार्यक्रम में मौजूद

कुमाऊँ के सबसे बड़े महाविद्यालय एम.बी.पी.जी कॉलेज के खेल विभाग में आज कालेज के प्राचार्य डॉ. बी.आर पंत और उत्तराखंड बॉक्सिंग के महासचिव गोपाल...

हल्द्वानी- उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में स्थापित हुआ रेडऑन का जीओ स्टेशन, ऐसे करेगा काम

उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय में भाभा औटोमिक रिसर्च सेण्टर (बार्क), मुंबई के सहयोग से रेडऑन जीओ स्टेशन स्थापित किया गया। जिसका इस्तेमाल मिट्टी में रेडऑन...

हल्द्वानी- ग्राफिक एरा हिल यूनिवर्सिटी के छात्रों से मिली SSP प्रीति प्रियदर्शनी, दिये सफलता के मूलमंत्र

नैनीताल एस.एस.पी प्रीति प्रियदर्शनी ने ग्राफिक एरा हिल यूनिवर्सिटी के हल्द्वानी कैम्पस में छात्र-छात्राओं को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि नकारात्मक विचारों...

देहरादून- उत्तराखंड में मेडिकल के छात्रों के लिए खुशखबरी, सरकार ने इस बड़े फैसले को दी मंजूरी

केंद्र पोषित योजना के तहत उत्तराखंड में तीन नए मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस कोर्स शुरू करने के लिए सरकार से मंजूरी मिल गई है।...

पंतनगर- इस दिन से शुरू होगा प्रसिद्ध अखिल भारतीय किसान मेला, कोविड के चलते किये गए ये बदलाव

पंतनगर विश्वविद्यालय का 109वां अखिल भारतीय किसान मेला 22 से 25 मार्च तक आयोजित होगा। कोविड-19 के चलते इस बार किसान मेला में कई...