छत्तीसगढ़ के इस गांव में है भगवान राम का ननिहाल, जहां बन रहा मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का भव्य मंदिर

Slider

भगवान राम का ननिहाल – छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में भी भगवान राम का भव्य मंदिर बनाया जा रहा है। खास बात यह है कि इसका निर्माण चंदखुरी गांव में हो रहा है। इसे माता कौशल्या का गांव माना गया है, इस तरह भगवान राम के ननिहाल में भी साल 2020 के अंत तक राम मंदिर का काम पूरा कर लिया जाएगा। यहां पहले से ही एक छोटा राम मंदिर था, जिसे करीब 100 साल पहले दक्षिण भारतीय जमीदारों ने बनवाया था। भगवान राम की माता कौशल्या का जन्म छत्तीसगढ़ में हुआ था। यही नहीं राम जी ने अपने वनवास के 12 साल भी छत्तीसगढ़ में ही बिताए थे। छत्तीसगढ़, जिसे पुरातनकाल में दक्षिण कोसल के नाम से भी जाना जाता रहा है। इसी दक्षिण कोसल (छत्तीसगढ़) में है भगवान राम का ननिहाल।

chanklhuri_kaushilya

Slider

चंदखुरी गांव है माता कौशल्या की जन्मस्थली

रायपुर से 40 किलोमीटर दूर चंदखुरी गांव को माता कौशल्या की जन्म स्थली माना जाता है। यहां माता कौशल्या का मंदिर भी है। यही वजह कि प्रदेश के लोग भगवान राम को भांजे के रूप में पूजते हैं। माना जाता है कि भगवान राम के वनवास के 12 साल इसी प्रदेश में गुजरे थे। सरगुजा से लेकर बस्तर जिसे दण्डकारण्य कहा जाता है, वहां तक राम जी के वनवास से जुड़ी कथा और प्रमाण देखे जा सकते हैं। शबरी के झूठे बेर भी राम ने छत्तीसगढ़ में ही खाए थे। इस स्थान को लोग शिवरीनारायण के नाम से जानते हैं। वैसे भगवान राम के पुत्र लव-कुश का जन्म स्थल वाल्मिकी आश्रम भी छत्तीसगढ़ के तुरतिया पहाड़ पर मौजूद है।

ram4

चंदखुरी है भगवान राम का ननिहाल

रामायण के बालकांड के सर्ग 13 श्लोक 26 में आरंग के चंदखुरी के बारे में जानकारी मिलती है। इलाके के राजा भानुमंत थे, जो कि भानुमति (कौशल्या ) के पिता थे। छत्तीसगढ़ का इलाका रामायण काल में दक्षिण कोसल कहलाता था। राजा दशरथ से विवाह के बाद राजकुमारी का नाम कौशल्या पड़ा। यहां मां कौशल्या का भी मंदिर है जिसमें भगवान राम मां की गोद में हैं। इस मंदिर को 8वीं शताब्दी में सोमवंशी राजाओं ने बनवाया था।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें