PMS Group Venture haldwani

छत्तीसगढ़ -अब धान पर संग्राम, भाजपा राज्य में करेगी जेल भरो आंदोलन, कार्यकर्ता देंगे गिरफ्तारी

112
Slider

रायपुर- छत्तीसगढ़ में इन दिनों धान के समर्थन मूल्य को लेकर जमकर सियासत हो रही है। धान खरीद को लेकर सत्ता पक्ष व विपक्ष में बयानबाजियों के बाद अब ट्विटर वार भी शुरू हो गया है। भारतीय जनता पार्टी ने इसके लिए जेल भरो आंदोलन करने का एलान किया है। 13 नवंबर को पूरे राज्य में किसानों के साथ मिलकर भाजपाई सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। हजारों की तदाद में कार्यकर्ता गिरफ्तारी देंगे। धान का संग्राम सडक़ों पर दिखेगा। आंदोलन को लेकर आज 7 नवंबर गुरुवार को माना स्थित कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में भाजपा की बैठक में यह फैसला लिया गया।

dhan4

Slider

इस बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह समेत पार्टी के सभी बड़े नेता शामिल थे। डॉ. रमन सिंह ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर कहा कि मुख्यमंत्री को शांत रहना चाहिए शांत दिमाग से अच्छे काम होते हैं, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल धान नहीं खरीद रहे हैं जबकि किसानों के पास धान रखने की जगह नहीं है। धान नहीं खरीदी किया गया तो किसानों की हालत खराब हो जाएगी।

अपना वादा निभाए कांग्रेस : रमन सिंह

पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने चुनाव घोषणा पत्र में इस बात का जिक्र किया था, कि वह 2500 रुपये प्रति क्विंटल में धान खरीदेगी, लेकिन अब कांग्रेस इस मुद्दे पर आनाकानी कर रही है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि 15 नवंबर से धान की खरीदी सुनिश्चित किया जाना चाहिए, हर साल 1 नवंबर से खरीदी शुरू हो जाती थी। अब 10 नवंबर को मंडल स्तर तक किसानों के साथ भाजपा उनको घोषणा पत्र में किये वादों की याद दिलायेंगे और घोषणापत्र को जलायेंगे।

दरअसल केंद्र ने राज्य सरकार से कहा कि यदि बोनस रेट पर धान लिया गया तो सेंट्रल पूल में राज्य सरकार का धान नहीं लिया जाएगा। जबकि राज्य सरकार चाहती है कि बोनस दिए जाने के बाद भी प्रदेश का चावल लिया जाए। हालांकि कांग्रेस के महामंत्री गिरीश देवांगन ने बताया कि केंद्र चाहे चावल ले, न ले हम 2500 के समर्थन मूल्य पर किसानों से धान लेंगे। 13 नवंबर को ही प्रदेश भर के लाखों किसानों के हस्ताक्षर वाले पत्र लेकर कांग्रेस दिल्ली जाएगी, और पीएम मोदी से बोनस रेट वाला चावल भी लेने की मांग करेगी। पिछली भाजपा सरकार में इस तरह चावल लिया जा चुका है।

हर उत्तराखंडवासी को मिलेगा 5 लाख का मुफ्त इलाज