inspace haldwani
Home पर्यटन चंपावत में हुआ था भगवान विष्णु का कूर्म अवतार, जानिए क्या खास...

चंपावत में हुआ था भगवान विष्णु का कूर्म अवतार, जानिए क्या खास है चंपावत के आस पास

चंपावत-न्यूज टुडे नेटवर्क : समुद्र तल से 1615 मीटर की ऊंचाई पर स्थित उत्तराखंड के कुमाऊं में चंपावत एक प्रसिद्ध सैरगाह है। विभिन्न मंदिरों और सुरम्य प्रकृतिक दृश्यों के लिए मशहूर चंपावत 1997 में एक अलग जिला बना था। पर्यटकों के बीच खासा प्रसिद्ध होने के चलते उत्तराखंड की अधिकतर जगहें हमेशा ही पर्यटकों से पटी रहती हैं, लेकिन इसके बावजूद आज भी उत्तराखंड में ऐसी भी कुछ जगहें हैं, जो आज भी अछूती सुन्दरता के लिए जानी जाती है। चंपावत कभी चंद वंश की राजधानी हुआ करती थी।

reetha

ये मंदिर हैं यहां के खास

चंपावत का नामकरण राजा अर्जुन देव की बेटी चंपावती के नाम पर हुआ है। यहां पर्यटन के लिहाज से कई मंदिर हैं, जिनमें क्रांतेश्वर महादेव मंदिर, बालेश्वर मंदिर, पूर्णागिरी मंदिर, ग्वाल देवता, आदित्य मंदिर, चौमू मंदिर और पाताल रुद्रेश्वर चंपावत के खास आकर्षण हैं। नागनाथ मंदिर कुमाऊं क्षेत्र के प्राचीन वास्तुशिल्प का बेहतरीन नमूना है। ऐसी मान्यता है कि भगवान विष्णु का कूर्म अवतार यहीं हुआ था। प्रख्यात प्रकृतिविद् और शिकारी जिम कॉर्बेट ने जब यहां बाघों का शिकार किया तो इस जगह को प्रसिद्धी मिली।

यह भी पढ़ें-पिथौरागढ़ : हिमालयी पर्वतमाला का प्रवेश द्वार है पिथौरागढ़, इन चमत्कारिक मंदिरों को देखने खिचे चले आते हैं पर्यटक

क्रांतेश्वर महादेव मंदिर

चंपावत से 6 किमी की दूरी पर स्थित क्रांतेश्वर महादेव मंदिर भगवान शिव को समर्पित है, जोकि समुद्र तल से 6000 मीटर की ऊंचाई पर बना है। भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर अपनी अनोखी वास्तुशिल्प के लिए जाना जाता है। मंदिर के आसपास बर्फ से ढके पहाड़ों को देखा जा सकता है। अपनी इच्छायों को पूरा करने के लिए भक्त भगवान भोलेनाथ को भक्त आशीर्वाद लेने के लिए भगवान कणदेव को दूध , दही और देशी घी का भोग लगाते हैं और अपनी मनोकामना पूर्ण होने की मन्नत मांगते हैं।

Baleshwar_Temple

यह भी पढ़ें-मुनस्यारी : बरबस ही पर्यटकों का मन मोह लेता है यह उत्तराखंड का “छोटा कश्मीर”, एक बार जरूर करें यहां की यात्रा

बालेश्वर महादेव मंदिर

भगवान शिव को समर्पित बालेश्वर महादेव मंदिर का निर्माण चांद शासन ने करवाया था। रअसल यह मंदिरों का समूह है, जिसका निर्माण चंद वंश ने करवाया था। ये मंदिर हिंदू देवी बालेश्वर, रत्नेश्वर और चंपावती दुर्गा को समर्पित है। मंदिर के मंडप और छत पर की गई नक्काशी इसकी खूबसूरती में और भी ईजाफा कर देती

lohagat

मीठा-रीठा साहिब

चम्पावत से करीबन 72 किमी की दूरी पर स्थित मीठा रीठा साहिब सिक्खों का धार्मिक स्थल है। माना जाता है कि, इस जहह एकबार सिक्खों के गुरु गुरु नानक देव जी आय थे, गुरु द्वारे के पास ही लोदिया और रतिया नदियों का संगम होता है। इस गुरूद्वारे के नामकरण के पीछे भी अद्भुत कहानी है, इस गुरूद्वारे में कई रीठे के पे? लगे हैं, । ऐसा माना जाता है कि गुरू के स्पर्श से रीठा मीठा हो जाता है।

barahi

देवीधुरा में स्थित बाराही मंदिर

हर साल रक्षाबंधन के अवसर पर आयोजित किए जाने वाले बग्वाल त्योहार के लिए जाना जाता है। अगर लोहाघाट में खरीदारी का मन करे तो इसके लिए खादी बाजार अच्छा विकल्प हो सकता है। इसके अलावा यहां प्रचीन बानासुर का किला है, जिसके बारे में कहा जाता है कि भगवान श्री कृष्ण ने यहां बानासुर नाम के एक दानव की हत्या की थी। एक मान्यता यह भी है कि इस किले का निर्माण मध्यकाल में किया गया था। ट्रेकिंग के लिए भी चंपावत एक आदर्श जगह है। यहां ऐसे कई ट्रेकिंग रूट हैं जो चंपावत को पंचेश्वर, लोहाघाट, वानासुर, टनकपुर, व्यसथुरा, पूर्णागिरी और कंटेश्वर मंच से जोड़ते हैं।

कैसे पहुंचे चंपावत

पंतनगर एयरपोर्ट से टैक्सी बुक करके चंपावत पहुंच सकते हैं। यहां का निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है। इतना ही नहीं, आसपास के कई शहरों से चंपावत के लिए बसें भी मिलती हैं।

चंपावत जाने का सबसे अच्छा समय

चंपावत घूमने के लिए गर्मी और ठंड का समय आदर्श माना जाता है।

Related News

चंपावत- पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने प्रदेश को दी करोड़ो की सौगात, मानसरोवर यात्रा को लेकर कही ये बात

पिथौरागढ़ पहुंचे राज्य पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने लगभग 16 करोड़ की लागत से हुए विकास कार्यों का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने कहा...

उत्तराखंड- इस जिले में बनेगा प्रदेश का पहला मगरमच्छ सफारी, इन प्रजातियों के मगरमच्छ बढ़ाएंगे पर्यटकों का एडवेंचर

उत्तराखंड वन विभाग कुमाऊं में सुरई वन रेंज में राज्य की पहली मगरमच्छ सफारी स्थापित करने की योजना बना रहा है। तराई-पूर्व वन प्रभाग...

२०२० के इस विंटर वैकेशन को बनाए और भी सुहाना, इन जगहों पर देखने को मिलेगा प्रकृति का अदभुत सौन्दर्य

लाइफ स्‍टाइल बदलाव के लिए घूमना फिरना भी बेहद जरूरी है बरेली। साल में एक बार कहीं घूमने का प्लान जरूर बनाना चाहिए, इससे हमारी लाइफस्टाइल में...

बड़ी खबर- दो हफ्तों में 75 फ़ीसदी हवाई रूट खोलने की तैयारी, जानिए क्या है वजह 

कोरोना वायरस (Corona virus) और लॉकडाउन के कारण देशभर में डोमेस्टिक और इंटरनेशनल फ्लाइट्स (domestic and international flight) अस्थाई तौर पर निरस्त कर दी...

अब Amazon से भी कर सकेंगे ट्रेन टिकट बुकिंग, मिलेंगे यह ऑफर्स

अमेज़न इंडिया (Amazon India) ने IRCTC के साथ साझेदारी की है। दोनों के बीच साझेदारी होने से अब आप अमेजॉन से भी ट्रेन की...

Ayodhya: अयोध्या में जल्द ही श्रद्धालु क्रूज बोट से करेंगे घाटों के दर्शन, साथ ही मिलेंगी ये सुविधाएं

अयोध्या में पर्यटकों (Tourists) को सरयू आरती के साथ ही अन्य घाटों के दर्शन कराने के लिए जल्द ही क्रूज बोट (Cruise Boat) चलाई...