Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home Career Career: भागमभाग भरे दौर में कैसे चुने कॅरियर, भीड़ के बीच...

Career: भागमभाग भरे दौर में कैसे चुने कॅरियर, भीड़ के बीच कैसे बनाएं अपनी पहचान, जानें इस खबर में

11,000 हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने से डिश केबल ऑपरेटर दर्दनाक मौत

संवाददाता -अनुराग शुक्ला सितारगंज नगर के केबल ऑपरेटर की हाईटेंशन लाइट की चपेट में आने से मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई घटना उस...

नैनीताल-नाले में मिले नवजात का डीएनए हुआ मैच, जीजा निकला पिता

नैनीताल- नैनीताल के मल्लीताल क्षेत्र में विगत छह फरवरी को नाले में पड़े मिली नवजात मामले में पुलिस ने खुलासा किया है। नवजात की...

ऋषिकेश-पीएम मोदी ने उत्तराखंड को दी बड़ी सौगात, इन प्रोजेक्ट की हुई शुरूआत

ऋषिकेश- आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महत्वाकांक्षी परियोजना नमामि गंगे के तहत उत्तराखंड में बने आठ एसटीपी का वर्चुअल लोकार्पण किया। इस खास मौके...

देहरादून-बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी, सरकार ने बदले चारधाम आने के नियम

देहरादून-अब उत्तराखंड में चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अच्छी खबर है। राज्य सरकार ने बाहरी राज्यों से उत्तराखंड आने वाले तीर्थ...

हल्द्वानी-आम्रपाली इंस्टिट्यूट का बड़ा प्लान, प्रवासियों को देंगे स्वरोजगार की फ्री ट्रेंनिंग, देखिये सरकार के साथ कैसे करना चाहते हैं कदमताल

हल्द्वानी । आम्रपाली ग्रुप आॅफ इंस्टीट्यूटस के सीईओ0 डा0 संजय ढींगरा ने बताया कि कोविड संकट और केन्द्र की नई शिक्षा नीति को देखते...

न्यूज टुडे नेटवर्क
एक युवा पूरे दिन में कई कंपनियों के लिए काम करे तो इसे कहते हैं मल्टीटास्किंग जॉब। जिस तरह के कंपनियां अलग-अलग काम के लिए विशेषज्ञ तलाशती हैं ऐसे में कहा जा रहा है कि आने वाला दौर मल्टीटास्किंग जॉब का ही होगा। इससे युवाओं के साथ-साथ कंपनियों को भी फायदा होता है। इसलिए अब आप भी इसका फायदा उठाएं और दूसरों से आगे रहें। सबसे अहम बात यह है कि कॅरियर का चुनाव करते वक्त आप यही कालेज और कंपनी चुनें। आपकी एक गलती आपको रास्ते से भटका सकती है।

मल्टीटास्किंग एक ऐसी चीज है जो हमारी दिनचर्या और जीवनशैली का हिस्सा बन चुका है। वो इसलिए क्योंकि हमारे पास समय कम होता है और काम ज्यादा। और समय बचाने के लिए भी लोग बहुकार्य करते हैं। यह पूरा ताना-बाना मल्टीटास्किंग कहलाता है। काम में अक्सर लोग इसे अपना रहे हैं। अर्थात एक साथ दो या तीन काम करके लोग मल्टीटास्किंग से खूब पैसा कमा रहे हैं। पेरेंट्स को भी सुकून रहता है कि उनका बेटा या बेटी बेरोजगार नहीं है।

आने वाला दौर मल्टीटास्किंग वालों का
युवाओं की ओर से मिलने वाले सकारात्मक परिणामों ने अन्य लोगों के जीवन में भी ऊर्जा भरने का कार्य किया है। माना जा रहा है कि आने वाले समय में मल्टीटास्किंग करियर एक बेहतर विकल्प के रूप में सामने आएगा और एक बड़ी जनसंख्या इस चैलेंजिंग ट्रेंड को अपनाने में नहीं हिचकेगी।

समय का ध्यान रखना जरूरी
बदलते परिदृश्य में 10 से 5 की जॉब उतनी असरदार नहीं रही, जितनी कि पहले इसकी डिमांड थी। समय का रोना हर इंसान रो रहा है। यह सही है कि दुनिया में हर किसी को 24 घंटे ही मिलते हैं। उसी में अपनी हर आवश्यकता और हर ख्वाहिश को पूरा करना पड़ता है। हालांकि दो पार्टटाइम जॉब एक साथ करने के लिए समय को व्यवस्थित करना आवश्यक हो जाता है, लेकिन तभी उसमें आनंद आता है।

Uttarakhand Government

अनुभव के साथ पैसा भी 
करियर काउंसलर कहते हैं कि दो अलग-अलग पार्टटाइम जॉब करने का एक फायदा यह भी है कि इसमें आप दो तरह के अनुभव हासिल करते हैं, जिससे आत्मज्ञान और आत्मकौशल में निखार आता है। आगे चल कर इन्हीं में से कोई एक आपका फुलटाइम प्रोफेशन भी बन सकता है।

समझ जाएं समय की मांग
यदि किसी समय यह प्रतीत होने लगे कि फलां काम आपकी इच्छा के अनुरूप नहीं चल रहा है तो बिना किसी हिचक के आप उसे छोड़ भी सकते हैं। जितने समय तक आप उसे कर रहे हैं, उतने समय तक आपको पारिश्रमिक मिलता रहेगा। यह एक तरह से समय की मांग है, जिसे पूरा किए बगैर आप प्रतिस्पर्धा में  टिक नहीं सकते।

नया है ट्रेंड
विशेषज्ञ भी इस बात को मानते हैं कि पार्टटाइम का कॉन्सेप्ट काफी पुराना है, परन्तु दो पार्टटाइम जॉब का ट्रेंड बिल्कुल नया आधार लेकर आया है। कुछ लोग 8-10 घंटे की जॉब में ही खुद को फिट मानते हैं। इससे परे कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिन्हें यदि मनमाफिक काम मिले तो वे 12-14 घंटे काम करने में भी नहीं हिचकते और थकते। इन मेहनतपसंद लोगों के लिए ‘दो पार्टटाइम जॉब एक साथ’ का कांसेप्ट अधिक फायदा पहुंचा सकता है। पर यह दोहरी जिम्मेदारी है,  जिसके लिए खुद को पहले तैयार करने की आवश्यकता होती है, क्योंकि यह कार्य इतना आसान भी नहीं होता।

बनाएं बेहतर तालमेल 
यह एक प्रायोगिक विधा है, फिर भी इसे असंभव नहीं माना जा सकता। इस तरह के कॉन्सेप्ट में सबसे अहम चीज टाइम मैनेजमेंट होती है, क्योंकि आपको तीन परिस्थितियों (दो पार्टटाइम जॉब व घर-परिवार) का सामना करना पड़ता है तथा उसमें बेहतर तालमेल भी बिठाना पड़ता है। कई बार इसमें पारिवारिक जीवन भी गड़बड़ा जाता है।

तनाव से दूर रहने की करें कोशिश
घर पर रह कर काम करना आसान होता है, परन्तु जहां तक ऑफिस का सवाल है तो हर ऑफिस की अपनी मांग होती है कि आपको सुबह आना है या शाम को। ऊपर से यात्रा संबंधी दिक्कतें भी सामने आती हैं। कई मर्तबा एक या दो घंटे का सफर भी भारी पड़ सकता है। यदि आपने सही तरीके से टाइम मैनेजमेंट नहीं किया है तो इससे तनाव भी पैदा हो सकता है। तकनीकी क्षेत्रों में यह ट्रेंड अधिक सफल साबित होता है।
NARAYAN COLLEGE 1
12वीं के बाद कॅरियर तय करते वक्त रखें विशेष ध्यान
12वीं के बाद कॅरियर तय करते वक्त विशेष ध्यान रखें। अच्छे कालेज का चुनाव करें। अच्छी पढ़ाई आपको दूसरों से अलग बनाएगी। तनाव प्रबंधन और सोशल मैनेजमेंट सिखाएगी। आपको चुनौतियों से निपटना भी सिखाएगी। जिससे आप भविष्य में मल्टीटास्किंग बनेंगे और आपके पास रोजगार के तमाम मौके होंगे।

Related News

11,000 हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने से डिश केबल ऑपरेटर दर्दनाक मौत

संवाददाता -अनुराग शुक्ला सितारगंज नगर के केबल ऑपरेटर की हाईटेंशन लाइट की चपेट में आने से मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई घटना उस...

नैनीताल-नाले में मिले नवजात का डीएनए हुआ मैच, जीजा निकला पिता

नैनीताल- नैनीताल के मल्लीताल क्षेत्र में विगत छह फरवरी को नाले में पड़े मिली नवजात मामले में पुलिस ने खुलासा किया है। नवजात की...

ऋषिकेश-पीएम मोदी ने उत्तराखंड को दी बड़ी सौगात, इन प्रोजेक्ट की हुई शुरूआत

ऋषिकेश- आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महत्वाकांक्षी परियोजना नमामि गंगे के तहत उत्तराखंड में बने आठ एसटीपी का वर्चुअल लोकार्पण किया। इस खास मौके...

देहरादून-बाहरी राज्यों से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी, सरकार ने बदले चारधाम आने के नियम

देहरादून-अब उत्तराखंड में चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अच्छी खबर है। राज्य सरकार ने बाहरी राज्यों से उत्तराखंड आने वाले तीर्थ...

हल्द्वानी-आम्रपाली इंस्टिट्यूट का बड़ा प्लान, प्रवासियों को देंगे स्वरोजगार की फ्री ट्रेंनिंग, देखिये सरकार के साथ कैसे करना चाहते हैं कदमताल

हल्द्वानी । आम्रपाली ग्रुप आॅफ इंस्टीट्यूटस के सीईओ0 डा0 संजय ढींगरा ने बताया कि कोविड संकट और केन्द्र की नई शिक्षा नीति को देखते...

देहरादून- युवक कांग्रेस ने ब्लॉक अध्यक्ष व नगर अध्यक्षों की सूची की जारी,देखिये किसको कहाँ मिली जिम्मेदारी

यूथ कांग्रेस ने ब्लॉक और मंडल अध्यक्षों की सोमवार को विधिवत ऐलान कर दिया है।प्रदेश अध्यक्ष सुमित्तर भुल्लर ने कुमाऊं मंडल के...