inspace haldwani
Home लाइफस्टाइल यहां सास पिलाती है दूल्हे को शराब, उसके बाद होती है शादी,...

यहां सास पिलाती है दूल्हे को शराब, उसके बाद होती है शादी, मातम में शराब पीना अनिवार्य है यहां

रायपुर- न्यूज टुडे नेटवर्क : अगर आप सोच रहे हैं कि शराब बुरी चीज है और शादी-ब्याह जैसे मांगलिक कार्य में इसका क्या काम, तो आप गलत हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में एक अनूठी परंपरा के तहत बैगा-आदिवासियों के विवाह में दूल्हे को दुल्हन की मां खुद शराब पिलाकर रस्म की शुरुआत करती है और इसके बाद पूरा परिवार इसका सेवन करता है। यही नहीं, दूल्हा और दुल्हन भी एक-दूसरे को शराब पिलाकर इस परंपरा का निर्वहन करते हैं। इसके बाद पूरे गांव में शादी का जश्न मनाया जाता है।

shadi4

शादी के दिन यहां, दूल्हा व दुल्हन भी एक-दूसरे को शराब का सेवन कराकर प्रथा का निर्वहन करते हैं। इसके बाद, पूरे गांव में विवाह का जश्न मनाया जाता है। इसके साथ ही इस समुदाय में विवाह से लेकर किसी की मौत हो जाने पर भी शराब का सेवन किया जाता है। जानकारी के लिए बता दें कि, विवाह में कोई पंडित नहीं होता और न ही कोई खास सजावट होती है। यहां तक कि ना तो दहेज लिया जाता है एवं ना ही दिया जाता है। समाज के पंचों को 100 रुपये प्रदान किए जाते हैं। इस समुदाय में शादी रचाने एवं दुल्हन लाने हेतु आज भी पूरी बारात कई मीलों दूर पैदल चलकर जाती है। विवाह का पंडाल भी पेड़ों की पत्तियों से तैयार किया जाता है।

shdi5

जश्र या मातम में शराब पीना अनिवार्य

बैगा समुदाय को करीब से जानने वाले बताते हैं कि बैगा आदिवासियों की शादी में कोई पंडित नहीं होता और न ही कोई विशेष सजावट होती है। यहां तक दहेज प्रथा भी पूरी तरह से बंद है। यहां चलता है तो केवल महुए से बनी शराब। यही इनके लिए सब कुछ होता है। महंगाई के इस दौर में आज भी परिवार का मुखिया शादी का खर्च महज 22 रुपये ही लेता है। वहीं समाज के पंचों को 100 रुपये दिए जाते हैं। वनांचल में निवासरत बैगा शादी रचाने और दुल्हन लाने के लिए आज भी पूरी बारात मीलों दूर पैदल चलकर जाती है। शादी का पंडाल भी पेड़ों की पत्तियों से बनाया जाता है। तमाम सामाजिक रस्मों को पूरा करने के बाद दूल्हा दौड़ लगाकर अपनी दुल्हन को पकड़ लेता है और उसे अपनी अंगूठी पहना देता है। आदिवासी बैगा समुदाय में किसी भी जश्न या मातम में शराब परोसना अनिवार्य है। बैगा इस प्रचलित मान्यता को लेकर चर्चा में रहते हैं।

Related News

नई दिल्ली- टाटा के इस फैसले से चीन को उठाना पड़ेगा नुक्सान, होगा ये बड़ा बदलाव

देश की सबसे बड़ी ऑनलाइन ग्रॉसरी कंपनी बिग बास्केट में सबसे बड़ा हिस्सेदार अब टाटा ग्रुप होने जा रहा है। टाटा ने स्पष्ट किया...

विटामिन डी की कमी को दूर, आजमाये डॉ. एनसी पाण्डेय के टिप्स

विटामिन डी की कमी स्वास्थ्य से जुड़ी आम समस्या बन गई है। असल में विटामिन डी वसा घुलनशील होता है जिसका सीधा स्रोत सूर्य...

गुणों से भरपूर है लौंग

लौंग औषधीय गुणों से भरपूर मसाला है जो हमारे खाने का स्वाद बढ़ाती है। लौंग कई बीमारियों का उपचार करने में भी किया जाता...

खाने में शामिल करें ये फल और सब्जिया तो लीवर रहेगा दुरूस्‍त

शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए लीवर का हेल्दी होना भी बहुत जरूरी है। लीवर शरीर को डिटॉक्‍स करने का काम करता है। लीवर...

नई दिल्ली- जाने क्या है सब्जियों के राजा बैंगन का इतिहास, इन बीमारियों के लिए है फायदेमंद

भर्ता हो या फिर बिहारी लिट्टी के साथ खाए जाने वाला चोखा, टमाटर और मटर के साथ लजीज सब्जी भी कम नहीं। बात सब्जियों...

नई दिल्ली- स्वादिष्ठ नेपाली पिज्ज़ा बनाने की ये है पूरी रैसिपी, इन चीजों की मदद से तैयार करें होम मेड पिज़्ज़ा

पिज्जा का स्वाद अनोखा होता है यही वजह है कि कई लोगों को पिज्जा काफी पसंद होता है। लेकिन क्या आपने कभी नेपाली पिज्ज़ा...