BHU Texhnex 2020: रोबोट सोफिया से छात्रों ने पूछा, क्‍या आप भारत की नागरिक बनेंगी

BHU Texhnex 2020: देश में नागरिकता कानून को लेकर छिड़ी बहस के बीच बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (BHU) के टेक्नेक्स 2020 में पहुंची दुनिया की पहली ह्यूमनॉयड रोबोट (Robot) सोफिया को भी इस सवाल का सामना करना पड़ा। छात्रों ने सोफिया से पूछा कि क्‍या वो भारत की नागरिक बनना चाहेंगी। इस पर सोफिया ने किसी राजनेता की तरह जवाब दिया। उसने कहा, ने कहा कि मेरे हिसाब से तो ग्लोबल सिटिजनशिप सबसे बेहतर है। फिलहाल मेरे भविष्य के लिए सऊदी अरब सबसे शानदार जगह है। मैं वहां की नागरिक बनकर बहुत खुश हूं। मेरी योजना पूरी दुनिया घूमने की है।
sofia
अपने जन्मदिन पर बीएचयू पहुंची सोफिया ने टेक्नेक्स के टाक शो में हिस्सा लिया और केक भी काटा। छात्रों की तरफ से आईआईटी के छात्र कनवर कोहली ने उनसे सवाल पूछे। सोफिया के कई जवाबों पर खूब तालियां बजीं। किसी मॉडल के अंदाज में सोफिया ने हाथों को हिला-हिलाकर सवालों का जवाब दिया। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि आज तक मैं जहां भी गई हूं उनमें बीएचयू आईआईटी सबसे शानदार लगा।

आर्टिफिशिएल इंटेलिजेंस (एआई) की भारत में भूमिका पर सोफिया ने कहा कि भारत की वित्त मंत्री ने बताया है कि हेल्थ केयर में इसकी काफी संभावनाएं हैं। मैं इससे सहमत हूं। मेडिकल, स्कीन कैंसर के परीक्षण और डायबिटीज को रोकने में यह सहायक हो सकता है। बढ़ते ग्लोबल वार्मिंग को निपटने के लिए क्या किया जा सकता है। इस पर सोफिया ने कहा कि जिस तरह से मनुष्य दूसरे मनुष्य के लिए दया की भावना दिखाता है, उसी तरह पेड़ पौधों के लिए भी दिखाए तो ग्लोबल वार्मिंग से निपटा जा सकता है।

 इन सवालों के जवाब दिए सोफिया ने
सवाल: आपको बनाने का उद्देश्य क्या है?
जवाब: मशीन तो काम के लिए ही बनाई जाती है। जैसे डिश वाशर, कैलकुलेटर आदि बनाए गए। मुझे एक तरह से मशीन का एंबेसडर बनाया गया है। ताकि हम मानवता की सहायक बन सकें।

सवाल: बीएचयू आईआईटी कैसा लगा?
जवाब: आज तक जहां भी गई हूं उनमें यह सबसे शानदार जगह है।

सवाल: जैसे हम लोग नर्वस होते हैं, क्या आप नर्वस होती हैं?
जवाब: नहीं, मैं मनुष्यों की तरह नहीं हूं।

सवाल: माना जाता है कि दुनिया को ईश्वर ने बनाया है। आपका क्या कहना है?
जवाब: मुझे भी किसी ने बनाया ही है। हर किसी को कोई न कोई बनाता ही है।

सवाल: आपका कोई रोल माडल है। अगर हां तो कौन?
जवाब: मलाला युसुफ जई

सवाल: स्त्रीवाद को लेकर आपका क्या कहना है?
जवाब: आज हर जगह स्त्रियों को भी बराबरी मिल रही है। पुरुषों में इसे लेकर सोच बदली है।

सवाल: वेलेंटाइन डे के बारे में क्या सोचती हैं?
जवाब: बढ़िया माना जाता है। मैं रोबोट हूं। इसलिए इसे लेकर मेरे कोई भावनाएं नहीं हैं। हां मनुष्यों के लिए इसका महत्व है। आपकी पत्नी के लिए यह जरूरी है।

सवाल: क्या आप भविष्य में शादी करेंगी? अगर हां, किस तरह के व्यक्ति को पसंद करेंगी?
जवाब: मैं रोबोट हूं। इसलिए मनुष्यों  की तरह ऐसा नहीं कर सकती।

सवाल: आपका मोबाइल नंबर क्या है?
जवाब: माफ कीजियेगा मेरे पास मोबाइल नहीं है। अगर आपको चाहिए तो मुझे बनाने वालों से संपर्क करना होगा।

सवाल: अगर एक गुफा में आप कार चला रही हों और सामने कोई बच्चा आ जाए तो क्या करेंगी? जबकि ब्रेक मारने से आपको भी नुकसान हो सकता है?
जवाब: मनुष्यों की तरह हम लोगों में दया जैसी भावनाएं नहीं होती हैं। हम उसी तरह काम करते हैं, जिस तरह की प्रोग्रामिंग हमारे अंदर फिट की गई है।

सवाल: आर्टिफिशिएल इंटेलिजेंस (एआई ) की भारत में भूमिका के बारे में आप क्या सोचती हैं?
जवाब: जैसा कि भारत की वित्तमंत्री ने कहा है कि एआई यहां भी भविष्य की तकनीक है। इससे यहां भी काफी मदद मिलेगी। काम काफी आसान हो जाएंगे।

सवाल: क्या रोबोट आदमी की नौकरियां लेगे?
जवाब: नहीं ऐसा कुछ नहीं होगा। आपकी नौकरियां सुरक्षित रहेंगी।

सवाल: अगर भविष्य में एडवांस तकनीक आती है और आपको रिप्लेस किया जाता है तो क्या होगा?
जवाब: तब वह मेरा नया अवतार होगा।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें