inspace haldwani
inspace haldwani
Home आध्यात्मिक भाई दूज 2020- पढिय़े शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि

भाई दूज 2020- पढिय़े शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि

Chhath Puja 2020- नहाय खाय के साथ शुरू हुआ छठ महापर्व, पढिय़े आखिर क्यों मनाया जाता है यह त्योहार

लोक आस्था का छठ महापर्व छठ नहाय खाय के साथ शुरू हो गया है। पर्व की खुशियों पर कोरोना संक्रमण का साया न मंडरा...

ऐसे शुरू हुआ बूढ़ी दिवाली मनाने का प्रचलन, पढिय़े किन राज्यों में जारी है ये परम्परा

हर साल दीपावली के बाद बूढ़ी दिवाली मनाई जाती है। बूढ़ी दिवाली खासकर पहाड़ी क्षेत्रों में मनाई जाती है। हिमाचल और उत्तराखंड के कई...

पटाखों जलाते समय बरते सावधानी, नहीं तो आंखों को हो सकता है ये नुकसान

दिवाली का त्योहार पूरे देश में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता हैं। पटाखों की गूंज और रोशनी से यह त्योहार धमाकेदार...

499 वर्ष के बाद दीपावली पर होगा यह दुर्लभ संयोग, ग्रहों के होंगे दुर्लभ योग, जानिए कब, कैसे क्या हैं कारण, देखें यह खबर…

बरेली,न्‍यूज टुडे नेटवर्क। इस बार दीपावली पर दुर्लभ संयोग उत्‍पन्‍न हो रहा है। लगभग ४९९ वर्षों के बाद यह दुर्लभ संयोग बन रहा है।...

HAPPY DIWALI-2020- पटाखों से जलने पर न करें ये गलतियां, ऐसे करें तुंरत उपचार

दिवाली का त्योहार रोशनी और पटाखों के बिना अधूरा है। लेकिन कई बार इस खुशहाली पर नजर तब लग जाती है जब पटाखों से...

भाई दूज एक ऐसा त्यौहार है, जो एक भाई और बहन के बीच के बंधन को दर्शाता है। भाई दूज को भाई टीका, भ्रात द्वितीया आदि के नाम से भी जाना जाता है। भाई दूज आमतौर पर कार्तिक माह में पड़ता है। दिवाली के ठीक दो दिन बाद यह तारीख आती है। इस अवसर परए बहन तिलक लगाकर अपने भाइयों की लंबी उम्र की प्रार्थना करती हैं। भाई दूज पर लोग मृत्यु के देवता यमराज की पूजा भी करते हैं। पारंपरिक मान्यताओं के अनुसारए अपनी बहन की पुकार का जवाब देने के लिए मृत्यु के देवता यमराज दोपहर के भोजन पर अपनी बहन से मिलने के लिए पहुंचे थे। भाई इस अवसर पर अपनी बहनों को उपहार देते हैं।

भाई दूज मुहूर्त-

भाई दूज का पर्व 16 नवंबर को मनाया जाएगा।
भाई दूज तिलक समय- 13.10 बजे से 15.18.27 बजे तक।
कुल समय- 2 घंटा 8 मिनट।

भाई दूज की पूजा विधि –

भाईदूज के दिन सुबह स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण कर श्रीविष्णु भगवान और गणपति की पूजा करनी चाहिए। इसके बाद भाई का तिलक करने के लिए आरती का थाल सजाएं। थाल में कुमकुम, सिंदूर, चंदन, फलफूल, सुपारी आदि रखने के बाद अपने भाई को चौकी पर बैठाकर शुभ मुहूर्त में उसका तिलक करें। तिलक करने के बाद पान, सुपारी, बताशे, गोला, वस्त्र और काले चने आदि भाई को देकर भाई की आरती करें। पूजा के बाद भाई को भी अपनी सामथ्र्य के अनुसार उपहार, धन और वस्त्र आदि अपनी बहन को देना चाहिए। बहन को विपत्ति के समय उनकी रक्षा का वचन दें।

 

Related News

Chhath Puja 2020- नहाय खाय के साथ शुरू हुआ छठ महापर्व, पढिय़े आखिर क्यों मनाया जाता है यह त्योहार

लोक आस्था का छठ महापर्व छठ नहाय खाय के साथ शुरू हो गया है। पर्व की खुशियों पर कोरोना संक्रमण का साया न मंडरा...

ऐसे शुरू हुआ बूढ़ी दिवाली मनाने का प्रचलन, पढिय़े किन राज्यों में जारी है ये परम्परा

हर साल दीपावली के बाद बूढ़ी दिवाली मनाई जाती है। बूढ़ी दिवाली खासकर पहाड़ी क्षेत्रों में मनाई जाती है। हिमाचल और उत्तराखंड के कई...

पटाखों जलाते समय बरते सावधानी, नहीं तो आंखों को हो सकता है ये नुकसान

दिवाली का त्योहार पूरे देश में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता हैं। पटाखों की गूंज और रोशनी से यह त्योहार धमाकेदार...

499 वर्ष के बाद दीपावली पर होगा यह दुर्लभ संयोग, ग्रहों के होंगे दुर्लभ योग, जानिए कब, कैसे क्या हैं कारण, देखें यह खबर…

बरेली,न्‍यूज टुडे नेटवर्क। इस बार दीपावली पर दुर्लभ संयोग उत्‍पन्‍न हो रहा है। लगभग ४९९ वर्षों के बाद यह दुर्लभ संयोग बन रहा है।...

HAPPY DIWALI-2020- पटाखों से जलने पर न करें ये गलतियां, ऐसे करें तुंरत उपचार

दिवाली का त्योहार रोशनी और पटाखों के बिना अधूरा है। लेकिन कई बार इस खुशहाली पर नजर तब लग जाती है जब पटाखों से...

पांच सौ सालों के बाद ऐसा योग, गुरूवार को नहीं होगा धनतेरस पूजन, शुक्रवार को मनाएं, कब रहेगी धनत्रयोदशी (धनतेरस ) जानें पूजन मुहूर्त…

आइए जानते हैं इस बार ऐसा क्‍यों, और क्‍या हो रहे परिवर्तन..क्‍या करें, क्‍या ना करें बरेली,न्‍यूज टुडे नेटवर्क। इस बार धनतेरस के पर्व को...