PMS Group Venture haldwani

बरेली- हमारा कोई एजेंडा नहीं, भारत में जन्म लेने वाला हर शख्स हिन्दू-मोहन भागवत

69
Slider

Bareilly News-राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संघचालक मोहन भागवत ने कहा कि भारत में जन्म लेने वाला हर शख्स हिन्दू है। हिन्दू किसी धर्म का नहींए दर्शन और चिंतन का नाम है। हमें गर्व है कि हम पराक्रमी पूर्वजों की संतान हैं। अलग-अलग जाति, धर्म और पंथों के होकर भी हम सब एक हैं। उन्होंने कहा कि हमारे देश में जनसंख्या समस्या के साथ संसाधन भी हो सकती है। इसलिए जनसंख्या नीति बनाने से पहले सरकार को इस पर सबके साथ मंथन करने की जरूरत है। कुछ जगह यह छाप दिया गया कि उन्होंने हर इंसान के केवल दो बच्चे होने की बात कही है। मगर यह गलत है। किस इंसान के कितने बच्चे होंगे यह संघ नहीं जनसंख्या नीति तय करेगी।


रुहेलखंड विश्वविद्यालय के स्पोट्र्स स्टेडियम में संघ प्रमुख ने लोगों को भविष्य के भारत पर आरएसएस का दृष्टिकोण समझाया। उन्होंने कहा कि भविष्य के भारत की कल्पना से पूरी दुनिया का संत्रास दूर होगा। भारतवर्ष यहां रह रहे हर शख्स का है। किसी एक संगठन का नहीं। हम सबको भूतकाल और वर्तमान से सीखकर भविष्य की कल्पना करनी है। संघ प्रमुख ने कहा कि 1940 से पहले तक देश का हर शख्स राष्ट्रवादी था। चाहे वह समाजवादी हो या कम्युनिस्ट। मगर आजादी के बाद सब बिखर गए। गांधी जी ने सात पापों से मुक्त भारत की कल्पना की थी। संघ के भारत की कल्पना महात्मा गांधी, रवीन्द्रनाथ टैगोर, भीमराव अंबेडकर के भारत की कल्पना से अलग नहीं है। सबके शब्द अलग-अलग हैं मगर भाव एक है। अच्छे भारत की कल्पना सबने की थी मगर यह आजादी के 70 साल बाद भी साकार क्यों नहीं हो पाई इस बारे में सोचना होगा।

Slider

जमीन का टुकड़ा नहीं है हिन्दुस्तान

मोहन भागत ने कहा कि हिन्दुस्तान कोई जमीन का टुकड़ा नहीं स्वभाव और प्रवृत्ति है। अगर जमीन का टुकड़ा होता तो नाम बदल गया होता। इस देश में जन्मा हर शख्स जिसके पूर्वज हिन्दू थे, वह हिन्दू है। जो लोग हिन्दू नहीं होना चाहते थे वो इस देश को छोडक़र दूसरे देश में चले गए। उन्होंने कहा कि हम सब हिन्दू हैं। जब-जब हम इस बात को भूले तब-तब देश पर विपत्ति आई। इसलिए सब मिलकर रहो। एक दूसरे को बर्दाश्त करना नहीं, स्वीकार करना सीखो। हिन्दू और हिन्दुत्व ने हमेशा वसुधैव कुटुम्बकम का संदेश दिया है।

संघ के पास न रिमोट न अपना कोई एजेंडा

संघ प्रमुख ने कहा कि संघ के पास न तो कोई रिमोट कंट्रोल है न ही अपना कोई अलग एजेंडा। भारत संविधान से चलता है और संघ ने हमेशा संविधान का सम्मान किया है। भीमराव अंबेडकर ने महापुरुषों के सहयोग से भारत का जो रोडमैप तैयार किया था अब उसे साकार करने का वक्त है। उन्होंने कहा कि संघ को मिटाने की सोच रखने वाले लोग खुद मिट गए। कुछ लोग कहते हैं कि संघ वाले जालिम हैं, ये जो भी करेंगे तुम्हारे खिलाफ ही करेंगे। मगर यह सच नहीं है। हम देश के हर नागरिक और अपने देश से प्रेम करते हैं। इसी रास्ते पर चलकर देश तरक्की के मार्ग पर अग्रसर होगा। सरकार देश में आम राय बनाने के बाद ही जनसंख्या नीति बनाए और फिर उसे लागू करे। उन्होंने कहा कि जनसंख्या नीति बनाने से पहले उस पर गंभीरता से चिंतन किए जाने की जरूरत है।

हर उत्तराखंडवासी को मिलेगा 5 लाख का मुफ्त इलाज