बरेली- ऐसे प्रिय होते जा रहे है संतोष गंगवार, बरेली के लिए किये है ये ऐतिहासिक काम

359

बरेली-न्यूज टुडे नेटवर्क : लोकसभा चुनाव 2019 का शंखनाद हो चुका है। बरेली में भाजपा ने एक बार फिर केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार पर भरोसा जताया है। संतोष गंगवार रुहेलखंड में भाजपा की धुरी माने जाते हैं और इस बार आठवीं बार लोकसभा चुनाव लड़ने जा रहे हैं। अब तक उन्हें केवल एक बार 2009 में कोंग्रेस के प्रवीण एरन ने शिकस्त दी है, यूँ तो लोगों के अनुसार संतोष गंगवार की जीत के पीछे बरेली लोकसभा का मज़बूत जातीय समीकरण है मगर स्वभाव से सरल संतोष गंगवार का व्यवहार उनकी जीत में महती भूमिका निभाता है।

Santosh-Gangwar

राजनीतिक सफर

संतोष गंगवार का जन्म 1 नवम्बर 1948 को उत्तर प्रदेश के बरेली में हुआ था। उनकी उच्च शिक्षा आगरा विश्वविद्यालय और रुहेलखंड विश्वविद्याय से हुई। जहां से उन्होंने बीएससी और एलएलबी की डिग्री प्राप्त हासिल की। पढ़ाई के दौरान वह छात्र राजनीति से जुड़े रहे। इंदिरा गांधी की ओर से लगाई गयी इमरजेंसी के दौरान उनको जेल के चक्कर भी काटने पड़े थे। लगातार 6 बार लोकसभा चुनाव जीतने वाले संतोष गंगवार देश में आपातकाल के दौरान सरकार विरोधी आंदोलन को लेकर जेल भी जा चुके हैं। वह 1996 में उत्तर प्रदेश भाजपा इकाई के महासचिव बनाए गए थे। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में पार्टी इकाई के कार्य समिति के सदस्य भी रह चुके हैं। 13वीं लोकसभा में अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में बनी सरकार में वह पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्य मंत्री के साथ-साथ संसदीय कार्य राज्य मंत्री का पदभार भी संभाल चुके हैं। इसके अलावा वह विज्ञान एवं तकनीकि राज्यमंत्री भी रह चुके हैं।

sant

ऐसे बोलते हैं संतोष गंगवार

ये आवाज़ आपको फ़ोन पर ख़ुद हेलो बोलने से पहले ही सुनाई दे जायगी, और हर व्यक्ति इस बात का क़ायल हो जाता है कि ख़ुद केंद्रीय मंत्री फ़ोन उठाकर पहले नमस्कार भी कर रहे हैं जिस समय देश में अरविंद केजरीवाल वेगन आर से घूम कर ख़ुद को साधारण व्यक्ति बताने की कोशिश कर रहे थे संतोष गंगवार उसके 15 साल पहले से बजाज सुपर स्कूटर पर पीछे बैठकर बिना सुरक्षा के किसी के यहाँ भी पहुँच जाते हैं, अपने इसी सरल स्वभाव के कारण संतोष गंगवार जनता के बीच खासे लोकप्रिय हैं। सहज उपलब्धता और वीआइपी कल्चर से दूरी उन्हें अन्य नेताओ से अलग बनाती है। 2014 में पाँच लाख से ज़्यादा मत प्राप्त कर जीते संतोष गंगवार टेक्सटाइल मिनिस्टर, उसके बाद वित्त राज्य मंत्री और अब श्रम एवं रोज़गार मंत्री हैं , इसके पहले भी वो पेट्रोलियम मंत्री रह चुके हैं।

ये हैं केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री की पांच साल की उपलब्धियां

इज्जतनगर रेलवे स्टेशन – इज्जनगर नगर रेलवे स्टेशन को मार्डन स्टेशन के रूप में डेवलपमेंट करवाया है तथा उन्होंने रेलवे स्टेशन पर स्वचलित सीढिय़ों के निर्माण में भी अहम भूमिका निभाई है।

izzatnagar

एयर पोर्ट का लोकार्पण- केन्द्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने बरेली एयरपोर्ट का लोकार्पण कर हवाई जहाज से देश-विदेश आने-जाने के लिए सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा है।


टेक्सटाइल पार्क का निर्माण- केन्द्रीय मंत्री ने टियूलिया में टेक्सटाल पार्क के निर्माण के सपने को देखा और उसके निर्माण की नींव रखी । जहां उद्योगपतियों को विशेष सुविधाएं दी जाएंगी।

sadak2
सडक़ का चौड़ीकरण- बरेली से दिल्ली तक सडक़ चौड़ीकरण में भी उनका विशेष योगदान रहा है।जिसके चलते यात्रियों को आने-जाने में काफी सहूलियत हुई है।

ESIC-image
ईएसआई अस्पताल का निर्माण- सीबी गंज स्थित ईएसआई अस्पताल (एम्प्लाइज स्टेट इंश्योरेंस कारपोरेशन) के निर्माण में संतोष गंगवार का विशेष योगदान रहा है। इससे निजी क्षेत्रों में कार्यरत लाखों कर्मचारियों को इसका लाभ मिल सकेगा।