inspace haldwani
inspace haldwani
Home उत्तरप्रदेश BAREILLY: भुखमरी की कगार पर पहुंचे जिले के मांझा कारीगर, की काम...

BAREILLY: भुखमरी की कगार पर पहुंचे जिले के मांझा कारीगर, की काम शुरू कराने की मांग

शौंचालय निर्माण में नहीं हो रहा मानक कै अनुरुप सामग्री का प्रयोग

पीलीभीतःशौचालय निर्माण में मानक के अनुरुप सामग्री  प्रयोग नहीं किए जाने से ग्रामीणों  में काफी रोष है ।थाना हजारा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम शास्त्री...

ऑल इंडिया कल्चर एसोसिएशन द्वारा बैठक का आयोजन

बरेली l कौमी एकता सप्ताह छठा दिन 24 नवम्बर आल इण्डिया कल्चरल एसोसिएशन ( ऐका ) बरेली द्वारा मनाये जा रहे कौमी एकता सप्ताह...

शिक्षक एमएलसी चुनाव मतदाता सम्मेलन

बरेली l भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी डॉ हरी सिंह ढिल्लों के समर्थन में भाजपा महानगर द्वारा मतदाता सम्मेलन का आयोजन संगम पैलेस कुदेशिया...

तहसील से घर लौट रहे 28 वर्षीय प्राइवेट कर्मचारी की चाकु से गोदकर हत्या,जांच में जुटी पुलिस

बरेलीःतहसील से घर लौट रहे एक प्राइवेट कर्मचारी की हत्यारो ने चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। हत्यारो ने कर्मचारी के शव को गन्ने...

प्रॉपर्टी डीलर ने अपने पूरे परिवार को कुल्हाड़ी से काट डाला

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। पंजाब के लुधियाना से दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. यहां के हंबड़ा रोड स्थित मयूर विहार में एक व्यक्ति...

बरेली: लॉकडाउन (Lockdown) होने के कारण मांझा कामगारों (Manjha Workers) को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। गुरुवार को मांझा कामगार अपना दर्द बयां करने के लिए पूर्व मंत्री अताउर्रहमान (Former minister Ataurrahman) के कैंप कार्यालय आवास विकास पहुंचे। मांझा मजदूर कल्याण समिति ने प्रदेश अध्यक्ष अरशद हुसैन व समिति के सचिव छुटका यासीन ने मांझा कारीगरों के साथ अताउर्रहमान से मुलाकात की और मांझे के अड्डे का काम शुरू कराने के लिए मदद की मांग की।
Manjha Workersउन्होंने बताया कि प्रशासन (Administration) ने बाजार खुलने व कामगारों के लिए रोस्टर (Roster) जारी किए हैं। परंतु मांझे के कारीगर काम नहीं कर पा रहे हैं। रोजमर्रा की कमाई से घर चलाने वालों के लिए अब भुखमरी की नौबत आ चुकी है। मांझा कारीगरों ने इस संबंध में जिलाधिकारी (DM) व एडीएम प्रशासन (ADM Administration) से भी मुलाकात की थी। और मांझा का काम रोस्टर में शामिल करने को कहा था, तब प्रशासन ने कहा था कि आप काम कर सकते हैं। पर अब पुलिस (Police) काम यह कहकर बंद करा देती है कि मांझे का काम रोस्टर में नहीं है।

इस लॉकडाउन में 10 से 50 हजार मांझा कारीगर भुखमरी की कगार पर पहुंच गए हैं। वही पतंग कारीगरों (Kite Workers) ने बताया की पतंग के काम में कच्चा काम करने में महिलाएं जुड़ी हुई थी। और 50 दिन भर में कमा कर उनके घर पर खाना बनता था, पर अब उनका काम भी बंद है। पतंग बनाने का काम शुरू कराया जाए ताकि कारीगर अपनी जीविका चला सके। पूर्व मंत्री उताव रहमान ने आश्वासन दिया है कि समस्याओं को प्रशासन के सामने रखा जाएगा और पूरी मदद की जाएगी।

Related News

शौंचालय निर्माण में नहीं हो रहा मानक कै अनुरुप सामग्री का प्रयोग

पीलीभीतःशौचालय निर्माण में मानक के अनुरुप सामग्री  प्रयोग नहीं किए जाने से ग्रामीणों  में काफी रोष है ।थाना हजारा क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम शास्त्री...

ऑल इंडिया कल्चर एसोसिएशन द्वारा बैठक का आयोजन

बरेली l कौमी एकता सप्ताह छठा दिन 24 नवम्बर आल इण्डिया कल्चरल एसोसिएशन ( ऐका ) बरेली द्वारा मनाये जा रहे कौमी एकता सप्ताह...

शिक्षक एमएलसी चुनाव मतदाता सम्मेलन

बरेली l भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी डॉ हरी सिंह ढिल्लों के समर्थन में भाजपा महानगर द्वारा मतदाता सम्मेलन का आयोजन संगम पैलेस कुदेशिया...

तहसील से घर लौट रहे 28 वर्षीय प्राइवेट कर्मचारी की चाकु से गोदकर हत्या,जांच में जुटी पुलिस

बरेलीःतहसील से घर लौट रहे एक प्राइवेट कर्मचारी की हत्यारो ने चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। हत्यारो ने कर्मचारी के शव को गन्ने...

प्रॉपर्टी डीलर ने अपने पूरे परिवार को कुल्हाड़ी से काट डाला

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। पंजाब के लुधियाना से दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है. यहां के हंबड़ा रोड स्थित मयूर विहार में एक व्यक्ति...

कोरोना काल में एनीमिया से बचाव बेहद जरूरी खानपान का रखें विशेष ध्यान

सीतापुुुरः कोरोना काल में इस बात पर विशेष जोर दिया जा रहा है कि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होनी चाहिए। आज की...