BAREILLY: क्यों होता है  महामूर्ख सम्मेलन

बरेली: होली (Holi) की पूर्व संध्या पर एक सम्मेलन का आयोजन किया गया इस सम्मेलन का नाम है महामूर्ख सम्मेलन। इस सम्मेलन को कल्चरल एसोसिएशन (Cultural Association) एवं जिला समारोह समिति (District Function Committee) की ओर से आयोजित किया गया था।
mahamurkhaइस सम्मेलन में महामूर्ख का खिताब शायर ख्याल खन्ना कानपुरी को मिला। इसमें अन्य कवियों (Poets) को भी उपाधियां (Titles) दी गई। जिसमें मूर्ख शिरोमणि की उपाधि अनिरुद्ध शर्मा, मूर्ख भूषण ऋषि कुमार शर्मा, भारतेंदु सिंह, शाने हिंदुस्तान से मसर्रत अली, शाने बरेली से राजकुमार अफरोज, शाने रूहेलखंड से शरबत परवेज को मूर्ख रत्‍न की उपाधियां दी गई।
mahamurkha sammelanमुख्य अतिथि देवेंद्र खंडेलवाल ने कहा कि महामूर्ख सम्मेलन असलियत में महाबुद्धिजीवी सम्मेलन है। जेसी पालीवाल ने अध्यक्षता करते हुए कहा की खुशी की बात है कि इस कार्यक्रम में सभी धर्मों के लोग शामिल होते हैं। देवेंद्र खंडेलवाल, जेसी पालीवाल, विनय सागर और रणधीर प्रसाद ने लोगों को उपाधियां दी।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें