BAREILLY: कोरोना संक्रमण के सोर्स का पता न लगने से बढ़ा कम्युनिटी स्प्रेड खतरा, स्वास्थ्य विभाग लगातार कर रहा है कोशिश

बरेली: संक्रमण में ऐसी स्थिति जब संक्रमण का सोर्स (Source of infection) क्या है, इसकी जानकारी का पता न चल सके, इसे कम्युनिटी स्प्रेड (Community spread) कहा जाता है। जिले में लगातार कोरोना वायरस संक्रमण के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। इनके सोर्स का पता लगा पाना स्वास्थ्य विभाग (health Department) के सामने एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई है।

coronaसाहूकारा में हुई बुजुर्ग की मौत के बाद उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। लेकिन अभी तक स्वास्थ्य विभाग की कई कोशिशों के बाद भी संक्रमण के सोर्स का पता नहीं चल सका है। इससे पहले भी बरेली के हजियापुर में एक झोलाछाप डॉक्टर की कोरोना संक्रमण से मौत (Death from corona infection) हुई थी। उसके एक माह बाद भी यह नहीं पता चल सका है कि उसे संक्रमण कहां से हुआ था। उस दौरान मृतक के रिश्तेदार मां और बेटे की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) आई थी। जो पूरी तरह ठीक होकर घर जा चुके हैं।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें