iimt haldwani

देहरादून-प्रदेश में शुरू हुई अटल आयुष्मान योजना, ऐसे मिलेगा योजना का लाभ

372

देहरादून-न्यूज टुडे नेटवर्क- उत्तराखंड में अटल आयुष्मान योजना का मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शुभारंभ किया। इस मौके पर हजारों की संख्या में लाभार्थी भी कार्यक्रम में पहुंचे हैं।करीब 10 हजार लोगों की उपस्थिति में मुख्यमंत्री ने योजना का शुभारंभ किया। इस मौके पर सीएम ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।  कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत, राज्यमंत्री डॉ धन सिंह रावत, विधायक विनोद चमोली, गणेश जोशी, हरबंस कपूर, खजान दास, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन, सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक, मेयर सुनील उनियाल गामा मौजूद रहे।

amarpali haldwani

प्रदेश में शुरू हुई आयुष्मान योजना

बता दें कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर शुरू हो रही इस योजना में 60 साल से अधिक आयु के बुजुर्गों और 14 साल तक की आयु के बच्चों को सरकार निशुल्क ओपीडी की सुविधा देने जा रही है। यह 15 फरवरी 2019 से बुजुर्गों व बच्चों को ओपीडी में निशुल्क इलाज की सुविधा मिल सकती है। राज्य सरकार की ओर से जारी पत्र और कोई भी आईडी लेकर जाने से योजना का लाभ तुरंत मिलना शुरू हो जाएगा। इस योजना में किसी भी बीमा कंपनी को शामिल नहीं किया गया है। योजना में बिचौलियों को शामिल नहीं किया गया है। इलाज का पूरा खर्च सरकार उठाएगी। कहा कि 2017 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने जो भी घोषणाएं की है, उनको पूरा करने का प्रयास किया जाएगा। 26 जनवरी से प्रदेश में एयर एंबुलेंस की सुविधा शुरू हो जाएगी।

इन पात्रों को मिलेगा लाभ

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत की, उन्होंने उत्तराखंड के सभी लोगों को इस योजना को शामिल करने की दिशा में काम शुरू किया। इसमें स्वास्थ्य सचिव नितेश झा और वित्त सचिव अमित सिंह नेगी ने विशेष सहयोग दिया। योजना का लाभ किस तरह मिलेगाए इसे लेकर किसी को परेशान होने की जरूरत नहीं है। राज्य के सरकारी अस्पतालों की सेवाएं सुधारने और उपचार में बेहतरी के लिए इनसेंटिव की व्यवस्था की गई है। उपचार का 35 परसेंट सरकारी अस्पतालों को सुविधाएं बढ़ाने के लिए दिया जाएगा।आयुष्मान योजना में पांच लाख तक निशुल्क इलाज की सुविधा मिलनी शुरू हो गई। प्रदेश के 23 लाख राशन कार्ड धारकों के साथ केंद्र के एसीसी सर्वे में चयनित 5.37 लाख लोगों व 2012 की वोटर लिस्ट में जिन लोगों के नाम दर्ज हैं, वे योजना में निशुल्क इलाज के लिए पात्र होंगे।

योजना में मिलेगा मुफ्त इलाज

आयुष्मान योजना में निशुल्क इलाज करने पर निजी अस्पतालों की तर्ज पर सरकारी अस्पतालों को भी भुगतान किया जाएगा। यदि व्यक्ति का इलाज सरकारी अस्पताल में होता है और उस पर 20 हजार रुपये का खर्च आता है, तो यह भुगतान संबंधित अस्पताल को होगा। जिसमें से 50 प्रतिशत राशि योजना को संचालित कर रही सोसायटी को मिलेगी। जबकि 25 प्रतिशत राशि अस्पताल में चिकित्सा उपकरणों, दवाईयों और अन्य व्यवस्थाओं के लिए दी जाएगी। 2011 के सामाजिक आर्थिक और जातीय जनगणना में आपका नाम होना चाहिए या 2012 के राशन कार्ड या वोटर आईडी या मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना का कार्ड आपके पास होना चाहिए। इनमें से अगर आपके पास कोई भी प्रमाण होगा तो आप योजना के पात्र होंगे।