iimt haldwani

नई दिल्ली- NASA के इस चैलेंज में छाये रहे भारतीय छात्र, इन सभी देशों के छात्रों ने किया था प्रतिभाग

74

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा की सालाना प्रतियोगिता ह्यूमन एक्सप्लोरेशन रोवर चैलेंज में भारतीय छात्रों ने अपना लोहा मनवाया। भारत की तीन टीमें इस प्रतियोगिता में पुरस्कार जीतने में कामयाब रहीं। उनकी झोली में चार पुरस्कार आए। यह प्रतियोगिता हाईस्कूल और कॉलेज स्तर के छात्रों के लिए होती है। इसमें भविष्य के चंद्रमा, मंगल और अन्य अंतरिक्ष अभियानों के लिए रोवर बनाने की प्रतियोगिता होती है।

amarpali haldwani

जानकारी मुताबिक नासा ने एक बयान में कहा है कि उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद स्थित केआइइटी ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट ने ‘एआइएए नील आर्मस्ट्रांग बेस्ट डिजाइन अवार्ड’जीता है। मुंबई के मुकेश पटेल स्कूल ऑफ टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट एंड इंजीनियरिंग ने ‘फ्रैंक जो सेक्स्टन मेमोरियल पिट क्रू अवार्ड’पर कब्जा जमाया। इसके अलावा इस स्कूल की टीम को ‘सिस्टम सेफ्टी चैलेंज अवार्ड’ से भी नवाजा गया। पंजाब के फगवाड़ा में स्थित लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी की टीम ‘एसटीइएम इंगेजमेंट अवार्ड’ जीतने में सफल रही।

100 टीमें हुई शामिल

बता दें कि रोवर चैलेंच में सौ पूरे विश्व से 100 टीमें शामिल हुई थी। प्रतियोगिता में अमेरिका, भारत, ब्राजील, बांग्लादेश, मिस्र, जर्मनी और मेक्सिको समेत विभिन्न देशों की करीब 100 टीमों ने हिस्सा लिया। जिसमें जर्मनी के इंटरनेशनल स्पेस एजुकेशन इंस्टीट्यूट ने हाईस्कूल श्रेणी में 91 अंकों के साथ पहला स्थान हासिल किया। कॉलेज श्रेणी में यूनिवर्सिटी प्यूर्टोरिको मायागेज की टीम 101 अंकों के साथ पहले स्थान पर रही।

नासा के अनुसार, यह प्रतियोगिता 12 और 13 अप्रैल को अमेरिकी स्पेस एंड रॉकेट सेंटर में आयोजित हुई थी। इसकी मेजबानी नासा के मार्शल स्पेस फ्लाइट सेंटर ने की। इस प्रतियोगिता को इस वर्ष 25 साल पूरे हो गए। नासा की भारतवंशी अंतरिक्षयात्री सुनीता विलियम्स प्रतियोगिता के दूसरे दिन पहुंचीं और टीमों के साथ बातचीत कीं। दो बार अंतरिक्ष की यात्रा करने वाली सुनीता ने प्रतियोगिता की कई गतिविधियों में हिस्सा भी लिया।