inspace haldwani
Home पर्यटन अल्मोड़ा : सुंदर सौंदर्य और सुखद जीवन का आकर्षण है अल्मोड़ा, एक...

अल्मोड़ा : सुंदर सौंदर्य और सुखद जीवन का आकर्षण है अल्मोड़ा, एक बार जरूर करें यहां की यात्रा

अल्मोड़ा, न्यूज टुडे नेटवर्क : उत्तराखंड में लोकप्रिय पहाड़ी स्टेशनों में से एक अल्मोड़ा। जो दर्शनीय सुंदरता और आकर्षक मौसम एवं आदर्श पर्यटन स्थल के नाम से जाने जाते हैं। यह शहर हिमालय के दक्षिणी भाग के कुमाऊं पहाडिय़ों के बीच 5,417 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। उत्तराखंड में अल्मोड़ा 16वीं शताब्दी में स्थापित किया गया था। सबसे अच्छा समय यात्रा का मार्च और अक्टूबर के महीनों के बीच है जब मौसम सुखद होता है प्रकृति और साहसी प्रेमी सर्दियों के महीनों के दौरान भी यात्राएं कर सकते हैं।

almora1

यहां गोलू देवता सुनते हैं फरियाद, मुराद होती है पूरी

गोलू देवता उत्तराखंड के न्याय के देवता हैं। न्याय के देवता के मंदिर में लोग आकर 10 रुपए से लेकर 100 रुपए तक के गैर-न्यायिक स्टांप पेपर पर लिखित में अपनी-अपनी-अपील करते हैं और जब उनकी अपील पर सुनवाई हो जाती है तो वे फीस के तौर पर यहां आकर घंटियां तथा घंटे बांधते हैं। गोलू देवता के प्रति लोगों की आस्था मंदिर में बंधीं ये घंटियां ही बयां करती हैं। कई टनों में मंदिर के हर कोने-कोने में दिखने वाले इन घंटे-घंटियों की संख्या कितनी है, ये आज तक मन्दिर के लोग भी नहीं जान पाए। आम लोगों में इसे घंटियों वाला मन्दिर भी पुकारा जाता है, जहां कदम रखते ही घंटियों की कतार शुरू हो जाती हैं।

यह भी पढ़ें-उत्तराखंड- देवभूमि है सबसे बेहतर पर्यटन स्थल, जहां आकर इंसान मिलता है सकून

Golu-devta4

यह भी पढ़ें-पर्यटकों का मन मोह लेने वाला पर्यटन स्थल है रानीखेत, जानिए कैसे पड़ा ‘रानीखेत’ का नाम रानीखेत

मंदिरों का शहर है अल्मोड़ा

उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में स्थित अल्मोड़ा अपनी वन्यजीव, संस्कृति और व्यंजनों के लिए प्रसिद्ध है। चंद राजाओं के शासनकाल के दौरान ‘राजापुर’ के नाम से जाना जाता था। यह शहर पाइन और देवदार पेड़ के घने जंगलों से घिरा हुआ है और महात्मा गांधी और स्वामी विवेकानंद ने दौरा किया जिन्होंने अपने लेखन में अल्मोड़ा का उल्लेख किया है। नैनीताल और रानीखेत जैसे पड़ोसी हिल स्टेशनों के विपरीत, जिसे ब्रिटिश द्वारा विकसित किया गया था। अल्मोड़ा कुमाऊंनी लोगों द्वारा विकसित किया गया था। शहर को मंदिरों के शहर के रूप में भी जाना जाता है यहां सबसे अच्छी जगहों की एक सूची है जिसे आप अल्मोड़ा में देख सकते हैं।

यह भी पढ़ें-हिल स्टेशनों में मसूरी है बेहद खूबसूरत और रोमांचक जगह, एक बार जरूर करें यहां का प्लान…

कासार देवी मंदिर

कासार देवी मंदिर को दूसरी शताब्दी ईस्वी तक समझा जाता है और कासार देवी को समर्पित है। मंदिर समुद्र तल से ऊपर 2,100 मीटर की औसत ऊंचाई पर स्थित है और यह सबसे ज्यादा हाइकर्स के बीच लोकप्रिय है क्योंकि यह आसपास के प्राकृतिक दृश्य प्रस्तुत करता है। यह जगह पाइन और देवदार जंगलों के मोटे आवरणों के बीच स्थित है और यह विभिन्न पक्षियों की प्रजाति है।

kasardevi-Temple2

कटारमल सूर्य देव मंदिर

अल्मोड़ा शहर से 16 किलोमीटर दूर स्थित, कटारमल सूर्य देव मंदिर भारत में सूर्य देव को समर्पित दूसरा सबसे महत्वपूर्ण मंदिर है। 9 वीं शताब्दी में मध्यकालीन कैटीरी किंग्स द्वारा मंदिर का निर्माण किया गया था। यह मंदिर अपनी अनूठी वास्तुकला और दीवारों और इसकी छत पर विभिन्न नक्काशी के लिए जाना जाता है। मंदिर परिसर में एक मंदिर है और यह 45 छोटे तीर्थों से घिरा हुआ है जो पत्थर से बनाये गये हैं।

katarmal

बिन्सार वन्यजीव अभयारण्य

ये जगह चंद राजाओं की गर्मियों की राजधानी थी और 1988 में इसे वन आरक्षित के रूप में स्थापित किया गया था। बिन्सार वन्यजीव अभ्यारण्य की ऊंचाई 900 से 2500 मीटर के बीच होती है, इसके उच्चतम बिंदु ‘ज़ीरो पॉइंट’ के साथ होता है जो आसपास के चोटियों के कुछ महान विचार प्रदान करता है । वन को एक विशेष प्रकार के ओक के संरक्षण के लिए स्थापित किया गया था जिसे सिकुड़ते व्यापक पत्ती ओक कहा जाता है और 200 से अधिक प्रजातियां निवासी और प्रवासी पक्षी हैं।

कुमाऊं रेजिमेंटल सेंटर संग्रहालय

कुमाऊं रेजिमेंटल सेंटर म्यूजियम अल्मोड़ा में मॉल रोड से ऊपर की तरफ स्थित है और इसे 1970 में स्थापित किया गया था। संग्रहालय विश्व युद्ध द्वितीय और चीन के साथ 1962 युद्ध जैसे विभिन्न युद्धों के दौरान बचे हुए विभिन्न युद्ध खजाने और हथियारों के लिए जाना जाता है। संग्रहालय की स्थापना का मुख्य उद्देश्य बहादुर सैनिकों के प्रति सम्मान करना और कुमाऊं क्षेत्र की संस्कृति की रक्षा करना था।

jageswar

12 ज्योर्तिलिंगों में से एक है जागेश्वर धाम

जागेश्वर कुमाऊँ अंचल के परम पवित्र तीर्थों में से एक माना जाता है। यह भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है। यहां भगवान शिव का आठवां ज्योर्तिलिंग है। कहा जाता है कि यहां सप्तऋषियों ने तपस्या की थी और यहीं से लिंग के रूप में भगवान शिव की पूजा शुरू हुई थी। खास बात यह है कि यहां भगवान शिव की पूजा बाल या तरुण रूप में भी की जाती है। सबसे विशाल तथा प्राचीनतम ‘महामृत्युंजय शिव मंदिर’ यहां का मुख्य मंदिर है इसके अलावा जागेश्वर धाम में भैरव, माता पार्वती,केदारनाथ, हनुमान, मृत्युंजय महादेव, माता दुर्गा के मंदिर भी विद्यमान है। हर वर्ष यहां सावन के महीने में श्रावणी मेला लगता है। देश ही विदेश से भी यहां भक्त आकर भगवान शंकर का रूद्राभिषेक करते हैं। यहां रूद्राभिषेक के अलावा, पार्थिव पूजा, कालसर्प योग की पूजा, महामृत्युंजय जाप जैसे पूजन किए जाते हैं।

यहां तक कैसे पहुचें

  • हवाई मार्गअल्मोड़ा से निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर 127 किलेमीटर दूर है।
  • रेल मार्गनिकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम 91 किलोमीटर की दूरी पर है। दिल्ली, हावड़ा, बरेली, रामपुर आदि शहरों से यहां पर रेल आती है।
  • सड़क मार्ग: अल्मोड़ा के लिए उत्तर प्रदेश सड़क परिवहन निगम की बसें प्रदेश के सभी प्रमुख नगरों व दिल्ली से नियमित रुप से आती-जाती है।

 

Related News

उत्तराखंड- इस जिले में बनेगा प्रदेश का पहला मगरमच्छ सफारी, इन प्रजातियों के मगरमच्छ बढ़ाएंगे पर्यटकों का एडवेंचर

उत्तराखंड वन विभाग कुमाऊं में सुरई वन रेंज में राज्य की पहली मगरमच्छ सफारी स्थापित करने की योजना बना रहा है। तराई-पूर्व वन प्रभाग...

२०२० के इस विंटर वैकेशन को बनाए और भी सुहाना, इन जगहों पर देखने को मिलेगा प्रकृति का अदभुत सौन्दर्य

लाइफ स्‍टाइल बदलाव के लिए घूमना फिरना भी बेहद जरूरी है बरेली। साल में एक बार कहीं घूमने का प्लान जरूर बनाना चाहिए, इससे हमारी लाइफस्टाइल में...

बड़ी खबर- दो हफ्तों में 75 फ़ीसदी हवाई रूट खोलने की तैयारी, जानिए क्या है वजह 

कोरोना वायरस (Corona virus) और लॉकडाउन के कारण देशभर में डोमेस्टिक और इंटरनेशनल फ्लाइट्स (domestic and international flight) अस्थाई तौर पर निरस्त कर दी...

अब Amazon से भी कर सकेंगे ट्रेन टिकट बुकिंग, मिलेंगे यह ऑफर्स

अमेज़न इंडिया (Amazon India) ने IRCTC के साथ साझेदारी की है। दोनों के बीच साझेदारी होने से अब आप अमेजॉन से भी ट्रेन की...

Ayodhya: अयोध्या में जल्द ही श्रद्धालु क्रूज बोट से करेंगे घाटों के दर्शन, साथ ही मिलेंगी ये सुविधाएं

अयोध्या में पर्यटकों (Tourists) को सरयू आरती के साथ ही अन्य घाटों के दर्शन कराने के लिए जल्द ही क्रूज बोट (Cruise Boat) चलाई...

Tourism: छह महीनों के बाद आज से खुल रहा ताजमहल, सुरक्षा के लिए किए यह खास इंतजाम

कोरोना महामारी (Corona pandemic) के कारण भारत भर में सारे पर्यटन स्थल बंद हो गए थे। अब धीरे-धीरे सभी पर्यटन स्थल फिर से खुलना...