अल्मोड़ा- 20 सदस्यों ने एक साथ दिया त्याहपत्र, अब एसएसजे कॉलेज में गर्माया ये मुद्दा

Slider

Almora College News, एसएसजे परिसर में हुए पेट्रोल कांड के बाद छात्रसंघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती को जेल भेजने के बाद भड़के छात्र आंदोलन को शान्त करने के लिए कुलपति प्रो. केएस राणा ने एसएसजे परिसर के निदेशक प्रो. आरएस पथनी को अवकाश पर भेज दिया। इसके साथ ही उपनिदेशक की नियुक्ति की है। जिसके बाद निदेशक प्रो. पथनी ने वीसी को पत्र भेजकर कार्यमुक्त करने के आग्रह किया है। वहीं इस कार्रवाई से आक्रोशित अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. प्रवीण बिष्ट के साथ ही प्रॉक्टर बोर्ड व डीएसडब्ल्यू के 20-20 सदस्यों ने भी त्यागपत्र दे दिया है। इन सभी ने अपने-अपने इस्तीफे कुलपति को भेज दिए हैं। वहीं मामले के मुख्‍य आरोपित छात्रसंघ अध्‍यक्ष दीपक उप्रेती को बेल मिल गई है।

छात्रसंघ अध्यक्ष को मिली जमानत

एसएसजे परिसर में खुद के बाद निदेशक व महिला प्रोफेसर पर पेट्रोल डालने के आरोपित छात्र संघ अध्यक्ष दीपक उप्रेती को जमानत मिल गई है। उसे बीती 16 नवंबर को कैंपस से गिरफ्तार कर सीजेएम की अदालत में पेश किया गया था, जहां दीपक की जमानत अर्जी खारिज कर उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। इधर बुधवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रदीप पंत की अदालत में छात्र संघ अध्यक्ष की जमानत अर्जी पर बहस हुई। तथ्यों के परीक्षण व सुनवाई के बाद जिला जज ने 15-15 हजार के दो निजी मुचलकों पर छात्र संघ अध्यक्ष को जमानत दे दी।

Slider

Almora College News

क्या है पूरा मामला

बीते शुक्रवार को विभन्‍न मांगों को लेकर एसएसजे कैम्‍पस के छात्रसंघ अध्‍यक्ष दीपक उप्रेती ने समर्थकों के साथ निदेशक प्रोफेसर पथनी से मुलाकत कर तत्‍काल सामधान की मांग की थी। निदेशक ने तकरीब सभी मांगों को पूरा करने का आश्‍वासन दिया था। उन्‍होंने कहा था कि मांगों को धरातल पर उतारने में कुछ वक्‍त लग सकता है लेकिन मांगें सभी पूरी होंगी। आश्‍वासन से संतुष्‍ट न होकर छात्रसंघ अध्‍यक्ष समर्थकों के साथ कैम्‍पस बंद कराकर धरने पर बैठ गया।

जिसके बाद निदेशक जब इतिहास डिपार्टमेंट के एचओडी के साथ समझाने पहुंचे तो दीपक और उग्र हो गया और अपने समर्थकों को भी भड़काने लगा। इसी दौरान अचानक से उसने पहले अपने ऊपर पेट्रोल छिड़क लिया उसके बाद निदेशक और इतिहास विभाग के एचओडी पर भी पेट्रोल उड़ेल दिया। मामले में निदेशक ने तहरीर दी। जिसके बाद आरोपित छात्रसंघ अध्‍यक्ष के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया। इसके बाद से लगातार कुमाऊं भर के कॉलेजों में कैम्‍पस बंद कराकर विरोध एबीवीपी के कार्यकर्ता धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें