उत्तराखंड के सभी सरकारी कार्यालयों में होगा ये बड़ा बदलाव, सभी जिलाधिकरियों को मिले ये निर्देश

Slider

Uttarakhand News, उत्तराखंड सरकार सूबे में सभी सरकारी कार्यालयों में सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग पर बैन लगाने पर विचार कर रही है। इसके तहत राज्य के सभी सरकारी कार्यालयों में प्लास्टिक ग्लास, फोल्डर्स, बोतल, कप और प्लास्टिक से बनीं अन्य वस्तुओं पर बैन लग जाएगा। जबकि पर्यावरण के अनुकूल एक अन्य कदम उठाते हुए सरकार ने राज्य में सभी सरकारी आवासों में बायोडिग्रेडेबल अपशिष्ट पदार्थ का खाद बनाना अनिवार्य कर दिया है।

एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, ‘यह हमारा पहला कदम है, हम इसकी प्रतिक्रिया देखेंगे और इसके बाद आगे की कार्रवाई करेंगे।’जबकि उत्तराखंड पर्यावरण रक्षा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (यूईपीपीसीबी) के सदस्य सचिव एस.पी. सुबुधि ने कहा, ‘ये कदम छोटे हो सकते हैं, लेकिन इनके माध्यम से हम उत्तराखंड को पर्यावरण के अनुकूल बनाने का संदेश देना चाहते हैं।’

Slider

हालांकि सरकार द्वारा सिंगल यूज प्लास्टिक की थैलियों पर लगाया गया पूर्णत: प्रतिबंध अभी भी लागू नहीं हो पाया है और प्लास्टिक की थैलियां बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं। सरकार ने प्लास्टिक की थैलियों के उपयोग पर बैन सुनिश्चित करने के लिए सभी जिला अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

तीसरा राज्‍य बना उत्‍तराखंड

बता दें कि महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के बाद उत्तराखंड ऐसा तीसरा ऐसा राज्य है, जिसने प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाया है। जनवरी 2017 में, सरकार ने पॉलीथिन के बैग और प्लास्टिक की सिंगल यूज वस्तुओं के उत्पादन, वितरण और बिक्री पर बैन लगाने का एक आदेश जारी किया था। यह उत्तराखंड उच्च न्यायालय के दिसंबर 2016 के उस आदेश के बाद आया था, जिसमें प्लास्टिक की बिक्री, खरीद और उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया गया था।

उत्तराखंड की बड़ी खबरें