inspace haldwani
Home Uncategorized अदुभुत रहस्य - इस गांव के लोग चलते-चलते सो जाते हैं, वैज्ञानिकों...

अदुभुत रहस्य – इस गांव के लोग चलते-चलते सो जाते हैं, वैज्ञानिकों के भी उड़ गए होश

करवाचौथ पर कोरोना से महिलाओं की सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य विभाग ने चलाया बड़ा अभियान

त्योहारी सीजन (festive season) की शुरुआत हो गई है। करवा चौथ का त्यौहार भी 4 नवंबर को आने वाला है। लेकिन कोरोना संक्रमण त्योहारों...

Flying Car: अब हवा में उड़ेगी यह कार, हुआ सफल परीक्षण

अब जल्द ही कार से हवा में उड़ना महज एक बीती बात रह जाएगी। क्योंकि स्लोवाकिया (Slovakia) में मात्र तीन मिनट में रोड से...

PUBG: भारत में आज से काम नहीं करेगा पब्जी

केंद्र सरकार ने भारत और चीन के बीच विवाद (India-China dispute) के बाद कई चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिसमें पब्जी मोबाइल...

31 अक्टूबर को होगा Blue Moon का दीदार, जानें क्या है ब्लू मून

शनिवार 31 अक्टूबर को पहली बार आसमान में ब्लू मून (Blue Moon) नजर आएगा। लोग इस खास पल के साक्षी बनने वाले हैं। कोरोना...

Unlock-6: सरकार ने जारी की गाइडलाइन, जानिए क्या खुलेगा क्या नहीं

आगामी 1 नवंबर देशभर में अनलॉक का छठा चरण लागू हो रहा है। इसी के साथ गृह मंत्रालय ने मामूली बदलाव के साथ 1...

क्या आपने कभी सुना है कि कोई चलते-चलते सो गया। नहीं न लेकिन ऐसा होता है और वो भी एक शख्स के साथ नहीं पूरे गांव के साथ। लेकिन आज आपको हम जिस जगह के बारे में बता रहे है. वहां के बारे में जानकर आप चौंक जाएंगे। क्योंकि यहां पर लोग पांच छह घंटे नहीं बल्कि हफ्तो तक सोते हुए नजर आते है। कजाकिस्तान में एक ऐसा गांव है जहां लोग गाड़ी चलाते समय या फिर चलते-चलते सडक़, दफ्तर या कहीं भी सो जाते हैं। वहीं जब ये लोग सोकर उठते हैं तो फिर उन्हें कुछ याद नहीं रहता।

sleep55

सोने का नहीं है कोई टाइम

इतना ही नहीं इनके सोने का कोई टाइम नहीं होता है. लोग यहां पर जाने के बाद चलते फिरते भी सो जाते हैं। दरअसल इस अनोखे गांव का नाम कजांव है जो कजाकिस्तान में स्थित है। कलाची नाम के इस गाँव में रहने वाले लोगों के सोनें का कोई समय नहीं है. यहां के लोग किसी भी समय में कहीं पर भी सो सकते हैं। चौंकाने वाली बात तो यह है कि यहां पर एक या दो नहीं बल्कि पूरे गांव के लोगों को इस परेशानी से गुजरना पड़ता है। और अगर एक बार इंसान सो गया तो वह काफी समय तक सोता ही रहता है।

जब वैज्ञानिकों के उड़ गए होश

ये मामला पहली बार साल 2010 में सामने आया था। कुछ बच्चे अचानक स्कूल में गिर गए थे और सोने लगे थे। इसके बाद इस बीमारी के शिकार लोगों की संख्या बढऩे लगी। तो वैज्ञानिक वहां पर शोध करने के लिए पहुंच गए। वैज्ञानिकों ने गांव का नजारा देखा तो उनके होश उड़ गए। तभी से वैज्ञानिक इस गांव पर रिसर्च कर रहे हैं। जहां शोधकर्ताओं के अनुसार गांव की करीब 800 लोगों की आबादी है। जहां पर करीब 200 लोग इस परेशानी से जूझ रहे हैं।

sleep

इतना ही नहीं बहुत से लोगों की नींद के दौरान ही मौत हो जाती है। शोध में ये भी पता चला कि इस गाँव में हाइड्रोकार्बन-कार्बन मोनोऑक्साइड का स्तर बहुत अधिक है। जिसकी वजह से लोगों को नींद अधिक आती है। वैज्ञानिकों के शोध मे सामने आया कि गाँव के आसपास जो यूरेनियम की खदान हैं, उनमें से बहुत अधिक मात्रा में कार्बन मोनोऑक्साइड का निकास होता है। जिससे गांव को इस परेशानी से गुजरना पड़ता है। वहीं कजाकिस्तान सरकार ने लोगों को दूसरी जगह पर पुनर्वास की व्यव्सथा की है।

लोग कर रहे हैं पलायन

इस बीमारी की वजह से लागतार लोग इस गांव से पलायन कर रहे हैं। पिछले कुछ समय से यहां काफी लोग दूसरी जगह शिफ्ट हो गए हैं।  इसे लेकर वहां के मूल निवासियों का कहना है कि यहां मौजूद यूरेनियम माइंस के कारण ऐसा हो रहा है. दरअसल, इस गैस के प्रभाव के कारण लोग बेहोश तक हो जाते हैं.

Related News

करवाचौथ पर कोरोना से महिलाओं की सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य विभाग ने चलाया बड़ा अभियान

त्योहारी सीजन (festive season) की शुरुआत हो गई है। करवा चौथ का त्यौहार भी 4 नवंबर को आने वाला है। लेकिन कोरोना संक्रमण त्योहारों...

Flying Car: अब हवा में उड़ेगी यह कार, हुआ सफल परीक्षण

अब जल्द ही कार से हवा में उड़ना महज एक बीती बात रह जाएगी। क्योंकि स्लोवाकिया (Slovakia) में मात्र तीन मिनट में रोड से...

PUBG: भारत में आज से काम नहीं करेगा पब्जी

केंद्र सरकार ने भारत और चीन के बीच विवाद (India-China dispute) के बाद कई चीनी एप्स पर प्रतिबंध लगा दिया था। जिसमें पब्जी मोबाइल...

31 अक्टूबर को होगा Blue Moon का दीदार, जानें क्या है ब्लू मून

शनिवार 31 अक्टूबर को पहली बार आसमान में ब्लू मून (Blue Moon) नजर आएगा। लोग इस खास पल के साक्षी बनने वाले हैं। कोरोना...

Unlock-6: सरकार ने जारी की गाइडलाइन, जानिए क्या खुलेगा क्या नहीं

आगामी 1 नवंबर देशभर में अनलॉक का छठा चरण लागू हो रहा है। इसी के साथ गृह मंत्रालय ने मामूली बदलाव के साथ 1...

Zoom में आया अब तक का सबसे जरूरी फीचर, जल्द करें एनेबल

किसी आपदा को अवसर में कैसे बदला जाता है इसका एक सबसे बड़ा उदाहरण है ZOOM वीडियो कॉलिंग प्लेटफार्म (video calling platform)। ज़ूम ऐप...