drishti haldwani

आयुष कालेजों में तीन गुना फीस वृद्धि छात्र-छात्राएं परेशान, सरकार खामोश- प्रकाश जोशी

146

देहराूदन – आयुष छात्रों के आंदोलन में कांग्रेस भी पूरी तरह से शामिल हो गई। छात्रों के समर्थन में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के पूर्व सचिव एवं प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रकाश जोशी ने कहा कि निजी आयुर्वेद कॉलेजों ने छात्रों पर बढ़ी हुई फीस जमा करने के लिए बनाए जा रहे दबाव को छात्रों का शोषण बताया। प्रकाश जोशी ने कहा कि सरकार ने छात्रों की मांग पूरी नहीं की तो कांग्रेस के संगठन इस लड़ाई को लड़ेंगे। राज्य सरकार पर जानबूझकर मामले को न सुनने का आरोप लगाया है। स्टूडेंट्स के धरने में अब कांग्रेस भी कूद गई है।

iimt haldwani

Capture1

फीस में तीन गुनी की गई बढ़ोत्तरी

कांग्रेस नेता प्रकाश जोशी ने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय से सम्बद्ध आयुष शिक्षा कॉलेजों में वर्ष 2015 में जो फीस वृद्धि का शासनादेश जारी किया गया है, उसके विरोध में आयुष शिक्षा में अध्ययनरत छात्र-छात्राएं लम्बे समय से आन्दोलनरत हैं। निजी आयुर्वेद कॉलेजों में शुल्क निर्धारण के लिए सर्वोच्च न्यायालय के दिशा-निर्देशों के अनुरूप उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में गठित शुल्क निर्धारण समिति एक्ट 2006 की सिफारिशों के बिना राज्य सरकार द्वारा बढ़े हुए शुल्क का शासनादेश जारी कर निजी क्षेत्र के आयुर्वेदिक कॉलेजों की फीस में सीधे ही लगभग तीन गुना (80 हजार रुपये से बढ़ाकर 2 लाख 15 हजार) कर दी। निजी कॉलेजों इस शुल्क के अतिरिक्त 35 से 40 हजार रुपये डेवलपमेंट चार्ज एवं अन्य मदों में भी वसूल रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोई भी शासनादेश निर्गत होने की तिथि या उसके अगले सत्र से लागू होता है न कि पिछली तिथि से। आयुष कॉलेजों ने इस शासनादेश को पिछले सत्र से लागू कर दिया, जो कि पूर्णत: नियम विरुद्ध है।

छात्रों से वसूला गया बढ़ा हुआ शुल्क उन्हें वापस लौटाया जाए

प्रकाश जोशी ने कहा कि आयुष कालेजों में शुल्क वृद्धि के शासनादेश के लागू होने के उपरान्त सभी आयुष कॉलेजों ने पूर्व में प्रवेशित छात्रों से भी बढ़ी हुई फीस वसूलने के आदेश जारी कर दिय गए। फीस वृद्धि के आदेशों के उपरान्त पूर्व प्रवेशित छात्रों द्वारा राज्यापाल के सम्मुख अपनी बात रखी गई परन्तु कोई निर्णय न होने के बाद उन्हें मजबूर होकर उच्च न्यायालय की शरण लेनी पड़ी। परन्तु निजी आयुष कॉलेजों ने इन आदेशों की अवहेलना कर दी गई तथा शुल्क लौटाने से मना कर दिया गया। कांग्रेस पार्टी छात्रों की शुल्क वृद्धि रोकने की मांग का समर्थन करती है तथा सरकार से मांग करती है कि उच्च न्यायालय के आदेशों का सख्ती से पालन करवाते हुए छात्रों से वसूला गया बढ़ा हुआ शुल्क उन्हें लौटाया जाए। उन्हांने कहा कि यदि राज्य सरकार इस ओर ध्यान नहीं देती है तो एनएसयूआई और कांग्रेस मिलकर छात्र हितो को लेकर आंदोलन करेगी। इस मौके पर पूर्व विधायक राजकुमार, यूथ कांग्रेस कार्यकारी अध्य्क्ष सुमित्तर भुल्लर, एनएसयूआई के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मोहित उनियाल, प्रवक्ता गरिमा दसौनी, प्रतिमा सिंह भी मौजूद रहे।