iimt haldwani

कैलास मानसरोवर यात्रा प्रारंभ होने में बचे 6 दिन, इस बार इस मार्ग से वापस आएंगे यात्री

167

Kailash Mansarovar Yatra, कैलास मानसरोवर यात्रा शुरू होने में अब मात्र छह दिन का समय बाकी रह गया है। इस बार भी कैलास मानसरोवर के दर्शन करने के बाद यात्री वापसी में पिथौरागढ़ होते हुए लौटेंगे। जबकि यात्रा में जाते समय यात्री बेरीनाग के चौकोड़ी नामक स्थान पर जिले की सीमा में प्रवेश करेंगे। कैलास मानसरोवर यात्रा आगामी 12 जून से प्रारंभ हो रही है। पहले दल के लिए चयनित यात्री नई दिल्ली पहुंचने लगेंगे। जहां पर यात्रियों के कागजात तैयार होंगे और स्वास्थ्य परीक्षण किया गया जाएगा। इसमें सफल यात्रियों को दल में शामिल किया जाएगा। दल 12 जून को दिल्ली से काठगोदाम के लिए रवाना होगा। काठगोदाम पहुंचने के बाद उसी दिन अल्मोड़ा पहुंचेगा। दूसरे दिन अल्मोड़ा से आधार शिविर धारचूला को प्रस्थान कर देर सायं धारचूला पहुंचेगा। तीसरे दिन से पैदल यात्रा प्रारंभ होगी।

amarpali haldwani

kailash mansarovar yatra

नजंग से आगे होगी पैदल यात्रा

13 जून को दल अल्मोड़ा से चल कर जिले में सर्वप्रथम कैलास मानसरोवर यात्रियों का चौकोड़ी में स्वागत होगा। जहां से दल डीडीहाट पहुंचेगा। डीडीहाट में यात्रियों का दोपहर का भोजन होगा। डीडीहाट से दल 7वीं वाहिनी आइटीबीपी मुख्यालय मिर्थी पहुंचेगा। जहां पर आइटीबीपी यात्रियों का स्वागत करेगी। यहां पर अल्प विश्राम के दौरान आइटीबीपी के अधिकारी यात्रियों को उच्च हिमालयी जलवायु, मार्ग के बारे में जानकारी देते हुए वहां बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में बताएंगे। जहां से दल फिर आधार शिविर धारचूला रवाना होगा। देर सायं धारचूला में यात्रियों का भव्य स्वागत होगा। 14 जून को दल धारचूला से नजंग तक वाहन से पहुंचेगा। जहां से पैदल यात्रा प्रारंभ होगी। पहले दिन दल प्रथम पैदल पड़ाव बूंदी, दूसरे दिन गुंजी पहुंचेगा उस दिन गुंजी में प्रवास करने के बाद अगले दिन नाबी होम स्टे में प्रवास को जाएगा। एक दिन नाबी में प्रवास कर फिर अगले दिन गुंजी लौटेगा।

मार्गों को दुरुस्‍त रखने के निर्देश

डॉ. विजय कुमार जोगदंडे, जिलाधिकारी पिथौरागढ़ द्वारा पिथौरागढ़ धारचूला और अल्मोड़ा धारचूला मार्गो को ठीक रखने के निर्देश लोनिवि और बीआरओ को दे दिए गए हैं। मार्ग बंद होने पर तत्काल खोलने के लिए मार्ग पर अतिरिक्त गैंग, जेसीबी, बुलडोजर तैनात रखने को कहा गया है। किसी भी मार्ग के बंद होने पर दूसरे मार्ग से आवाजाही कराई जाएगी।