inspace haldwani
Home देश नई दिल्ली- 10 साल बाद भी कसाब की बेटी नहीं भूली 26/11...

नई दिल्ली- 10 साल बाद भी कसाब की बेटी नहीं भूली 26/11 का दर्द, ऐसे लेगी आंतकियों से बदला

नई दिल्ली- न्यूज टुडे नेटवर्क: मुंबई में हुए 26/11 आतंकी हमले को 10 साल पूरे होने वाले हैं। साल 2008 में हुए उस आतंकी हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी। जबकि सैकड़ों लोग घायल हुए थे। उन्हीं लोगों में से एक थी देविका रोटावन। वो उस वक्त महज 9 साल की थी। हमले में देविका के पैर में गोली लगी थी, जिसके बाद उन्हें कई महीने अस्पताल में गुजारने पड़े।

कहते है कसाब की बेटी

बता दें 26 नवंबर, 2008 को शिवाजी टर्मिनल की घेराबंदी के दौरान अजमल कसाब ने देविका को गोली मारी थी। रातोंरात देविका को दुनिया जानने लगी। उन्हें कोर्ट में कसाब की पहचान के लिए बुलाया गया था। कसाब उस आतंकी हमले में अकेला बचा आतंकी था। वही हमले में घायल हुई देविका जब स्कूल गई तो उन्हें वो सब देखना पड़ा जिसकी उन्हें कभी उम्मीद नहीं थी। स्कूल में अब कोई उनका दोस्त नहीं बचा था, सभी सहपाठी उनसे दूर भागने लगे। देविका का कहना है कि उन्हें सब कसाब की बेटी कहते थे। वह रोते हुए अपने घर जाती थीं क्योंकि लड़कियां उन्हें परेशान करती थीं। जिसके बाद उन्होंने स्कूल छोड़ दिया और दूसरे स्कूल में दाखिला लिया। लेकिन यहां भी मुश्किलें कम नहीं हुईं। देविका ने एक आतंकी की पहचान की थी, इस स्कूल में भी सब उनसे डरने लगे। एक अन्य स्कूल ने उन्हें ये कहकर दाखिला देने से मना कर दिया कि उनकी अंग्रेजी अच्छी नहीं है।

आईपीएस अफसर बनना चाहती है देविका

आतंकियों के डर से देविका के पड़ोसी और रिश्तेदारों ने भी उनसे दूरी बनाना शुरू कर दिया। देविका के पिता नटवरलाल का कहना है कि ट्रायल चलने तक उन्हें धमकियां दी जाती रहीं। देविका का कहना है कि उन सबसे वह डर गई थीं, लेकिन वह कभी टूटी नहीं। बांदरा में एक कमरे में गुजारा करने वाले देविका के परिवार में पिता और दो भाई हैं। आज वह 19 साल की हैं। पिता एक छोटी सी नौकरी करते थे। देविका का भाई बेरोजगार है। 11वीं कक्षा में पढ़ रही देविका का सपना है आईपीएस अफसर बनना है। देविका का कहना है कि उन्हें कसाब को फांसी पर चढ़ता देख खुशी हुई लेकिन अभी बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है।

कोर्ट में कसाब के खिलाफ दी गवाही

देविका ने कहा, “उज्जवल निकम सर मेरी तरफ देख रहे थे क्योंकि मैं उस राक्षस के सामने खड़ी थी जो मेरी जान लेना चाहता था। जब कोर्ट में मुझसे पूछा गया कि तुम्हे किसने गोली मारी? मैंने अपना हाथ खड़ा किया और कसाब की ओर इशारा किया, जो वहां बिना किसी भाव के खड़ा था।”

Related News

नई दिल्ली- इस दिन होगी 2021 नीट पीजी परीक्षा, खबर में देखें परीक्षा का पूरा पैर्टन

नेशनल बोर्ड ऑफ एगजामिनेशन (NBE) ने मेडिकल के पीजी कोर्सेस में एडमिशन के लिए प्रवेश परीक्षा नीट पीजी 2021 की तारीख की घोषणा कर...

लोन देने वाले ऐप चुरा सकते हैं आपका पर्सनल डाटा, गूगल ने इतने ऐप्स‍ कर दिए हैं बैन

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। अगर आप पर्सनल लोन लेने के इच्‍छुक हैं तो सीधे आथोराइज्‍ड बैंक या सरकारी एजेंसी से ही सम्‍पर्क करें। इंटरनेट के...

विधान परिषद चुनाव: बीजेपी ने प्रदेश अध्यक्ष और डिप्टी समेत दो उम्मीदवार उतारे, सपा ने दो बड़े नेताओं को बनाया प्रत्याशी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। यूपी में विधान परिषद चुनावों की सरगर्मियां तेज हो गई हैं। यूपी में विधान परिषद की 12 सीटों पर 28 जनवरी...

65वें जन्मदिन पर बोलीं बसपा प्रमुख- 2022 में यूपी में बसपा की सरकार, अकेले चुनाव लड़ेगी पार्टी

न्‍यूज टुडे नेटवर्क। बसपा सुप्रीमो मायावती ने ऐलान किया है कि 2022 का विधानसभा चुनाव उनकी पार्टी बसपा अकेले ही लड़ेगी। गौरतलब है कि...

नई दिल्ली- कोरोना वैक्सीन के लिए इसलिए भारत का रुख कर रहे कई देश, इनको मिलेगी प्राथमिकता

दुनियाभर में 60 फीसद से अधिक वैक्सीन का निर्माण व आर्पूति करने वाला अपना देश अब कोरोना वैक्सीन के हब के रूप में उभर...

अगर माघ मेले में प्रयागराज आ रहे हैं तो पहले देखेें गाइडलाइन, जानिए, किस दस्तावेज के बिना यहां नहीं मिलेगी एंट्री

मकर संक्रान्ति से संगम पर उमड़ेगा आस्‍था का सैलाब न्‍यूज टुडे नेटवर्क। इस बार के प्रयागराज के माघ मेले में बिना कोरोना की जांच रिपोर्ट...