1992 की आम सहमति थाईवान जलडमरूमध्य के दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास का स्टेबलाइजर

बीजिंग, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। 21 सितंबर को चीन में हाल के दस वर्ष नामक सिलसिलेवार न्यूज ब्रीफिंग पेइचिंग में आयोजित हुई। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी के थाईवान मामलात कार्यालय के प्रवक्ता मा श्याओक्वांग ने संवाददाताओं के सवालों के जवाब देते हुए कहा कि 1992 की आम सहमति थाईवान जलडमरूमध्य के दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास का राजनीतिक आधार है, जो दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास का स्टेबलाइजर भी है।
 | 
1992 की आम सहमति थाईवान जलडमरूमध्य के दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास का स्टेबलाइजर बीजिंग, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। 21 सितंबर को चीन में हाल के दस वर्ष नामक सिलसिलेवार न्यूज ब्रीफिंग पेइचिंग में आयोजित हुई। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय कमेटी के थाईवान मामलात कार्यालय के प्रवक्ता मा श्याओक्वांग ने संवाददाताओं के सवालों के जवाब देते हुए कहा कि 1992 की आम सहमति थाईवान जलडमरूमध्य के दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास का राजनीतिक आधार है, जो दोनों तटों के संबंधों के शांतिपूर्ण विकास का स्टेबलाइजर भी है।

मा श्याओ क्वांग ने कहा कि 1992 की आम सहमति का महत्व इस तथ्य में निहित है कि थाईवान जलडमरूमध्य के दोनों तट चीन के हैं, यह एक ऐतिहासिक वास्तविकता और कानूनी आधार है। इसने दोनों तटों के संबंधों की बुनियादी प्रकृति से जुड़े सवाल का जवाब दिया, जो थाईवान जलडमरूमध्य की शांति व स्थिरता और दोनों तटों के बंधुओं के हितों से संबंधित है।

chaitanya

मा श्याओक्वांग ने यह भी कहा है कि हमने फिर एक बार इस बात को दोहराया कि हम शांतिपूर्ण एकता और एक देश दो व्यवस्थाएं की बुनियादी नीति पर कायम रहेंगे और हम सबसे बड़ी ईमानदारी और सबसे बड़ी कोशिश से शांतिपूर्ण एकता की संभावना को प्राप्त करना चाहते हैं। चीन को एकता चाहिये, और एकता की आवश्यकता है। यह नये युग में चीनी राष्ट्र के महान पुनरुत्थान की जरूरी मांग है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

एएनएम