drishti haldwani

10 महीने बीसीसीआई प्रमुख रहने के बाद…, सौरव गांगुली की राजनीति में होने जा रही एंट्री !

82

सौरव गांगुली की राजनीति में एंट्री : पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली का बीसीसीआई के अध्यक्ष पर नामांकन दाखिल करने के बाद से ही राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली बीसीसीआई अध्यक्ष पद के बाद राजनीतिक पारी शुरू कर सकते हैं। बंगाल टाइगर नाम से मशहूर गांगुली 2021 में पश्चिम बंगाल चुनाव में बीजेपी की तरफ से एक बड़ा चेहरा हो सकते हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान गांगुली ने शनिवार रात को दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही सौरव गांगुली की राजनीति में होने जा रही एंट्री है। हालांकि, गांगुली अभी इन बातों से अभी साफ इनकार कर रहे हैं।

iimt haldwani

ganguli5

डील से गांगुली की इनकार

हालांकि, जब गांगुली से जब पूछा गया कि क्या वह 2021 में बीजेपी का बंगाल में चेहरा होंगे, गांगुली ने कहा, ‘कोई राजनेता मेरे संपर्क में नहीं है और यही हकीकत है। जहां तक ममता दीदी की बात है तो मैं उनका बधाई संदेश पाकर काफी खुश हूं।’ आगे गांगुली ने कहा कि मेरी काबिलियत के कारण मुझे बीसीसीआई में यह पद मिला है। बीसीसीआई की बेहतरी के लिए मैं काम करूंगा। विराट कोहली अच्छा खेल रहे हैं मैं उन्हें आगे भी प्रमोट करूंगा। लेकिन एक हकीकत यह भी है कि गांगुली अमित शाह, अनुराग ठाकुर और हेमंत बिस्वा शर्मा से मिल चुके हैं।

अमित शाह से मिल कर अध्यक्ष बनने की इच्छा जाहिर की

गांगुली ने शनिवार को गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। श्रीनिवासन ने गृह मंत्री अमित शाह से मिल कर बृजेश पटेल का नाम सामने रखा था वही गांगुली ने भी अमित शाह को बीसीसीआइ चीफ बनने की इच्छा जाहिर कर दी थी। कहा जा रहा है कि गांगुली अध्यक्ष बनने के लिए इसलिए तैयार हुए हैं क्योंकि वह बंगाल में बीजेपी का मुख्यमंत्री का चेहरा बनने का ऑफर स्वीकार करेंगे। जबतक बीसीसीआई अध्यक्ष पद पर उनका कार्यकाल खत्म होगा तब तक बंगाल में विधानसभा चुनाव करीब आ जाएंगे।

ganguli

10 महीने ही होगा कार्यकाल

गांगुली 10 महीने के लिए बोर्ड के अध्यक्ष होंगे। गांगुली 5 साल 2 महीने से बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं। नये नियमों के अनुसार बोर्ड का कोई भी सदस्य लगातार 6 साल तक ही किसी पद पर रहेगा। इस तरह गांगुली का बोर्ड में कार्यकाल सितंबर 2020 में समाप्त हो जायेगा।

बंगाल में बीजेपी का चेहरा

पश्चिम बंगाल में 2021 में चुनाव होने हैं और ऐसा कहा जा रहा है कि गांगुली तब राज्य में बीजेपी का चेहरा हो सकते हैं। हालांकि, ठाकुर और हेमंत बिस्वा सरमा में से कोई भी इस बारे में कोई जानकारी शायद ही देगा। पश्चिम बंगाल में कुछ साल पहले तक बीजेपी का कोई प्रतिनिधि तक नहीं था।

बीजेपी का साथ

47 वर्षीय गांगुली को केंद्रीय मंत्री और पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और असम के बीजेपी नेता हेमंत बिस्वा सरमा का भी साथ मिला। बीजेपी का साथ जिस तरह गांगुली को मिला, उससे कई अटकलें लगाई जा रही हैं। गांगुली ने एक फोटो भी ट्विटर पर शेयर किया जिसमें वह अनुराग ठाकुर के साथ नजर आ रहे हैं। उन्होंने बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष को धन्यवाद भी दिया।