हिमाचल चुनाव- सरकार बनाने की तैयारी में भाजपा, बागियों पर है खास नजर

नई दिल्ली, 23 नवंबर (आईएएनएस)। हिमाचल प्रदेश विधान सभा चुनाव का नतीजा वैसे तो 8 दिसंबर को आना है, लेकिन उससे पहले ही भाजपा ने अपने चुनावी प्रदर्शन को लेकर आंतरिक विचार मंथन का दौर शुरू कर दिया है। भाजपा कई स्तरों पर एक-एक सीट की रिपोर्ट ले चुकी है और इस आधार पर चुनावी नतीजे आने से पहले ही भाजपा ने सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है।
 | 
हिमाचल चुनाव- सरकार बनाने की तैयारी में भाजपा, बागियों पर है खास नजर नई दिल्ली, 23 नवंबर (आईएएनएस)। हिमाचल प्रदेश विधान सभा चुनाव का नतीजा वैसे तो 8 दिसंबर को आना है, लेकिन उससे पहले ही भाजपा ने अपने चुनावी प्रदर्शन को लेकर आंतरिक विचार मंथन का दौर शुरू कर दिया है। भाजपा कई स्तरों पर एक-एक सीट की रिपोर्ट ले चुकी है और इस आधार पर चुनावी नतीजे आने से पहले ही भाजपा ने सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है।

प्रदेश में लगातार दूसरी बार सरकार बनाने की कवायद के तहत भाजपा की नजर खास तौर पर अपने उन नेताओं पर टिकी हुई है जिन्होंने इस बार बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ा है। दरअसल, टिकट कटने या उम्मीदवार नहीं बनाने से नाराज पार्टी के 21 नेताओं ने अधिकृत उम्मीदवारों के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद कर दिया था। पार्टी से बगावत का झंडा बुलंद कर निर्दलीय चुनाव लड़ने वाले कई पुराने दिग्गजों के विधान सभा क्षेत्र में हुई वोटिंग ने पार्टी को चिंता में डाल दिया है और ऐसे में भाजपा ने अपने नेताओं की टीम को उनकी निगरानी पर लगा दिया है।

chaitanya

सूत्रों के मुताबिक, आलाकमान का संदेश पाने के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने स्वयं भी कई निर्दलीय उम्मीदवारों से मुलाकात कर उनका मन टटोल लिया है। बताया जा रहा है कि भाजपा की नजर कांग्रेस के उन मजबूत बागी उम्मीदवारों पर भी टिकी हुई है जिन्होंने अपनी पार्टी से बगावत कर इस बार निर्दलीय चुनाव लड़ा था।

दरअसल,हिमाचल प्रदेश में मुख्य मुकाबला कांग्रेस और भाजपा में ही माना जा रहा है। हाल के वर्षों में चुनाव लड़ने और सरकार बनाने दोनों ही मामलों में भाजपा अपनी पूर्व तैयारी, आक्रामक रवैये और तेजी से फैसले लेने की क्षमता के कारण पहले भी कई बार कांग्रेस को अन्य राज्यों में मात दे चुकी है और इसी अंदाज में भाजपा ने हिमाचल प्रदेश को लेकर भी एडवांस तैयारी शुरू कर दी है।

--आईएएनएस

एसटीपी/एएनएम