हिंडनबर्ग रिसर्च के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी कर रहा अडानी समूह

नई दिल्ली, 26 जनवरी (आईएएनएस)। हिंडनबर्ग रिसर्च द्वारा 24 जनवरी को प्रकाशित रिपोर्ट दुर्भावनापूर्ण, शरारती, बिना शोध की है। इसने हमारे शेयरधारकों और निवेशकों पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। यह बात अडानी समूह ने गुरुवार को एक बयान में कही।
 | 
नई दिल्ली, 26 जनवरी (आईएएनएस)। हिंडनबर्ग रिसर्च द्वारा 24 जनवरी को प्रकाशित रिपोर्ट दुर्भावनापूर्ण, शरारती, बिना शोध की है। इसने हमारे शेयरधारकों और निवेशकों पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। यह बात अडानी समूह ने गुरुवार को एक बयान में कही।

अडानी के लीगल ग्रुप हेड जतिन जलुंधवाला ने कहा, रिपोर्ट की वजह से भारतीय शेयर बाजार में अस्थिरता आई, यह लोगों को अनावश्यक रूप से परेशानी का सामना करना पड़ा।

उन्होंने कहा, रिपोर्ट को अडानी समूह की कंपनियों के शेयर मूल्यों पर हानिकारक प्रभाव डालने के लिए तैयार किया गया था।

हिंडनबर्ग रिसर्च ने खुलासा किया था, हम यूएस-ट्रेडेड बॉन्ड और गैर-भारतीय-ट्रेडेड डेरिवेटिव के साथ-साथ अन्य गैर-भारतीय-ट्रेडेड रेफरेंस सिक्योरिटीज के माध्यम से अडानी समूह की कंपनियों में शॉर्ट पोजिशन रखते हैं।

हम विदेशी संस्था द्वारा निवेशक समुदाय और आम जनता को गुमराह करने के इस जानबूझकर और लापरवाह प्रयास से बहुत परेशान हैं, अडानी समूह और उसके नेताओं की सद्भावना और प्रतिष्ठा को कम करते हैं व एफपीओ (फॉलो-ऑन पब्लिक ऑफरिंग) को नुकसान पहुंचाते हैं। हम हिंडनबर्ग रिसर्च के खिलाफ उपचारात्मक और दंडात्मक कार्रवाई के लिए अमेरिकी और भारतीय कानूनों के तहत प्रासंगिक प्रावधानों का मूल्यांकन कर रहे हैं।

chaitanya

--आईएएनएस

सीबीटी