सेना के सम्मान को लेकर राहुल गांधी के बयान पर बोली भाजपा - अपने बयानों के लिए सॉरी बोलेंगे राहुल?

नई दिल्ली, 24 जनवरी (आईएएनएस)। दिग्विजय सिंह के बयान से किनारा करते हुए सेना के सम्मान को लेकर राहुल गांधी द्वारा दिए गए बयान को लेकर भाजपा ने उन्हें घेरना शुरू कर दिया है।
 | 
नई दिल्ली, 24 जनवरी (आईएएनएस)। दिग्विजय सिंह के बयान से किनारा करते हुए सेना के सम्मान को लेकर राहुल गांधी द्वारा दिए गए बयान को लेकर भाजपा ने उन्हें घेरना शुरू कर दिया है।

राहुल गांधी के बयान पर तल्ख टिप्पणी करते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने यह पहली बार कहा है कि वो सेना का सम्मान करते हैं, लेकिन उनके बयान से ही कई सवाल खड़े हो रहे हैं। प्रसाद ने कहा कि दिग्विजय सिंह तो राहुल गांधी के साथ उनकी यात्रा में कन्याकुमारी से चल रहे हैं तो हजारों किलोमीटर की यात्रा में राहुल गांधी उनको समझा नहीं पाए थे क्या ?

प्रसाद ने राहुल गांधी को उनके पुराने बयानों की याद दिलाते हुए कहा कि राहुल ने दौसा में कहा था कि चीनी सैनिक भारत की सेना को पीट रहे हैं। गलवान पर ट्वीट किया था कि क्या चीन कब्जा कर रहा है ? सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर सेना की वीरता को खून की दलाली बताया था। टुकड़े टुकड़े गैंग के लिए जेएनयू भी गए थे और हिंदू आतंकवाद की बात भी राहुल गांधी ने कही थी। प्रसाद ने सवाल पूछा कि अपने इन बयानों के लिए राहुल गांधी सॉरी कब बोलेंगे ?

chaitanya

दिग्विजय सिंह के बयान को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए प्रसाद ने कहा कि ये देश सेना की शहादत का सबूत नहीं मांगता उनके बलिदान को सलाम करता है। दिग्विजय सिंह ने जाकिर नाइक को शांति का दूत बनाया था, ओसामा बिन लादेन को ओसामा जी कहा था और बाटला हाउस एनकाउंटर में मारे गए आतंकियों के परिवार से मुलाकात कर एनकाउंटर पर भी सवाल खड़ा किया था। उन्होंने पी चिदंबरम, मणिशंकर अय्यर और सलमान खुर्शीद जैसे नेताओं के बयान की याद दिलाते हुए कहा कि यह कांग्रेस की पुरानी आदत रही है कि जब भी वो फंसती है तो उसे अपने नेताओं का निजी बयान करार देकर बचने की कोशिश करती है। आखिर इस तरह के निजी विचार की सीमा क्या होगी ? आज के कांग्रेस नेताओं की ट्रेनिंग क्या है ? सेना को लेकर कांग्रेस नेताओं की सोच का स्तर क्या है ?

chaitanya

भाजपा नेता ने आतंकवाद और देश की सुरक्षा के मसले पर कांग्रेस पार्टी के स्टैंड को स्प्ष्ट करने की मांग करते हुए आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के बारे में कांग्रेस नेता न जाने क्या-क्या कहते हैं जबकि आज देश ने यह देख लिया कि जयराम रमेश किस तरह से सवाल पूछने से रोक रहे थे, जबकि दिग्विजय सिंह जवाब देने के लिए उत्साहित थे।

--आईएएनएस

एसटीपी/एएनएम