Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश शोध- कोरोना के लिए प्रयोग होने वाली इस दवा का मरीजों में...

शोध- कोरोना के लिए प्रयोग होने वाली इस दवा का मरीजों में नहीं दिखा कोई असर

उत्तराखंड में कोरोना से मौत का आंकड़ा पहुचा 555, देखिये आज आपके ज़िले में कितने हुए कोरोना संक्रमित

उत्तराखंड में कोरोनावायरस का प्रकोप रूकने का नाम नहीं ले रहा है. प्रदेश में देर रात 928 रोगियों कोरोनावायरस से संक्रमित हुए हैं जिससे...

किसान व गरीब मजदूर विरोधी है भाजपा सरकार-पाल

संवाददाता- अनुराग शुक्ला स्थान- सितारगंज वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व विधायक नारायण पाल ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा सरकार गरीब मजदूर...

उत्तराखंड- अब इस गांव में तेंदुए ने मचाया आतंक, इस बार किशोरी को बनाया शिकार

उत्तराखंड में मानव-वन्यजीव संघर्ष की घटनाएं बढ़ती जा रही है, इस बार की घटना पिथौरागढ़ जिले के छाना पांडेय गांव की है, जहां गुरुवार...

UP BOARD: यूपी बोर्ड इन कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए बना रहा है वेब पोर्टल, मिलेंगी ये सुविधाएं

यूपी बोर्ड (UP Board) प्रदेश के 28 हजार से अधिक स्कूलों में कक्षा 9 से 12वीं तक के विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study)...

Bareilly: किसान आंदोलन के समर्थन में सपा कार्यकर्ताओं सौंपा ज्ञापन, की यह मांग

प्रदेश में पिछले कई दिनों से किसानों का आंदोलन (farmers movement) जारी है। कई विपक्षी पार्टियां किसानों के साथ खड़ी हैं। इसी बीच बरेली...

पूरी दुनिया में अभी भी कोरोना (Corona virus) का कहर जारी है। इसके इलाज के लिए नए नए शोध (research) किए जा रहे हैं। लेकिन अभी कामयाबी नहीं मिल पाई है। इसी के चलते एचआईवी संक्रमण (HIV) के इलाज में प्रयोग होने वाली लोपिनवीर-रितोनवीर (lopinavir-ritonavir) दवा का इस्तेमाल किया गया था। लेकिन शोध में पाया गया कि इसका मरीजों पर कोई असर दिखाई नहीं दिया है।
lopinavir-ritonavir HIV medicine
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) ने लंबे अध्ययन के बाद इसकी पुष्टि की है। ब्रिटेन के 176 अस्पतालों में भर्ती 11,800 मरीजों पर कुछ दवाओं के परीक्षण किए गए थे, जिनमें लोपिनवीर-रितोनवीर दवा भी शामिल है। इसे लेकर विशेषज्ञों का कहना है, जिन देशों में कोविड मरीजों को ये दवाएं दी जा रही हैं, उन्हें कोविड उपचार प्रबंधन में बदलाव करना चाहिए। अध्ययन के अनुसार, 1596 मरीजों को यह दवा दी गई। दवा देने से पहले इनमें चार फीसदी मरीजों को वेंटिलेटर देना जरूरी था और 70 फीसदी मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत थी।

जबकि 26 फीसदी मरीजों में किसी भी प्रकार की सांस संबंधी परेशानी नहीं थी।परीक्षण के दौरान मरीजों पर दवाओं का असर दिखाई नहीं दिया। सामान्य तौर पर यह दवा एंटीवायरल (antiviral medicine) के रुप में जानी जाती है। एचआईवी उपचार में इसका इस्तेमाल किया जाता है। भारत में ज्यादातर इस दवा का निर्माण होने के बाद निर्यात किया जाता है। फरवरी में आईसीएमआर (ICMR) ने कोविड मरीजों के उपचार में इस दवा को शामिल करने की मंजूरी दी थी।
                          http://www.narayan98.co.in/
narayan college                        https://youtu.be/yEWmOfXJRX8

Related News

उत्तराखंड में कोरोना से मौत का आंकड़ा पहुचा 555, देखिये आज आपके ज़िले में कितने हुए कोरोना संक्रमित

उत्तराखंड में कोरोनावायरस का प्रकोप रूकने का नाम नहीं ले रहा है. प्रदेश में देर रात 928 रोगियों कोरोनावायरस से संक्रमित हुए हैं जिससे...

किसान व गरीब मजदूर विरोधी है भाजपा सरकार-पाल

संवाददाता- अनुराग शुक्ला स्थान- सितारगंज वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व विधायक नारायण पाल ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा सरकार गरीब मजदूर...

उत्तराखंड- अब इस गांव में तेंदुए ने मचाया आतंक, इस बार किशोरी को बनाया शिकार

उत्तराखंड में मानव-वन्यजीव संघर्ष की घटनाएं बढ़ती जा रही है, इस बार की घटना पिथौरागढ़ जिले के छाना पांडेय गांव की है, जहां गुरुवार...

UP BOARD: यूपी बोर्ड इन कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए बना रहा है वेब पोर्टल, मिलेंगी ये सुविधाएं

यूपी बोर्ड (UP Board) प्रदेश के 28 हजार से अधिक स्कूलों में कक्षा 9 से 12वीं तक के विद्यार्थियों की ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study)...

Bareilly: किसान आंदोलन के समर्थन में सपा कार्यकर्ताओं सौंपा ज्ञापन, की यह मांग

प्रदेश में पिछले कई दिनों से किसानों का आंदोलन (farmers movement) जारी है। कई विपक्षी पार्टियां किसानों के साथ खड़ी हैं। इसी बीच बरेली...

ड्रग्स मामले में एनसीबी की पूछताछ है जारी, रकुल प्रीत और दीपिका की मैनेजर करिश्मा से चल रही है पूछताछ

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) के ड्रग्स मामले में बॉलीवुड की कई बड़ी हस्तियां एसीबी (NCB) की रडार पर है। ड्रग्स...