लॉकडाउन तोड़ा तो पहुंचेे लॉकअप: घर पर नहीं मान रहा था इन लोगों का मन, अब बन गए समाज के दुश्‍मन

न्‍यूज टुडे नेटवर्क।
लॉकडाउन में घर पर रहिए। अपनों के साथ वक्‍त बिताइए। अगर घर पर आपका मन नहीं माना तो पुलिस आपको समाज का दुश्मन बना देगी। यही नहीं, आपकी जगह-जगह बदनामी भी होगी क्योंकि आप खुद हाथ में एक पंपलेट लेकर यह बताएंगे कि आप समाज के दुश्मन हैं। देर शाम पुलिस ने लॉकडाउन तोड़ने वाले 12 लोगों को लॉकअप पहुंचा दिया।
lockdown3
कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए सरकार ने प्रदेश में 25 तक लॉकडाउन किया है। लॉकडाउन मतलब आप बाहर घूमना छोड़कर पूरी तरह से अपने आप को घर के अंदर कैद रखें। लोगों से मिलें जुलें नहीं, नही बैठक में और गपशप करें। मगर तमाम लोग ऐसे हैं जिन पर सरकार की इस चेतावनी का कोई फर्क पड़ता नजर नहीं आ रहा है। लॉकडाउन के बावजूद यह लोग सुबह-सुबह घूमने निकल पड़े।
lockdown
तमाम लोग ऐसे भी हैं जो पूरे दिन किसी न किसी बहाने शहर की सड़कों पर निकले और बाइक व कारों से जमकर मटरगश्ती की। कोई काम न होने के बावजूद शहर में घूम रहे ऐसे लोगों को पुलिस ने दोपहर तक चेतावनी दी और दोपहर के बाद सख्ती से रोकना शुरू कर दिया।
lockdown4
ऐसे सभी लोगों को रोका गया चेतावनी दी गई और इनके हाथों में एक पंपलेट थमा कर फोटो खींचा गया, जिसमें लिखा है मैं समाज का दुश्मन हूं मैं घर पर नहीं रहूंगा।

तमाम जगह इस तरह की कार्यवाही करने के साथ ही पुलिस ने बाइक सवारों और कार चालकों को अंतिम चेतावनी दी कि अगर अबकी बार सड़क पर दिखाई दिए तो फिर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके बावजूद लोग नहीं माने देर शाम पुलिस ने धारा 144 का उल्लंघन करने वाले 12 लोगों को गिरफ्तार कर लिया।
lockdown5
इसके बाद सभी थानों में इस तरह की कार्रवाई शुरू हो गई जहां भी जो लोग सड़क पर घूमते दिखे पुलिस उन्हें थाने ले गई। अफसरों का कहना है कि प्यार से समझाए जाने पर लोग नहीं मान रहे हैं इसलिए अब उनके खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। डीएम और एसएसपी ने लोगों से अपील की है कि वे लॉकडाउन के दौरान बेवजह घर से न निकले जो लोग कानून तोड़कर सड़क पर घूम रहे हैं अब वह कार्रवाई पर किसी भी कीमत पर नहीं बच पाएंगे।

कोरोना पीड़ित संदिग्ध बोला डॉक्टर साहब मेरी जान बचा लो। देखिये अस्पताल में अंदर फिर क्या हुआ। मॉक ड्रिल अस्पताल की।