लाल बहादुर शास्त्री ने देश को आत्मनिर्भरता की ओर उन्मुख किया था : तमिलनाडु के राज्यपाल

चेन्नई, 23 नवंबर (आईएएनएस)। तमिलनाडु के राज्यपाल आर.एन. रवि ने बुधवार को कहा कि देश के प्रधानमंत्री के रूप में लाल बहादुर शास्त्री ही थे, जिन्होंने भारत को आत्मनिर्भरता की ओर उन्मुख करते हुए सरकार की नीतियों में आमूलचूल परिवर्तन किया था।
 | 
लाल बहादुर शास्त्री ने देश को आत्मनिर्भरता की ओर उन्मुख किया था : तमिलनाडु के राज्यपाल चेन्नई, 23 नवंबर (आईएएनएस)। तमिलनाडु के राज्यपाल आर.एन. रवि ने बुधवार को कहा कि देश के प्रधानमंत्री के रूप में लाल बहादुर शास्त्री ही थे, जिन्होंने भारत को आत्मनिर्भरता की ओर उन्मुख करते हुए सरकार की नीतियों में आमूलचूल परिवर्तन किया था।

रवि बुधवार को यहां शास्त्री भवन में भारत के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की प्रतिमा का अनावरण करने के बाद एक सभा को संबोधित कर रहे थे।

राज्यपाल ने कहा कि आजादी के पहले 17 वर्षो में भारत को रक्षा और खाद्य सुरक्षा के मोर्चो पर अपमान और निराशा का सामना करना पड़ा। यह देश के प्रधानमंत्री के रूप में जवाहरलाल नेहरू की अवधि का एक परोक्ष संदर्भ था।

chaitanya

उन्होंने कहा कि देश की आजादी के पहले डेढ़ दशकों में देश ने अपने रक्षा बलों पर बहुत कम ध्यान दिया और जम्मू-कश्मीर और अक्साई चिन में अपने दुश्मनों को खोता रहा।

रवि ने कहा कि देश उन दिनों आदर्शवादी रास्ते पर चल रहा था न कि यथार्थवादी रास्ते पर।

पूर्व आईपीएस अधिकारी ने कहा कि यह शास्त्री ही थे जिन्होंने जय जवान, जय किसान शब्द गढ़ा था और कहा कि यह सिर्फ एक नारा नहीं था, बल्कि राष्ट्र के अपने रक्षा बलों को देखने के तरीके में एक आदर्श बदलाव था।

तमिलनाडु के राज्यपाल ने कहा कि लाल बहादुर शास्त्री ने ही देश में हरित क्रांति की नींव रखी थी, जिससे देश के लोगों को भोजन के मामले में आत्मनिर्भरता मिली।

रवि ने कहा कि भले ही दूसरे प्रधानमंत्री का कार्यकाल नियति ने छोटा कर दिया, लेकिन उन्होंने देश को महान भारत को आगे ले जाने की आधारशिला रखी थी।

--आईएएनएस

एसजीके/एएनएम