राष्ट्रीय खेल: टेबल टेनिस में पुरुषों के फाइनल में गुजरात का सामना दिल्ली से, महिला वर्ग में पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में होगी भिड़ंत

सूरत, 21 सितंबर (आईएएनएस)। खिताब के दावेदार गुजरात ने यहां पीडीडीयू इंडोर स्टेडियम में जारी 36वें राष्ट्रीय खेलों के पुरुष टेबल टेनिस सेमीफाइनल में पश्चिम बंगाल पर 3-0 से आसान जीत दर्ज करके घरेलू दर्शकों को खुश कर दिया जबकि दिल्ली ने बुधवार को दूसरी वरीयता प्राप्त महाराष्ट्र को 3-2 से चौंकाया।
 | 
राष्ट्रीय खेल: टेबल टेनिस में पुरुषों के फाइनल में गुजरात का सामना दिल्ली से, महिला वर्ग में पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र में होगी भिड़ंत सूरत, 21 सितंबर (आईएएनएस)। खिताब के दावेदार गुजरात ने यहां पीडीडीयू इंडोर स्टेडियम में जारी 36वें राष्ट्रीय खेलों के पुरुष टेबल टेनिस सेमीफाइनल में पश्चिम बंगाल पर 3-0 से आसान जीत दर्ज करके घरेलू दर्शकों को खुश कर दिया जबकि दिल्ली ने बुधवार को दूसरी वरीयता प्राप्त महाराष्ट्र को 3-2 से चौंकाया।

महिला फाइनल में गत चैंपियन महाराष्ट्र का सामना पश्चिम बंगाल से होगा। महाराष्ट्र को तमिलनाडु को 3-1 से हराने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी जबकि बंगाल की अनुभवी टीम ने सेमीफाइनल में तेलंगाना को 3-0 से हराया।

गुजरात के कप्तान हरमीत देसाई उस समय दबाव में थे, जब स्ट्रोक की रेंज पाते हुए अनिर्बान घोष ने 2-1 की बढ़त ले ली लेकिन अनुभवी हरमीत ने आखिरी दो गेम 11-4, 11-3 से जीत लिए। मानव ठक्कर और मानुष शाह ने इसके बाद रोनित भांजा और जीत चंद्रा पर सहज जीत दर्ज करते हुए अपनी टीम को स्वर्ण पदक मैच में पहुंचा दिया।

chaitanya

महाराष्ट्र और दिल्ली के बीच अन्य पुरुष सेमीफाइनल में पायस जैन ने अपनी टीम को जीत की ओर ले जाने के लिए अच्छा खेल दिखाया। जैन ने पहले तो दूसरे मैच में पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन सानिल शेट्टी को हराकर अपनी टीम को 2-0 की बढ़त दिलाई। हालांकि, सिद्धेश पांडे ने यशांश मलिक को मात दी और फिर शेट्टी ने सुधांशु ग्रोवर को हराकर स्कोर बराबर कर दिया।

लेकिन अगर दूसरी वरीयता प्राप्त खेलों के पिछले संस्करण में कांस्य पदक जीतने वाले प्रदर्शन में सुधार की उम्मीद कर रही थी, तो जैन के विचार अलग थे। दीपक पाटिल के लिए उनका आक्रामक खेल बहुत अधिक था और दिल्ली के लड़के ने दिल्ली को फाइनल में ले जाने के लिए 11-9, 11-6, 12-10 से मैच जीता।

महिलाओं के सेमीफाइनल में, एस. यशिनी (तमिलनाडु) ने महाराष्ट्र के खिलाफ सेमीफाइनल के पहले मैच में दीया चितले पर आश्चर्यजनक वापसी की।

राष्ट्रमंडल खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले चितले ने चौथे गेम में पहले तीन में से दो में जीत हासिल कर 5-0 की बढ़त बना ली लेकिन याशिनी ने अपना संयम बनाए रखा और अपने प्रतिद्वंद्वी पर शानदार बैकहैंड विनर्स के साथ दबाव डाला। अंतिम गेम में दोनों के बीच स्कोर 5-5 था लेकिन बाद में चितले ने कई ऐसी गलतियां की, जो उन पर भारी पड़ीं।

हालांकि, स्वस्तिका घोष ने वी. कौवशिका को हराकर स्कोर बराबर किया और फिर रीथ्रिश्या टेनिसन ने अपनी टीम को आगे बढ़ाने के लिए सीआर हर्षवर्धनी को हराने की दिशा मे अपने अनुभव का इस्तेमाल किया। ऐसी स्थिति में चितले पर रिजर्व फिक्सचर में अच्छा करने का दबाव था। हालांकि, इस युवा खिलाड़ी ने कौशिक को पांच गेमों में हरा दिया लेकिन वह अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से दूर थीं।

दूसरे सेमीफाइनल में, अहिका मुखर्जी द्वारा दूसरे मैच में अकुला श्रीजा को मात देने के बाद नतीजा तय हो गया था। श्रीजा कुछ मैच अंक बचाने में सफल रही, लेकिन अहिका ने 3-2 से जीत हासिल की। सुतीर्थ मुखर्जी और अनुभवी मौमा दास ने अन्य दो मैच जीते।

मनिका, साथियान ने व्यक्तिगत स्पर्धाओं में शीर्ष स्थान हासिल किया:

टूर्नामेंट जूरी ने वरीयता तय करने में विश्व रैंकिंग को अधिक वेटेज देने का फैसला किया। 2018 राष्ट्रमंडल खेलों की चैंपियन मनिका बत्रा को महिलाओं और जी. साथियान को क्रमश: राष्ट्रीय चैंपियन अकुला श्रीजा और ए. शरथ कमल से आगे एकल ड्रॉ में शीर्ष बिलिंग दी गई।

44-खिलाड़ियों के पुरुष एकल और 43-खिलाड़ियों के महिला एकल ड्रॉ के शुरूआती दौर में अधिकांश शीर्ष खिलाड़ियों को बाई मिली है।

--आईएएनएस

आरआर