Uttarakhand Government
Uttarakhand Government
Home उत्तरप्रदेश यूरिया नहीं अब इफको की ये खाद बढ़ाएगी फसलों की उत्पादकता

यूरिया नहीं अब इफको की ये खाद बढ़ाएगी फसलों की उत्पादकता

Bareilly: विद्युत कर्मचारी निजीकरण के विरोध में शुरू करेंगे यह अभियान, सरकार को दी चेतावनी

विद्युत विभाग में निजीकरण किए जाने का विरोध तेजी से चल रहा है। इसके लिए विद्युत कर्मचारियों ने निजीकरण के विरोध में पंडित दीनदयाल...

सुशांत सिंह राजपूत केस में हो सकती है चौथी एजेंसी की एंट्री, केंद्र सरकार ने ड्रग्स संबंधी मामलों की जांच के लिए दी मंजूरी

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) में सीबीआई, ईडी, एनसीबी के बाद अब चौथी एजेंसी एनआईए भी शामिल हो सकती है। ड्रग्स...

तय समय से पहले समाप्त हो रहा है लोकसभा का मानसून सत्र, जानिए क्यों?

लोकसभा का मानसून सत्र (Monsoon Session) आज समाप्त हो जाएगा। आज लोकसभा (Loksabha) की कार्यवाही का आखरी दिन है। आज की कार्यवाही बुधवार शाम...

Covid-19: देशभर में एक दिन में मिले इतने संक्रमित कि कुल संख्या हो गई 56 लाख के पार

भारत में कोरोना वायरस (corona virus) के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से थोड़ी राहत देखने को...

सावधान! अपने बच्चों को डीजल से रखिए दूर, ले सकता है जान, देखिए पूरी घटना

दुनिया भर में तरह-तरह की अजीबोगरीब घटनाएं घटती रहती हैं, जो लोगों को हैरतअंगेज में डाल देती है। वहीं अब एक डेढ़ साल के...

फसलों की उत्‍पादकता बढ़ाने के लिए आंवला के इफको ने यूरिया का विकल्प खोज निकाला है। इफको (IFFCO) जल्द ही खाद के विकल्प में नैनो नाइट्रोजन खाद (Nano Nitrogen Fertilizer) लेकर आ रहा है। नैनो नाइट्रोजन खाद यूरिया की एक बोरी की तुलना में 500 मिली लीटर की एक बोतल ही उत्पादकता के लिए अधिक होगी। उसके दाम भी यूरिया (Urea) खाद से सस्ते होंगे।


इफको के एमडी डॉक्टर उदयशंकर अवस्थी ने बताया कि इफको अभी नैनो नाइट्रोजन खाद पर रिसर्च कर रहा है। संभव है कि साल के अंत तक यह खाद किसानों को उपलब्ध होने लगेगी। एमडी उदयशंकर अवस्थी ने यह भी बताया कि इफको केवल यूरिया ही नहीं बल्कि जिंक (Zinc) और कॉपर (Copper) के भी नैनो संस्करण तैयार कर रहा है। इससे किसानों की हालत में सुधार आएगा और कृषि क्षेत्र में क्रांति के साथ-साथ ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) में भी कमी आएगी।
नैनो नाइट्रोजन खाद की उत्पादन लागत यूरियों से कम होने की वजह से किसानों को यह कम रेट में उपलब्ध भी होगी। डॉ. उदयशंकर अवस्थी ने कहा कि यूरिया का एक बोरा सब्सिडी (Subsidy) के बिना 1100 रुपये का होता है और सब्सिडी के बाद इसकी कीमत 260 रुपये रह जाती है जबकि नैनो नाइट्रोजन बिना सब्सिडी के ही 260 रुपये से कम में मिल जाएगा।

Related News

Bareilly: विद्युत कर्मचारी निजीकरण के विरोध में शुरू करेंगे यह अभियान, सरकार को दी चेतावनी

विद्युत विभाग में निजीकरण किए जाने का विरोध तेजी से चल रहा है। इसके लिए विद्युत कर्मचारियों ने निजीकरण के विरोध में पंडित दीनदयाल...

सुशांत सिंह राजपूत केस में हो सकती है चौथी एजेंसी की एंट्री, केंद्र सरकार ने ड्रग्स संबंधी मामलों की जांच के लिए दी मंजूरी

सुशांत सिंह राजपूत केस (Sushant Singh Rajput Case) में सीबीआई, ईडी, एनसीबी के बाद अब चौथी एजेंसी एनआईए भी शामिल हो सकती है। ड्रग्स...

तय समय से पहले समाप्त हो रहा है लोकसभा का मानसून सत्र, जानिए क्यों?

लोकसभा का मानसून सत्र (Monsoon Session) आज समाप्त हो जाएगा। आज लोकसभा (Loksabha) की कार्यवाही का आखरी दिन है। आज की कार्यवाही बुधवार शाम...

Covid-19: देशभर में एक दिन में मिले इतने संक्रमित कि कुल संख्या हो गई 56 लाख के पार

भारत में कोरोना वायरस (corona virus) के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से थोड़ी राहत देखने को...

सावधान! अपने बच्चों को डीजल से रखिए दूर, ले सकता है जान, देखिए पूरी घटना

दुनिया भर में तरह-तरह की अजीबोगरीब घटनाएं घटती रहती हैं, जो लोगों को हैरतअंगेज में डाल देती है। वहीं अब एक डेढ़ साल के...

रिया और शौविक चक्रवर्ती की जमानत याचिका पर आज होगी सुनवाई, इससे पहले ये कहकर अदालत ने रद्द की थी याचिका

सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) ड्रग्स मामले  में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती को गिरफ्तार किया...